जहाँ एक तरफ ये कहा जाता है कि देश में आईएएस आईपीएस का इम्तिहान सबसे कठिन होता है और इम्तिहान से भी कठिन होता है आईएएस-आईपीएस का इंटरव्यू, लें यहाँ एक सवाल तो शायद हम सबके ही जहन में हो कि अगर इम्तिहान और इंटरव्यू इतने कठिन होते हैं तो यकीनन ही इसका परिणाम भी हटके होता होगा. हैना? जी हाँ अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो आप बिलकुल सही हैं. आईएएस-आईपीएस जैसे ओहदे जहाँ शुरुआत में ज़िम्मेदारी और कठिनाइयों से भरपूर होते हैं वहीँ एक बार नौकरी मिलने के बाद इस पद का रौब, जिम्मेदारी और अधिकार भी काफी अनोखे होते हैं.

source

तो आइये आज हम अपनी इस पोस्ट के जरिये आपको बताते हैं एक आईपीएस अधिकारी के उन अधिकारों को बारे में जिनकी जानकारी बहुत से लोगों को नहीं होती है.

यहाँ सबसे पहले जान लीजिये एक आईपीएस के प्राथमिक अधिकार

तो अगर हम बात करें एक आईपीएस अधिकारी के प्राथमिक अधिकार के बारे में तो वो ये होता है कि उन्हें ये सुनिश्चित करना होता है कि  उनके अधिकार क्षेत्र में लोग सुरक्षित रहे और जिले में सारे अधिकारी कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए काम करते रहे. तो चलिए ये तो हुआ एक आईपीएस अधिकारी का प्राथमिक अधिकार अब जानिए क्या होती हैं एक IPS अधिकारी की सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां?

•अपराधों को रोकना
•दुर्घटनाओं को रोकना (सामाजिक, आर्थिक आदि)
•आपदा संचालन
•अपराधों की जांच
•प्राथमिक सूचना रिपोर्ट(FIR) के लिए पंजीकरण
•राजनीतिक / धार्मिक कार्यों के लिए अनुमति प्रदान करना

…लेकिन यहाँ ये भी जानना ज़रुरी है कि एक आईपीएस अधिकारी के कुछ अकथित अधिकार और अनूठी जिम्मेदारियां भी होते हैं, जैसे कि, तो ये बात तो सभी जानते हैं कि पुलिस बल एक ऐसी जगह है जहां आप अगर पुलिस होने के नाते ठान लें तो वाकई समाज में कई बदलावला सकते हैं. लेकिन अफ़सोस की बात है कि भारत में अगर मौजूदा हालात खंगाले तो कई मुद्दों में पुलिस के लिए काम करने की स्थिति आदर्श से काफी दूर हैं. ऐसे में अक्सर ही देखा गया है कि हमारे IPS आधिकारियो को उन परिस्थितियों में काम करना पड़ता है. सिर्फ इतना ही नहीं, IPS को कानूनी व्यवस्था के ढांचे के भीतर रह कर काम करना होता है, जो कि आपने आप में काफी प्रतिबंधात्मक और धीमी गति से चलता है.

IPS सभी आंतरिक सुरक्षा बलों का नेतृत्व करता है:

इन सारी बातों का निष्कर्ष: 

इतना कुछ जानने के बाद एक बात तो तय है कि एक आईपीएस की नौकरी अपने साथ बहुत सारी जिम्मेदारी लेकर आती है. एक IPS अफसर अक्सर सबसे खराब समाज के चेहरे के संपर्क में आता है और कभी-कभार सबसे अच्छे चेहरे के भी. यानी की कम शब्दों में समझाने की कोशिश करें तो भारतीय  पुलिस बल का हिस्सा बनना कोई आसान काम नहीं है लेकिन यह सेवा लगातार लोगों के साथ काम करने का का अनोखा अवसर भी देती है. कहना गलत नही होगा कि आईएएस की नौकरी एक सामाजिक सेवा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here