भारत और चीन के बीच में सीमा का विवाद बढ़ता जा रहा है .अब चीन ने डोकलाम के साथ साथ भूटान के इस बड़े भाग पर भी अपना अधिकार बताना शुरू कर दिया है .चीन का दावा है 1890 में अंग्रेजों के साथ एक समझोता हुआ था .इस समझोते पर नेहरू ने भी अपनी मान्यता दी थी .चीन का यह दावा झूठा साबित हो रहा है .नेहरू की लिखी एक चिठ्ठी में इस बात को लेकर साफ साफ लिखा है .नेहरू ने अपनी चिठ्ठी में चीनी समकक्ष लाऊ एनलाई को 26 सितम्बर 1959 में लिखा था कि आपके इस बयान का प्रभाव ठीक ठीक  हमें स्पष्ट नहीं हो रहा है कि सिकिम्म और भूटान की सीमा मौजूदा चर्चा के दायरे में नहीं आती है.

Source

नेहरू की चिठ्ठी से खुली चीन की पोल

इस चिठ्ठी की एक प्रति न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के पास भी है. इस चिठ्ठी में नेहरू ने लिखा है कि चीनी भूटान के एक बड़े हिस्से को तिब्बत का हिस्सा बताते है. इसी के साथ नेहरू ने इस चिठ्ठी में लिखा है कि भूटान के साथ हुई संधि में भूटान के बाहरी संबंधो के बारे दूसरी सरकारों के साथ मामलों को उठाने के लिए केवल सक्षम प्राधिकार भारत सरकार है .भारत सरकार ने ही भूटान सरकार के कई मुद्दे चीन के सामने रखे है .

Source

1890 के समझौते से हुआ सिक्किम की संप्रभुता की मंजूरी

नेहरू ने आगे लिखा है कि तिब्बत और भूटान की सीमा के सम्बन्ध में चीन के मानचित्र में गलती में सुधार का मामला ऐसा है जिस पर उसी क्षेत्र में चीन के तिब्बत क्षेत्र के साथ भारत की सीमा के साथ चर्चा की जानी है . नेहरू ने चीन के मानचित्र में भूटान के बड़े हिस्से को अपना बताने पर जोर देते हुए 1890 के अंग्रेजों और चीन के बीच हुए समझौते का उल्लेख किया था जिसके द्वारा सिक्किम पर भारत की संप्रभुता मंजूर की गई थी .

Source

इसके बाद चीन की सरकार ने खुद यह बात मानी थी कि सिक्किम के आतंरिक प्रशासन और विदेशी संबंधों पर केवल भारत सरकार का सीधा नियंत्रण है .1890 की संधि में सिक्किम और तिब्बत के बीच सीमा को भी परिभाषित किया गया .इसके बाद 1895 में सीमा का सीमांकन हुआ .इस संधि के बाद से तिब्बत और सिक्किम की सीमा को लेकर कोई विवाद नहीं है.

 

Source

नेहरू ने अपनी चिठ्ठी में यह भी लिखा , चीन के मानचित्र में जैसा दिखाया गया है कि भूटान का सीमान्त पूर्व एक पारंपरिक सीमान्त है लेकिन इसके विपरीत यह मैकमोहन रेखा है जो इस क्षेत्र में पारंपरिक सीमा का सही प्रतिनिधित्व करती है . इसी के साथ हिमालय की चोटियों से जो जल विभाजन बना है जो प्राकृतिक सीमान्त है . इसे दोनों देशों के लोग सदियों से सीमा के रूप में देखते है . भारत और चीन के बीच लगभग एक महीने से भूटान की सीमा क लेकर टकराव की स्थिति बनी हुई है . सिक्किम भारत का ऐसा राज्य है जिसकी सीमा चीन के साथ सीमांकित है . 1962 के बाद भारत और चीन के बीच इस तरह की तनातनी बनी हुई है . इसी को लेकर सोशल मीडिया पर भी चर्चाओं का बाज़ार गर्म है .कुछ वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे है .