देश के जाने-माने वकील राम जेठमलानी कभी पीएम मोदी के धुर प्रशंसक रह चुके हैं लेकिन इन दिनों बीजेपी से नाराज चल रहे हैं. बता दें कि राम जेठमलानी बीजेपी के नेता भी रह चुके हैं और अटल जी की सरकार में कानून मंत्री भी रह चुके हैं. अपने तेवरों के कारण उन्हें पार्टी से बाहर जाना पड़ा लेकिन अब वो मोदी के प्रशंसक नहीं बल्कि विरोधियों में गिने जाते हैं. दरअसल उनका जिक्र अचानक इसलिए भी आया क्योंकि संसद परिसर में राज्यसभा सांसद और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मुलाकात जब राम जेठमलानी से हुई तो जो नजारा देखने को मिला वो अपने आप में अनोखा था.

फाइल फोटो

जब अमित शाह के सामने आ गये राम जेठमलानी

जनसत्ता की खबर के मुताबिक 3 अप्रैल को संसद परिसर में काफी दिनों के बाद अमित शाह और राज्यसभा सांसद राम जेठमलानी एक साथ देखे गये. इसमें हैरानी की बात ये है कि अधिकतर मौकों पर देश के सबसे महंगे वकील राम जेठमलानी बीजेपी के खिलाफ बोलते रहते हैं लेकिन संसद परिसर में जैसे ही बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राम जेठमलानी एक दूसरे के आमने सामने आये, नजारा ही बदल गया.

Source: ANI

जब दोनों ने मिलाया हाथ

Source: ANI

बता दें कि जब दोनों एक दूसरे के आमने-सामने आये तो एक दूसरे से बेहद गर्मजोशी से मिले. दोनों के चेहरे पर एक हंसी थी. दोनों ने एक दूसरे का हाथ थोड़ी देर के लिए पकड़े रखा. ये अमित शाह के व्यक्तित्व का ही जादू है कि ये जानते हुए भी कि राम जेठमलानी मोदी सरकार की खिलाफत करते रहते हैं लेकिन उसके बाद भी उन्हें सम्मान देना नहीं भूले.

वैसे ये मुलाकात भले ही एक औपचारिक रूप में हो लेकिन जो तस्वीर सामने आई है उससे विरोधियों में बौखलाहट जरूर पैदा हुई होगी. राजनीतिक गलियारे में इस मुलाकात के अपने ही मायने निकाले जा रहे हैं.