जम्मू-कश्मीर से लगातार तनाव की खबरे आ रही हैं| मौजूदा समय में जम्मू-कश्मीर में भड़की हिंसा कुछ इस कदर बढ़ गयी है जिसके चलते एक डीएसपी की जान चली गई। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक बीते गुरुवार रात को श्रीनगर इलाके में भीड़ ने थाने के डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित की पीट-पीटकर हत्या कर दी। ये वाकया गुरुवार की रात का है जब जामा मस्जिद के बाहर फायरिंग के दौरान इस मामले ने तूल पकड़ लिया है।

इस शर्मनाक हरकत के वक़्त नौहट्टा में मौजूद मस्जिद के पास कुछ गुस्साए लोगों की भीड़ ने डीएसपी अयूब पंडित को मार-मारकर अधमरा कर दिया| ज़ख्म इतने गहरे थे कि इस घटना के कुछ वक़्त के अन्दर ही उनकी मौत हो गई। डीएसपी मोहम्मद अयूब की इस दुर्भाग्यपूर्ण मौत पर सीएम महबूबा मुफ्ती ने आखिरकार चुप्पी तोड़ते हुए बयान दिया है| महबूबा मुफ़्ती ने मोहम्मद अयूब को श्रद्धांजलि दी है और इसे एक शर्मनाक घटना बताया है।

source

इस शर्मनाक मुद्दे पर महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की पुलिस सबसे सक्षम पुलिस है लेकिन अपने लोगों से निपटने में पूरे संयम का परिचय दे रही है। शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा, “अगर पुलिसवालों के संयम का यही परिणाम है तो फिर बहुत मुश्किल होने वाली है। यह कितने समय तक चलेगा? मैं लोगों से कहना चाहती हूं कि अगर यह चलता रहा तो स्थितियां वैसी ही हो जाएंगी जैसी थीं, जब लोग पुलिस की जीप सड़क पर देखकर भागा करते थे।”

source

बताया जा रहा है कि डीएसपी ने नौहट्टा इलाके में मस्जिद के बाहर फायरिंग की थी और इस फायरिंग में तीन लोग जख्मी हो गए थे। इससे भीड़ उग्र हो गई और डीएसपी को एक किलोमीटर तक पीटते हुए ले गई। पिटाई से सिक्योरिटी विंग के डीएसपी की मौत हो गई। यह भी बताया जा रहा है कि डीेसपी ने फायरिंग के लिए अपनी पिस्टल निकाली थी और तीन बार फायर किया, जिसमें कुछ लोग घायल हो गए थे। इसके बाद वहां मौजूद गुस्साई भीड़ ने डीएसपी पर अचानक हमला कर दिया। जिसमें वह बुरी तरह घायल हो गए और कुछ ही देर में दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद से नौहट्टा में कर्फ्यू लगा दिया गया है।