देश में अगर कोई एक ऐसा मौका है जो हर वक़्त विपक्ष की ज़ुबान पर बैठा रहता है तो वो है पीएम मोदी का विदेश दौरा| यूँ तो अब देश का हर एक नागरिक ये समझ चुका है कि विदेश दौरों के पीछे पीएम मोदी का क्या कारण है लेकिन वक़्त-बेवक्त विपक्ष की तरफ से ये मुद्दा उठा कर मोदी सरकार को बदनाम करने में शायद ही कोई कसर छोड़ी गयी है| बात करें अगर अभी की तो हल ही में पीएम मोदी अपने तीन देशो के दौरे से लौट कर भारत आये हैं और अगले महीने की 4 से 6 को एक बार फिर फॉर इज़राइल दौरे पर विदेश रवाना होने वाले हैं, लेकिन इसी बीच पीएम मोदी के इन बार-बार हो रहे विदेश दौरे से जुड़ी एक ऐसी खबर आई है जिसे सुनकर उसपर ठीक तरह से यकीन कर पाना वाकई नामुमकिन सा लगता है|

source

पीएम मोदी ने देश को विदेश दौरे का नया तरीका सिखाया है, वो ऐसे कि…

बात करें अगर पीएम मोदी के इन विदेश दौरों की खासियत की तो कहा जाता है कि प्रधानमंत्री मोदी अपने इन विदेश दौरों के साथ ही विदेशी दौरों का एक नया पैटर्न देश में लेकर आये हैं।  अगर अपने गौर किया हो तो पीएम मोदी जब भी किसी अहम देश के दौरे पर जाते हैं तो वह उसके आसपास के देशों का भी दौरा कर के ही वापिस आते हैं| कहा जाता है कि पीएम मोदी ऐसा इसलिए करते हैं क्‍योंकि वह कम से कम समय में ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों तक पहुंचना चाहते हैं। पीएमओ की मानें तो पीएम मोदी ने अपने विदेशी दौरे के दौरान समय की बचत के लिए पीएमओ को खास निर्देश दिए हैं।

source

होटल का बिल बचे इसलिए प्लेन में ही सो जाते हैं पीएम मोदी

विदेश दौरों के दौरान पीएम मोदी के बारे में एक बड़ा खुलासा करते हुए हाल ही में पीएमओ की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक पीएम मोदी अपने इन दौरों के दौरान  प्‍लेन में ही सोना पसंद करते हैं और वह किसी होटल में नहीं रुकते हैं। हालाँकि पीएमओ ने यह भी बताया है कि पीएम ऐसा तब ही करते हैं जब अगले दिन उनका कोई कार्यक्रम नहीं होता है। वर्ष 2016 में पीएम मोदी ने इसकी शुरुआत की थी। उस समय पीएम मोदी सऊदी अरब, अमेरिका और बेल्जियम के दौरो पर थे और वह दो रातों तक प्‍लेन में ही सोए थे। उन्‍होंने यह बात सुनिश्चित की थी कि होटल जाने में किसी तरह का समय बर्बाद नहीं होना चाहिए।

source

पुर्तगाल और अमेरिका दौरे के दौरान भी किया था कुछ ऐसा जिसे जानकर…

पीएमओ से आई इस बड़ी खबर के मुताबिक हाल ही में जब पीएम मोदी पुर्तगाल, अमेरिका और नीदरलैंड गए थे तो भी उन्‍होंने 33 घंटे फ्लाइट में गुजारे थे। पीएम मोदी 24 जून को सुबह सात बजे पुर्तगाल के लिए रवाना हुए थे। इसी शाम वह अमेरिका के राजधानी वॉशिंगटन के लिए रवाना हो गए और उन्‍होंने तय किया था कि वह किसी होटल में नहीं रुकेंगे। वॉशिंगटन पहुंचने में पीएम मोदी को आठ घंटे का समय लगा था। पीएम के इस दौरे के अंतर्गत उन्हें अगले दो दिनों तक अमेरिका में राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप से मिलना था और कई सारे कार्यक्रमों में हिस्‍सा लेना था। हालाँकि  दौरे के तीसरे दिन कोई कार्यक्रम नहीं रखा गया था और वह नीदरलैंड के लिए रवाना हो गए।

source

रात में करते हैं सफर ताकि सुबह से काम पर लग सकें पीएम मोदी

इस दौरान वह एयर इंडिया वन में ही सोए थे। पीएम मोदी ने नीदरलैंड में करीब 12 घंटे बिताए और फिर इसके बाद वह सोमवार शाम सात बजे भारत के लिए रवाना हो गए। बुधवार को सुबह सात बजे पीएम दिल्‍ली पहुंचे। सूत्रों की मानें तो आमतौर पर पीएम मोदी रात में ही सफर करना पसंद करते हैं| उनका मानना है कि रात में सफ़र ज्यादा उचित रहता है ताकि दिन के समय अहम मीटिंग्‍स की जा सकें और शायद  इसीलिए अपने इस दौरे में भी प्रधानमंत्री ने ना तो पुर्तगाल में रात बिताई और ना ही नीदरलैंड्स में। अपने इस 95 घंटे की विदेश यात्रा में प्रधानमंत्री मोदी कुल 32 कार्यक्रमों में शामिल हुए। इनमें पुर्तगाल के आठ, अमेरिका के 17 और नीदरलैंड्स के सात कार्यक्रम शामिल हैं।

source

समय बचाने के लिए प्लेन में भी करते हैं मीटिंग 

बता दें सिर्फ यही नहीं खबरों की माने तो पीएम मोदी फ्लाइट के दौरान भी कई अहम मीटिंग करते हैं। इन मीटिंग्‍स में उनके साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) के साथ और वित्त सचिव होते हैं। यात्रा के दौरान होने वाली पीएम की इन बैठकों में जिन जगहों का वह दौरा कर चुके होते हैं और जहां अगला दौरा होना होता है उसे लेकर विस्तार से चर्चा होती है।