अबतक आपने शांगहाई से पाकिस्तान की कई ख़बरों के बारे में सुना होगा लेकिन आज की ये खबर सबसे ज्यादा हैरान कर देने वाली है| खबर है चीन के शांगहाई में हुई एक मीटिंग के दौरान पाकिस्तान की एक ऐसी नीच हरकत या यूँ कहिये ऐसी घटिया हरकत की जिसने ना सिर्फ पाकिस्तान की वहां मौजूद 7 देशों के सामने पाकिस्तान की नियत दिखाई बल्कि पाकिस्तान की खूब किरकिरी भी करायी|

source

दरअसल चीन की राजधानी बीजिंग में संगमरमर के महल और सजावटी तालाब को दिखाने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। ये कार्यक्रम शंघाई सहयोग संगठन में शामिल देशों में मौजूद ऐतिहासिक इमारतों की प्रदर्शनी को लेकर किया गया। एससीओ में भारत और पाकिस्तान के शामिल होने पर उनका स्वागत भी किया गया था| मकसद था इस अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अपने देश की अनोखी धरोहर को पेश करना जहाँ पाकिस्तान ने एक बार फिर कर दिया कुछ ऐसा जिसके बाद…

इस प्रदर्शनी में कजाकिस्तान ने तैमूर विरासत को मुगल साम्राज्य की विरासत कहा। एससीओ में चीन, रूस, चार ऐशियाई देश जिनमें कजाकिस्तान, उजबेकिस्तान, किर्गीस्तान और तजाकिस्तान शामिल है, ने इस प्रदर्शनी में भाग लिया, लेकिन जब बात पाकिस्तान की आई तो उसने भारत के लाल-किले को अपना बता डाला| जी हाँ इस प्रदर्शनी में भारत और पाक दोनों ने ही शाहजहां की विरासत पर अपना दावा पेश किया।

source

भारतीय राजनायिकों ने इस पर आपत्ति जताई तो पाकिस्तानी अधिकारी ने इसे चूक माना लेकिन इस पूरे मामले में सबसे मजेदार बात तो यह रही कि स्मारक पर भारतीय झंडा साफ तौर पर दिख रहा था|

देखिये वीडियो:

यह पाकिस्तान की झांकी में शामिल था, जिस पर शीर्षक लिखा था, “लाहौर में किला एवं शालीमार गार्डेन (1981)|”  झांकी में शामिल पाकिस्तानी महिला ने नाम न जाहिर करने पर कहा, “यह एक गड़बड़ी है, भारतीय व पाकिस्तानी दोस्त हैं|”