कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने असम में एक रैली के दौरान मोदी का करारा जवाब दिया। उन्होंने मोदी पर चुन चुन कर हमले किये लेकिन आत्मविश्वास के अभाव में कुछ तथ्यहीन बातें करके वे हंसी के शिकार हो गए और देखते ही देखते ट्विटर पर ट्रेंड करने लगे। लोगों ने कहा कि जब तक देश में अनपढ़ लोग रहेंगे उन्हें राहुल गाँधी जैसे लोग आसानी से बेवकूफ बनाते रहेंगे। कुछ लोगों ने यह भी कहा कि मोदी विकास की बातें करते हैं लेकिन राहुल गाँधी सिर्फ मोदी को कोसते हैं। कुछ लोगों ने यह भी कहा कि राहुल गाँधी भाषण के दौरान सफ़ेद झूठ बोलते हैं क्योंकि ललित मोदी उनकी सरकार में भागे थे लेकिन उन्होंने कहा कि मोदी ने भगा दिया, उन्होंने विजय माल्या के बारे में कहा दो 4-5 सूटकेस के साथ रूपया लेकर भाग गया लेकिन विजय माल्या कांग्रेस सरकार के समय में ही दिवालिया हो गया था।

वीडियो देखने के लिए क्लिक करे..

यही नहीं उन्होंने कहा कि बीजेपी ने हरियाणा में जाट और गैर जाट में दंगा करा दिया, जबकि जाटों ने आरक्षण के लिए आन्दोलन किया था और इस दौरान हिंसा हुई थी, आन्दोलन भड़काने के लिए कांग्रेस नेता बीरेंद्र सिंह पर ही आरोप लगे जो कि पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा के सलाहकार हैं। आग भड़काने के आरोप में वे जेल में भी बंद हैं।

राहुल ने कहा कि मोदी जी आते हैं, वायदे करते हैं और फिर चले जाते हैं, पिछले चुनाव में मोदी जी आये थे और उस चुनाव में असम की जनता ने मोदी जी पर भरोसा करके वोट दिया था। मोदी ने कहा था कि हिंदुस्तान से कालाधन विदेशी बैंकों में भेज दिया गया है, वे आयेंगे तो कालाधन लाएंगे और सभी के बैंक खाते में 15-15 लाख डालेंगे। मोदी सरकार में वित्त मंत्री अरुण जेटली एक नया कानून लाये हैं जिसमें लिखा है कि कोई भी चोर कालेधन का टैक्स देकर उसे सफ़ेद में बदल सकता है, उसके बारे में मोदी जी ने आपसे कुछ नहीं कहा। उन्होंने कहा कि मोदी जी ने आपसे यह भी नहीं बताया कि पार्लियामेंट में मोदी के मंत्री विजय माल्या से मिले और विजय माल्या आसानी से छः सूटकेस लेकर आसानी से देश के बाहर भाग गया।

source
source

उन्होंने कहा कि मोदी जी ने आपसे यह भी नहीं बताया कि ललित मोदी जिसके पास हजारों करोड़ का कालाधन है, वो बाहर भाग गया और उसको भी वापस लाने की कोशिश नहीं हुई। उन्होंने कहा कि मोदी ने आपसे वादा किया था कि मोदी ने लोकसभा चुनाव में वादा किया था कि लोकसभा में बीजेपी को वोट दो, मै असम को बदल डालूँगा लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया, विशेष राज्य कर दर्जा भी छीन लिया।

राहुल गाँधी ने कहा कि जहाँ भी बीजेपी जाती वो लोगों को लड़ाने की कोशिश करती है। हरियाणा में 10 साल तक कांग्रेस की सरकार थी और पूरी तरह से शांती थी, उस दौरान ना कोई दंगा हुआ, ना कोई हिंसा हुई और ना ही लोगों में गुस्सा हुआ, बीजेपी सरकार आती है तो महीने के अन्दर वहां पर दंगा शुरू हो जाता है। जाट और गैर जाट में लड़ाई शुरू हो जाती है। (राहुल गाँधी का यह भी सफ़ेद झूठ था क्योंकि दंगा भड़काने का आरोप उन्हों के नेता पर लगा है, उनके नेता बीरेंद्र सिंह का टेप भी जारी हुआ है और वो जेल में भी बंद हैं)।

 उन्होंने कहा कि गुजरात के बारे में आप जानते हो, बिहार में भी चुनाव से पहले ये लड़ाई करा देते हैं (राहुल गाँधी का यह भी सफ़ेद झूठ था क्योंकि बिहार में चुनाव से पहले बीजेपी से कोई दंगा नहीं कराया)। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में भी उन्होंने लड़ाई करा दी और असम में भी बीजेपी वाले लड़ाई कराने की कोशिश कर रहे हैं। राहुल ने कहा कि असम में हिंसा ख़त्म हो चुकी है और भाई चारा आ गया है उसको ये ख़त्म कर देंगे। (मतलब वो मान रहे हैं कि हमारी सरकार के दौरान यहाँ पर हिंसा हुई और अब भाईचारा आया है)।

राहुल ने कहा कि मोदी आपकी नहीं सोचते हैं, असम की नहीं सोचते हैं, वे सिर्फ एक विचारधारा पूरे देश पर थोपना चाहते हैं। आरएसएस वाले कहते हैं कि पूरे हिंदुस्तान के ऊपर एक ही सोच डाली जाएगी। राहुल ने कहा कि मै आपसे पूछना चाहता हूँ, अगर पूरे हिंदुस्तान के ऊपर एक ही सोच डाली जाएगी तो आपकी भाषा का क्या होगा, आपके कस्टम्स का क्या होगा, आपके इतिहास का क्या होगा, क्योंकि यह देश किसी एक का नहीं है, किसी एक सोच का नहीं है, इस देश के अलग अलग लोग रहते हैं, इस देश की अनेक भाषाएँ हैं, अलग अलग सोच है, अलग अलग इतिहास है, हम चाहते हैं कि हर एक व्यक्ति सोचकर काम करे, अपनी भाषा का वह प्रयोग करे और किसी को इस देश में दबाया जा जाय।

source
source

उन्होंने कहा कि – बीजेपी असम के क्या करना चाहती है, वे पहले यहाँ आयेंगे और आप से कहेंगे कि हमें वोट दीजिये और फिर असम को नागपुर या प्रधान मंत्री निवास से चलाया जाएगा। हम चाहते हैं कि असम को असम से चलाया जाय, यहाँ अपनी सोच से काम करो, हम विकेंद्रीकरण चाहता हैं, हम चाहते हैं कि हर व्यक्ति को ताकत मिले और जो वह सोचता है वही करे। हम किसी व्यक्ति के ऊपर एक ही सोच थोपना नहीं चाहते हैं। कांग्रेस का मकसद है कि अलग अलग विचारधाराओं के लोग, अलग अलग सोच के लोग एक साथ मिलकर एक दूसरे को आगे बढायें, बीजेपी इसको ख़त्म करना चाहती है। आप मुझसे लिख ले लो, इनका काम सिर्फ तोड़ने का काम है।

हमारे समय में तेल का दाम एक बैरल 140 डॉलर पर था, मोदी जी आये और आज वो 30 डॉलर पर आ गया, हजारों करोड़ रुपये हिंदुस्तान की सरकार को मिले लेकिन मंहगाई बहुत ही अधिक बढ़ गयी। शायद इतिहास में पहली बार दाल 200 रुपये प्रति किलो हो गयी। चीनी का दाम बढ़ गया, कुकिंग आयल का दाम बढ़ गया, आलू का दाम बढ़ गया, लेकिन मोदी यहाँ आये तो उन्होंने मंहगाई की बात नहीं की।

source
source

 उन्होंने अपने भाषण में नहीं कहा कि मैंने महगाई कम की, उन्होंने इसलिए नहीं कहा क्योंकि महगाई बढ़ गयी। उन्होंने अपने वादों के बारे में एक शब्द नहीं कहा। क्या आपने ध्यान दिया, राहुल ने कहा कि मोदी ने चीनी और आलू के दाम भी बढ़ा दिए, जबकि दोनों चीजों के दाम इस वर्ष 20 वर्षों में सबसे सस्ते रहे। चीनी एक समय 25 रुपये तक आ गयी थी और आज भी 35 के आस पास है जबकि आलू पिछले 4-5 महीनों ने 10 रुपये में मिल रहा है।