भारत और चीन के रिश्ते एक बार फिर तल्ख़ हो गए हैं. दोनों देशों के कई सैनिक सीमा पर तैनात किये जा चुके हैं. भारत और चीन के बीच बात-चीत चल रही है लेकिन विवाद का हल क्या है ये अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है. इस विवाद में भारत, चीन के साथ भूटान भी शामिल है. रणनीतिकारों का कहना है कि चीन अपनी पकड़  बनाने के लिए इस इलाके में सड़क बनाने की कोशिश कर रहा है.

source

भारत चीन के बीच की विवाद की जड़ है एक सड़क, जिसे चीन बनाना चाहता है, जहाँ ये सड़क बनाने की कोशिश चीन कर रहा है वो जगह सामरिक दृष्टि से बेहद अहम समझी जाने वाले चुंबी घाटी है. यह जगह भारत और भूटान से सटी हुई है और इसी वजह से ये बेहद अहम है. भारत ने चीन द्वारा इस क्षेत्र में सड़क बनाए जाने के मंसूबे को पूरा नहीं होने दिया तो चीन इस बात से चिढ़ गया और भड़की चीनी सेना ने भारत के बंकरों को तोड़ डाला और कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले भारतीय यात्रियों को भी चीन के द्वारा रोक दिया गया.

source

चीन जिस चुंबी घाटी को लेकर भारत से उलझ रहा है वहां पर भारत को रणनीतिक बढ़त हासिल है, इसीलिए चीन इस हालत को बदलना चाहता है. चीन अपनी विस्तारवादी नीति के चलते ये सब कर रहा है. वो नहीं चाहता कि भारत को इस क्षेत्र में रणनीतिक बढ़त मिले और इसी वजह से वो भारत को पीछे ढकेलने की कोशिश कर रहा है. भारत ने उसके इस मंसूबे को पूरा नहीं होने दिया तो उसने मानसरोवर यात्रा पर रोक लगा दी. ये पहली बार हुआ है जब चीन ने ऐसा कदम उठाया.

source

चीन की जल सीमा से भारत की जल सीमा ज्यादा है इसलिये वो चाहता है कि उसकी पकड़ थल क्षेत्र में हो ताकि वो भारत को घेर सके लेकिन भारत उसे ऐसा नहीं करने देगा. चीन की खीज की बड़ी वजहों में से ये भी एक बड़ी वजह है. पहचान न बताने की शर्त पर एक विशेषज्ञ ने बताया, ‘भारत को चुंबी घाटी में चीनी सड़कों का निर्माण नहीं होने देना चाहिए. यह चीनी विस्तारवाद का एक हिस्सा है, जिससे भारत और भूटान दोनों की ही सुरक्षा को खतरा है.