ये तो जगजाहिर है कि भारत और नेपाल के बीच बेहद खास रिश्ता है, यह रिश्ता सिर्फ दो देशों की तरह नहीं बल्कि दो भाइयों की तरह है. भारत ने हमेशा बड़े भाई की तरह नेपाल की मदद की है और ठीक वैसे ही नेपाल ने भी छोटे भाई की तरह भारत से रिश्ते को निभाया है. पिछले कुछ समय से इस रिश्ते पर चीन की नजर पड़ गयी थी जिससे नेपाल का भारत से मोहभंग हो रहा था. अब भारत और नेपाल के बीच रिश्ते को एक नया आयाम देने के लिए पीएम मोदी 11 मई को दो दिनों के लिए नेपाल यात्रा पर होंगे. इस यात्रा पर चीन की खास नजर होगी. पीएम मोदी चाहते हैं कि नेपाल के साथ रिश्ते और प्रगाढ़ हों.

Source

दोनों देशों के बीच रिश्ते बेहतर करने के लिए पीएम मोदी ने नेपाल के जनकपुर जाकर अयोध्या और जनकपुर के बीच बस सेवा को हरी झंडी दिखाई. इस बस सेवा से अब नेपाल के लोग श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या जा सकते हैं और अयोध्यावासी माँ सीता की जन्मभूमि जनकपुर जा सकते हैं. इस बस सेवा से धार्मिक दृष्टिकोण से ही नहीं बल्कि रोजगार की नजर से भी दोनों देशों को फायदा मिलेगा.

जानकी मंदिर, जनकपुर, नेपाल

जब पीएम मोदी जनकपुर में स्थित माँ सीता के मंदिर में गये तो वहां उन्होंने कुछ ऐसा किया, जिसे देख सभी भारतीयों का दिल गदगद हो जायेगा.

Source

‘सीताराम’ नाम का जाप कर रहे लोगों को देख खुद को रोक नहीं पाए पीएम मोदी

ABP न्यूज़ के मुताबिक जनकपुर में माता सीता का एक मंदिर भी है, जिसकी नेपाल में काफी मान्यता है. इस मंदिर में पहुंचकर पीएम मोदी ने दर्शन भी किये. मन्त्रोच्चार चल रहे थे, घंटियां बज रही थीं, और इसके बीच पीएम मोदी मंदिर में प्रवेश करते हैं, जोकि उनकी माँ सीता के प्रति श्रद्धा को दर्शाता है. इस दौरान उन्होंने मंदिर में देखा कि कुछ लोग ‘सीताराम’ नाम का जाप कर रहे थे. इस जाप के बारे पता चला कि यह जाप पिछले 56 सालों से 24 घंटे होता है. इसको देखते ही पीएम मोदी खुद को रोक नहीं पाए और जाप कर रहे लोगों के साथ खुद भी शामिल हो गये. इस दौरान उन्होंने मंजीरा भी बजाय.

वीडियो: