रविवार 2 जुलाई को पीएम मोदी राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में गए थे. जहां राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पर लिखी किताब President Pranab Mukherjee – A statesman का विमोचन पीएम मोदी ने किया. इस मौके पर पीएम मोदी ने प्रणब मुखर्जी की प्रशंसा करते हुए ऐसी बातें बताई जो सबको हैरान करने वाली थी. पीएम मोदी ने बताया कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की उंगली पकड़कर खुद को दिल्ली में सेट करने में मुझे बहुत सुविधा मिली. पीएम मोदी ने आगे कहा कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को मैं  ‘प्रणब दा’ बोलता हूँ. बीते तीन सालों में एक मौका भी ऐसा नहीं आया जब में प्रणब मुखर्जी से ना मिला और उन्होंने मुझे पिता का स्नेह’ न दिया हो.

sourceआपको बात दें कि पीएम मोदी ने इस दौरान तमाम सांसद और अतिथियों के सामने एक बात का जिक्र किया जो सिर्फ पीएम मोदी के करीबी ही जानते होगें. पीएम मोदी ने कहा आपातकाल के दौरान मुझे नेताओं और बहुत अलग विचारधाराओं के कार्यकर्ताओं के साथ काम करना पड़ा था. ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि मुझे माननीय राष्ट्रपति के साथ मिलकर काम करने का मौका मिला. पीएम मोदी ने आगे कहा कि प्रेसीडेंसी, प्रोटोकॉल से कहीं ज्यादा है. पुस्तक में तस्वीरों के माध्यम से, हम अपने राष्ट्रपति के मानवीय पक्ष को देखते हैं और हमें गर्व महसूस होता है.

source

इंदिरा गांधी ने देश में क्यों लगाया था आपातकाल

1971 में देश में लोकसभा चुनाव हुए थे, जिसमें इंदिरा गाँधी ने अपने सबसे बड़े प्रतिद्वंद्वी राजनारायण को हरा दिया था. लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के चार साल बाद राज नारायण ने हाईकोर्ट में चुनाव परिणाम को चुनौती दी. 12 जून 1975 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश जगमोहन लाल सिन्हा ने इंदिरा गाँधी का चुनाव निरस्त कर उन पर छह साल तक चुनाव न लड़ने का प्रतिबंध लगा दिया. जिसकी वजह से इंदिरा गाँधी चुनाव हार गई और उनके सबसे बड़े विरोधी राजनारायण सिंह चुनाव में विजयी घोषित कर दिए गए थे.

source

उसी दिन गुजरात में चिमनभाई पटेल के विरुद्ध विपक्षी जनता मोर्चे को भी भारी वोटों से जीत मिली थी. इस दोहरी चोट से इंदिरा गांधी बौखला गईं थी. इंदिरा गांधी ने अदालत के इस फैसले को मानने से इंकार करते हुए सर्वोच्च न्यायालय में अपील करने की घोषणा की और 26 जून 1975 को आपातकाल लागू करने की घोषणा कर दी थी.

 

source

आपको बता दें पीएम मोदी ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बारे में और भी बहुत बातें बताई  उन्होंने कहा कि वो मुझसे अक्सर कहा करते हैं ‘मोदी जी आपको आधे दिन का आराम कर लेना चाहिए. आप इतनी भाग-दौड़ क्यों करते हैं, आप अपने कार्यक्रमों को कम कीजिए,और अपने स्वास्थ्य का खयाल रखिए’. पीएम मोदी ने कहा मैं खुद को सौभाग्यशाली मानता हूँ कि मुझे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के साथ काम करने का मौका मिला.

source

इस मौके पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि हमने एक-दूसरे के सहयोग में काम किया है. मैं इस अवसर पर प्रधानमंत्री की ओर से की गई प्रशंसा पर आभार व्यक्त करता हूं. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने वित्तमंत्री अरुण जेटली की तरफ देखते हुए कहा कि वो खास मुद्दों के बारे में जानकारी के लिए अरुण जेटली  को अक्सर फोन किया करते है और जेटली उनको सक्षम और प्रभावी वकील की तरह हमेशा मुझे समझाते है. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो जाएगा.

 

source

आपको बता दें कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए की तरफ से बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद को उम्मीदवार बनाने के बाद कांग्रेस ने भी अपना उम्मीदवार मीरा कुमार को घोषित किया है. नए राष्ट्रपति के चुनाव के लिए 14 जून से प्रक्रिया शुरु हो गई थी. 17 जुलाई को वोटिंग होगी और 20 जुलाई को वोटों की गिनती की जाएगी. मीरा कुमार और रामनाथ कोविंद को छोड़कर बाकी सभी उम्मीदवारों  का नामांकन प्रस्तावकों के अभाव में रद्द हो चुका है. शनिवार 8 जुलाई को कोविंद ने चेन्नै में तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम से मुलाकात कर समर्थन मांगा. शनिवार 8 जुलाई को मीरा कुमार का भी चेन्नै में नेताओं से मिलने का कार्यक्रम है.अब आने वाले वक्त में पता चलेगा कि देश का अगला राष्ट्रपति कौन बनेगा. जो देश को चलाएगा और देश को उन्नति की तरफ ले जाएगा. देश का हर व्यक्ति ये जानने के लिए उत्सुक है कि अगला राष्ट्रपति कौन होगा.