भारतीय फ़ौज दुनिया में सशक्त फौजों में से एक है. भारतीय फ़ौज दूर कई देशो में बने हथियारों को इस्तेमाल किया जाता हैं. भारत में अमेरिका, रूस, इजराइल से बने हथियार मंगवाए जाते हैं लेकिन बहुत कम ही लोगों को पता होगा की भारत में भी कुछ ऐसे हथियार बनाए जाते हैं जो दुनिया के कई देशों में भेजे जाते हैं, इनमें से ही एक खास हथियार अमेरिका,ब्रिटेन जैसे देशों को भेजा जाता है. इस हथियार का इस्तेमाल भारतीय फ़ौज भी करती है और इसे बनाया जाता है उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में.

 

आपको बता दें कि पीएम मोदी की वाशिंगटन यात्रा से महज तीन दिन पहले अमेरिका ने भारत को 22 गार्जियन ड्रोन की बिक्री को मंजूरी दे दी. ये सौदा दो से तीन अरब डॉलर का होगा. ये ऐसी पहली डील है, जो अमेरिका ने किसी गैर नाटो सदस्य देश के साथ की है. प्रधानमंत्री की वाशिंगटन यात्रा से पहले इस सौदे की मंजूरी को द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने की दृष्टि से बड़ा फैसला वाला माना जा रहा है. लेकिन भारत भी अमेरिका को एक  हथियार दशकों से देता रहा है.

 

भारत से विदेशों में भेजे जाने वाले इस हथियार का बखान भारत कभी नहीं करता जबकि अमेरिका औए ब्रिटेन जैसे देश अपने हथियारों की बड़ाई करते नहीं थकते. आज हम आपको भारत से विदेशों में भेजे जाने वाले इस हथियार के बारे में सारी जानकारी देंगे. क्या आपको पता है कि अमेरिकी आर्मी का  भारत कनेक्शन जिसकी वजह से अमेरिका की शक्ति का दुनिया लोहा मानती है. आप खुद इस वीडियो में देख लीजिये.

भारत में कई  ऐसी चीजें है जो पूरी दुनिया में भेजी जाती है और दुनिया के बाज़ार में जिनकी काफी डिमांड है. लेकिन फिर भी भारत कभी भी इनको लेकर बड़बोलापन नहीं दिखाता है. पीएम मोदी वक्त आने पर दुनिया को दिखा देते है की भारत किसी भी चीज में किसी भी देश से पीछे नहीं है.