भारत में जबसे मोदी सरकार आई है तबसे भारत लगातार प्रगति कर रहा है l पीएम मोदी ने शुरू से ही कई विदेश यात्रा की हैं और हमेशा से ही भारत का नाम दुनिया भर में रोशन किया है l इधर भारत का पड़ोसी पाकिस्तान लगातार नापाक हरकतें कर रहा है और भारत के हर काम में रोड़ा बना हुआ है l आपको बता दें हाल ही में पाकिस्तान ने कई भार भारतीय सीमा पर हमला किया था जिसके बदले में उन्हें हर बार भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया है l

source

दरअसल भारत अफगानिस्तान के साथ कारोबार के लिए दिल्ली-काबुल के बीच रोड कॉरिडोर बनाने की कोशिश में था l सबसे ख़ास बात ये रही यह रास्ता पाकिस्तान से होकर गुजरता l  इसलिए पाकिस्तान ने इस पर एतराज जताया, इस कॉरिडोर के बनने से भारत न केवल काबुल बल्कि अफगानिस्तान से सटे देशों से भी कारोबारी रिश्ते बेहतर कर सकता था l भले ही पाकिस्तान ने अपने देश से होकर गुजरने वाली सड़क को मंजूरी नहीं दी हो लेकिन भारत भी कहां चुप बैठने वाला था l

 बता दें भारत और अफगानिस्तान के बीच एक नया हवाई कॉरिडोर बनाया गया है, जो पाकिस्तान को बाइपास करता हुआ निकल रहा है l  उद्घाटन के बाद काबुल से चला एक मालवाहक विमान नई दिल्ली में आकर उतरा है। हवाई कॉरिडोर दोनों देशों के बीच व्यापारिक संबंधों को बढ़ावा देने के साथ चारों ओर से जमीन से घिरे अफगानिस्तान को भारत के बाजारों तक पहुंच देगा l अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने काबुल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक समारोह में पहले अफगानिस्तान-भारत हवाई कॉरिडोर का उद्घाटन किया। यह गलियारा दोनों देशों के बीच सीधा रास्ता होगा जो पाकिस्तान से होकर नहीं गुजरेगा। इसका उद्देश्य बेहतर वाणिज्यिक संबंध बनाना है। गनी ने कहा कि इस मार्ग का उद्देश्य और अवसर पैदा करना और अफगानिस्तान को निर्यातक देश बनाना है।

source

उनके सलाहकार सदीकुल्ला मुजादेदी ने कहा कि अफगानिस्तान के कृषि उत्पाद पहली बार मालवाहक विमानों से भारत जाएंगे। मुजादेदी ने कहा कि सोमवार को पहली उड़ान भारत गई, जबकि दूसरी उड़ान अफगानिस्तान के दक्षिणी कंधार प्रांत से जाएगी, जिसमें 40 टन मेवा जाएगा।  नए कॉरिडोर से अफगानिस्तान के किसानों को खराब होने वाली वस्तुओं की भारतीय बाजारों तक जल्द और सीधी पहुंच से लाभ होगा। एक समपर्ति हवाई कॉरिडोर के उद्घाटन के बाद मालवाहक विमान काबुल से दिल्ली पहुंचा। इस संबंध में सितंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी के बीच बैठक में निर्णय किया गया था।

पीएम मोदी ने ट्वीट करके कहा कि भारत और अफगानिस्तान के बीच सीधा हवाई संपर्क ‘समृद्धि लेकर आएगा।’ उन्होंने कहा, ‘ मैं राष्ट्रपति अशरफ गनी को उनकी इस पहल के लिए धन्यवाद देता हूं।’ विमान के 60 टन माल में से ज्यादातर हींग थी। विमान की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, नागरिक उड्डयन मंत्री गजपति राजू, विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर आदि ने अगवानी की।

काबूल से चले इस विमान को अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी ने खुद हरी झंडी दिखाई थी. उनके साथ अफगानी कैबिनेट के कुछ मंत्री और अफगानिस्तान में भारतीय दूत मनप्रीत वोहरा भी मैजूद थें l दिल्ली आए इस विमान का भार 60 टन है l  जिसमें ज्यादतर हींग का आयात हुआ है. इससे पहले 18 जून को एक कार्गो विमान दिल्ली से काबूल गया था l  उसमें 100 टन माल भरा था. जिसमें दवाइयां, वाटर प्यूरीफायर और स्वास्थ से जुड़ी सामान थीं l