अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने को लेकर देश में ऐसा तमाम दल हैं जो वोट बैंक के चलते हिन्दू धर्मों को महत्व नहीं देते, और उनका उत्पीड़न करते रहते हैं. बीते दिनों में रामनवमी का पर्व पूरे देश में हर्षोल्लास से मनाया गया. इस मौके पर पश्चिम बंगाल ही ऐसा राज्य रहा जहां से दंगे होने की ख़बरें आई. ऐसा नहीं है कि पश्चिम बंगाल में दो धर्म के मानने वालों में बवाल हुआ हो, ममता बनर्जी के राज में ऐसी वारदातें अक्सर होती रहती हैं. इसी को लेकर न्यूज़18 चैनल पर एक बहस हो में मौलाना ने अपनी सीमा लांघी तो बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा के साथ-साथ शो को होस्ट करे एंकर अमिश देवगन ने भी मौलाना की बोलती बंद कर दी.

बता दें कि यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. इसको लेकर जनसत्ता ने भी एक खबर अपने पोर्टल पर डाली है. इस खबर में एक वीडियो ऐसा है जिसमें मौलाना को संबित पात्रा और अमिश देवगन ने अच्छे से जवाब दिया है.

मौलाना ने हिन्दुओं के आराध्य भगवान श्रीराम को लेकर कहा कि “ये लोग राम का नाम लेकर दंगा करवाते हैं” बस फिर क्या था, संबित पात्रा ने अपने जवाबों से मौलाना की बोलती बंद कर दी.

इस मौलाना का नाम नदीमुद्दीन है और वो ऑल इंडिया उलेमा काउंसिल के मौलाना हैं. मौलाना नदीमुद्दीन ने कहा कि “राम के नाम पर दंगे किए जा रहे हैं.” इतना सुनते ही संबित पात्रा भड़क गये और मौलना को जमकर खरी-खोटी सुनाने लगे.

वीडियो में आप भी देखिये कि कैसे मौलाना की बोलती बंद हुई..