इंसान की जानने की इच्छा से ऐसे-ऐसे आविष्कार हुए हैं जिनके बारे में कभी सोचा भी नहीं जा सकता था. आज से 100 साल पहले इंसान ये सोच नहीं सकता था कि एक दिन अन्तरिक्ष में जाकर वो अपना घर बसाने की कोशिश करने लगेगा, लेकिन वक्त बदला इंसान ने तरक्की की और आज हर चीज़ संभव होती जा रही है. अब केवल धरती ही नहीं अन्तरिक्ष में भी इंसान अपना आशियाना बनाने की सोचने लगा है. आज हम इंसान के धरती से दूर किसी ग्रह पर बसने की संभावना के बारे में ही आपको बताएंगे.

source

पिछले साल नासा की एक अंतरिक्ष दूरबीन जिसका नाम केपलर है ने सौर मंडल से बाहर एक नया ग्रह खोजा था, जिसका रूप रंग हमारी पृथ्वी के जैसा है. ये ग्रह अपने सितारे का चक्कर लगा रहा है और इसमें जीवन की समभावनाएं भी मौजूद हैं. अभी उस ग्रह पर किसी के रहने की पुष्टि नहीं हुई है. हालांकि वज्ञानिकों का मानना है कि अगर वहां पेड़-पौधे भेजे जाएं तो वहां वो जीवित रह सकते हैं.

 

source

पृथ्वी के अलावा भी क्या कहीं दूसरे ग्रह पर जीवन संभव हो सकता है?  इस सवाल को लेकर कई दशकों से वैज्ञानिकों के बीच बहस छिड़ी हुई है. अब इस सवाल के जवाब में वैज्ञानिकों का कहना है कि पृथ्वी जैसे दस और ग्रह भी मौजूद हैं जहाँ जीवन संभव हो सकता है. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA  का कहना है कि केपलर अंतरिक्ष टेलीस्कोप ने हमारे सौर मंडल से बाहर मौजूद 219 नए ग्रहों का पता लगाया है. केपलर मिशन ने 219 संभावित ग्रहों का एक सर्वे जारी किया है. ये सभी ग्रह हमारे सौर मंडल से बाहर उपस्थित हैं, जिनके बारे में आकाशगंगा को स्कैन करने के लिए 2009 में शुरू की गई अंतरिक्ष वेधशाला द्वारा पता लगाया गया था. इनमें से दस पृथ्वी के आकार के हैं. ये दसों ग्रह अपने सूर्य की परिक्रमा उतनी ही दूरी से कर रहे हैं जितनी दूरी से पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है. इस कारण इन ग्रहों पर पानी और जीवन के अनुकूल अन्य स्थितियां हो सकती हैं.

source

नासा ने जो पृथ्वी जैसा नया ग्रह खोजा है उसका नाम केपलर-452 बी रखा है. ये ग्रह जी-2 जैसे सितारे की परिक्रमा कर रहा है. जी-2 तारा हमारे सूर्य के चचेरे भाई की तरह है, हालांकि उसकी उम्र में हमारे सूर्य से 1.5 अरब वर्ष ज्यादा है. नई दुनिया में धरती के जैसे जीने की पर्याप्त परिस्थिति मौजूद है. ये नया ग्रह हमारी धरती से आकार में 60 प्रतिशत ज्यादा बड़ा है और हमसे करीब 1400 प्रकाश वर्ष दूर साग्नस तारामंडल में ये उपस्थित है.