हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने पीएम मोदी के खिलाफ ट्विटर पर एक ट्रेंड चलाया था. इस ट्रेंड में उन्होंने लोगों से पीएम मोदी की एप्लीकेशन NAMO APP को डिलीट करने की मांग की थी लेकिन इसके बदले हुआ यह कि लोगों ने और भी ज्यादा इस APP  को डाउनलोड किया था. इस घटना के बाद कांग्रेस ने प्ले स्टोर से अपना APP हटा दिया था. यह सब इसलिए हुआ है क्योंकि कुछ ही दिन पहले फेसबुक का डाटा लीक हुआ था और यह काम करने वाली कंपनी है  कैंब्रिज एनालिटिका जो एक पॉलिटिकल कंसल्टेंसी फर्म है.

राहुल गाँधी ने लगाया ये था बीजेपी पर आरोप 

राहुल गाँधी ने लिखा था कि मोदी का नमो ऐप चोरी से आपके घर परिवार वालों का सारा निज़ी डाटा चोरी कर लेता है जैसे कि ऑडियो, वीडियो, कॉन्टेक्ट्स. इतना ही नहीं ये ऐप तो आपकी लोकेशन तक ट्रैक कर लेती है. मोदी जी बिलकुल बिग बॉस की तरह हैं जो नज़रें गड़ाए रहते हैं हर भारतीय पर..मोदी जी अब यही काम हमारे देश के बच्चों के साथ भी कर रहे हैं जैसे कि 13 लाख NCC के बच्चों पर दबाव डाला जा रहा है कि वो भी इस ऐप को डाउनलोड करें… आपको जानकर हैरानी होगी कि इस तरह का संगीन आरोप लगाने के बाद कुछ ही देर में कांग्रेस ने खुद अपनी ही ऐप हटा दी जिसके बाद उसकी खूब आलोचन भी हुई.

कैंब्रिज एनालिटिका के ही कर्मचारी ने देखिये राहुल गाँधी को लेकर क्या कहा था…

इसके बाद कैंब्रिज एनालिटिका के एक कर्मचारी व्हिसिल ब्लोअर क्रिस्टोफर वायली ने ब्रिटिश संसद के सामने राहुल की पोल खोली थी और कहा था  कि “कांग्रेस  कैंब्रिज एनालिटिका की  क्लाइंट हो सकती है” उन्होंने यह भी कहा कि  कैंब्रिज एनालिटिका का भारत में एक ऑफिस भी था जिससे जुड़े कुछ दस्तावेज भी उनके पास  हैं” 

ये है नया खुलासा जिसे देखकर सब साफ़ हो जायेगा…

ब्लोअर क्रिस्टोफर वायली के खुलासे के बाद कांग्रेस के कैंब्रिज एनालिटिका से कनेक्शन को लेकर एक और बड़ा खुलासा हुआ है. जी हाँ ये खुलासा उस वक्त हुआ जब एबीपी न्यूज ने  बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री सीक्रेट ऑफ सिलिकन वैली को ध्यान से देखा तो उसमें यह पाया कि कैंब्रिज एनालिटिका के लंदन स्थित हेड ऑफिस में सीईओ के कमरे में कांग्रेस के हाथ का पोस्टर दीवार पर टंगा हुआ है.  

हालांकि कहा जा रहा है कि बाद में इस डेटा लीक मामले को लेकर सीईओ निक्स को निलंबित भी किया जा चुका है. अब अंत में यह कहना गलत नहीं होगा कि जब बीजेपी ने यह बात कही थी कि कांग्रेस के तार कैंब्रिज एनालिटिका से जुड़े हुए हैं, तो उस समय बीजेपी गलत नहीं थी मगर फिर भी कांग्रेस ने इसे मानने से इनकार कर दिया था. अब जब इतना बड़ा खुलासा हुआ है तो देखना यह होगा कि अब कांग्रेस पार्टी और राहुल गाँधी कहाँ जाकर अपना मुंह छुपायेंगे.