एक समय ऐसा था जब भारत दुनिया द्वारा नज़रअंदाज़ किया जाता था भारत को दुनिया एक गरीब देश बताती थी लेकिन बदलते वक्त के साथ भारत का लोहा पूरी दुनिया ने माना. अब भारत हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है जल, थल, वायु और आकाश हर जगह भारत ने अपनी ताकत दुनिया को दिखाई है. भारत के पड़ोसी मुल्क भी अब भारत से घबराते हैं. अब उनकी हिम्मत नहीं होती कि वो भारत की ओर आँख उठाकर देखें.

source

आपको बता दें कि भारत एक परमाणु शक्‍ति है और दुनिया में पांचवे नंबर की सामरिक ताकत है. भारत के पास कुछ ऐसे हथियार और मिसाइलें हैं, जिनका लोहा पूरी दुनिया मानती है. आज हम आपको बताते हैं इंडियन आर्मी के उस हथियार के बारे में जिसकी टेस्‍टिंग के बाद चीन ने कड़ी आपत्‍ति जताई थी. यही नहीं इस हथियार की ताकत से चीन खौफ खाने लगा है. इसके पीछे बड़ी वजहें हैं जो चीन की नींदें उड़ी हुई हैं.

दरअसल, भारत ने अग्‍नि-5 के रूप में एक ऐसी मिसाइल का निर्माण किया है जो सतह से सतह तक मार करने में सक्षम है. इस मिसाइल का सफल परिक्षण पिछले साल ओडिशा तट से दूर व्हीलर द्वीप में किया गया था. इस मिसाइल को DRDO ने विकसित किया है. यह 5 हजार किलोमीटर की दूरी तक मार करने की क्षमता रखती है. इस मिसाइल की रेंज में चीन का उत्तरी हिस्सा भी होगा. यह मिसाइल 17 मीटर लंबी, 2 मीटर चौड़ी है और इसका वजन 50 टन है.

source

रक्षा सूत्रों की मानें तो यह भारत की सबसे शक्‍तिशाली बैलेस्‍टिक मिसाइल है. ये अग्‍नि सीरीज में भारत की पांचवी मिसाइल है. रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक़ अग्‍नि सीरीज में 19 अप्रैल, 2012 को इसका पहला, 15 सितंबर, 2013 को दूसरा और 31 जनवरी, 2015 को तीसरा परीक्षण किया गया. सूत्रों के मुताबिक यह अग्नि सीरीज की सबसे आधुनिक मिसाइल है, जिसमें नेविगेशन, गाइडेंस, वारहेड और इंजन से जुड़ी नई तकनीकों को शामिल किया गया है.

ये मिसाइल महज़ 20 मिनट में 5 हज़ार किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकती है. इसके अलावा पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और चीन, रूस, मलेशिया में किसी भी लक्ष्य को भेद सकती है. यानी एशिया और यूरोप के अलावा अफ़्रीका के कुछ हिस्से भी इसकी ज़द में है. अग्नि-5 मिसाइल एक साथ कई ठिकानों पर हमला करने की क्षमता रखती है. अग्नि-5 मिसाइल की गति ध्वनि की गति से 24 गुना ज़्यादा है.

source

भारत की अग्‍नि सीरीज की इन सभी मिसाइलों के सफल परीक्षण को लेकर चीन लगातार आपत्‍ति जताता रहा है. विशेष रूप से चीनी मीडिया में भारत के प्रयासों को कटघरे में खड़ा किया गया है. सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने अपने संपादकीय में लिखा कि भारत ने परमाणु हथियारों और लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों की अपनी होड़ में संयुक्त राष्ट्र की सीमाओं का उल्लंघन किया है.