लोगों की जिंदगी को आसान बनाने के लिए भारत सरकार आधार कार्ड लाइ थी. नागरिकों को आधार के आने के बाद कई सुविधाएँ मिलीं जैसे मजदूरों को उनकी कमाई उनके खातों में पहुंचाने में सुविधा मिली और ऐसी ही कई और सुविधाएं भी नागरिकों को मिलीं.आपको बता दें कि आधार 12 अंकों की एक विशिष्ट संख्या होती है जिसे भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ज़ारी करता है. आज आधार कार्ड से ही जुड़ी एक और बड़ी ख़बर हम आपको बताने जा रहे हैं.

जी हाँ अमर उजाला के मुताबिक काफी समय से नागरिकों को आधार कार्ड बनवाने को लेकर एक समस्या आ रही थी कि जिन लोगों की बढ़ती उम्र और अधिक श्रम के कारण उनके हाथ की उँगलियों का बायोमेट्रिक प्रिंट्स ख़राब हो रहा था उन लोगों को सरकार ने बहुत बड़ी राहत दी है.

आपको बता दें कि इस परेशानी से निजात पाने के लिए भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने 1 जुलाई से आधार को प्रूफ पहचान पत्र साबित करने के लिए एक नयी तरकीब निकाली है. जिसमें जिन लोगों की उँगलियों के निशान नहीं आ पा रहे थे उन लोगों के लिए सरकार ने सभी प्रक्रियाओं को उनके चेहरे से पूरा करने की तैयारी कर ली गयी है. इस प्रक्रिया में बूढ़े लोगों की आँखों की पुतलियों से पहचान की जाएगी और साथ ही उँगलियों के निशान भी प्रूफ पहचान पत्र का विकल्प रहेगा.