इन दिनों मीडिया से लेकर सोशल मीडिया पर एक चिट्ठी काफी वायरल हो रही है जिसमें पीएम मोदी की हत्या की साजिश को लेकर बात लिखी है. इस चिट्ठी के बारे में पता चला है कि देश के भीतर कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनना रास नहीं आ रहा और उन्हें हटाने के लिए विरोध तो कर रही रहे हैं लेकिन साथ ही उनकी हत्या की साजिश भी कर रहे हैं. ABP के मुताबिक इसी मसले को लेकर JNU छात्र संघ की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद ने कुछ ऐसा ट्वीट कर दिया है कि अब उन्हें क़ानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है.

मोदी के अजेय होने से सभी विरोधियों की हवा खराब है (फोटो सोर्स)

JNU छात्र संघ की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद ने एक ट्वीट करते हुए मोदी सरकार में सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और आरएसएस पर आरोप लगाया है कि ‘नितिन गडकरी और संघ पीएम मोदी की हत्या की साजिश रच रहे हैं.’

शेहला रशीद का ट्वीट, जिसमें उन्होंने नितिन गडकरी और आरएसएस पर गंभीर आरोप लगाये हैं

इस ट्वीट से बुरे फंस गईं शेहला रशीद

इस ट्वीट के बाद अब शेहला रशीद बुरी तरीके से फंस गयी हैं. दरअसल शेहला रशीद ने ट्वीट तो कर दिया लेकिन जब गडकरी ने बिना नाम लिए इसका जवाब दिया तो उसमें क़ानूनी कार्रवाई की बात कही. गडकरी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, “जिन असामाजिक तत्वों ने पीएम मोदी की हत्या की साजिश को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की है, मैं उनके खिलाफ क़ानूनी कार्रवाई करने जा रहा हूँ.”

नितिन गडकरी ने शेहला रशीद का नाम लिए बिना ही क़ानूनी कार्रवाई की बात कही

जब क़ानूनी कार्रवाई की बात हुई तो शेहला बैकफुट हुईं

हालाँकि क़ानूनी कार्रवाई की बात को लेकर नितिन गडकरी ने शेहला रशीद का नाम तो नहीं लिया लेकिन इसके बाद भी शेहला रशीद नितिन गडकरी के इस ट्वीट से सहम गईं. जिसके जवाब में उन्होंने एक और ट्वीट किया और उसमें कहा कि ‘उनका ट्वीट तो व्यंगात्मक था.’

महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा का एक दृश्य (फोटो सोर्स)

क्या है पूरा मामला

याद होगा आपको, तारीख 1 जनवरी 2018, भीमा कोरेगांव में हिंसा हुई थी. उस हिंसा के मामले में कुछ नक्सलवादी नेता भी पकड़े गये हैं. इन लोगों के पास से हार्ड डिस्क और ई-मेल मिले हैं. जिनमें पीएम मोदी की हत्या करने की साजिश की बात सामने आई है. इस खबर के बाद तो मानों देश में सनसनी फ़ैल गयी. पड़ताल से पता चला हैं कि इन नक्सली नेताओं ने पीएम मोदी की हत्या देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी की तरह करने की बात कही है. सनसनी फ़ैलाने वाली यह चिट्ठी जब मीडिया में आई तो सामने आया कि ‘कॉमरेड’ जैसे शब्द का इस्तेमाल हुआ है और कहा गया है कि ‘मोदी हमारे लिए खतरा बनते जा रहे हैं, इसलिए उनकी हत्या जरुरी है.’

शेहला रशीद (फोटो सोर्स)

कौन हैं शेहला रशीद

आपको बता दें कि शेहला रशीद सीपीआई-माले के छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टुडेंट एसोसिएशन से जुड़ी हुई हैं. शेहला JNU छात्र संघ की उपाध्यक्ष भी रह चुकी हैं. इन्हें अक्सर बीजेपी के खिलाफ बोलते हुए देखा जाता है. श्रीनगर की रहने वाली शेहला रशीद JNU से पीएचडी कर रही हैं. माना तो ये भी जा रहा है कि वो 2019 के आम चुनाव में भी हिस्सा ले सकती हैं.