देश और दुनिया ने पिछले कुछ दिनों से भारत और इज़राइल के रिश्तों के बीच एक नया मोड़ आता देखा है और आज इस बात से शायद ही कोई इनकार कर पाए की भारत की जैसी दोस्ती इज़राइल से देखने को मिल रही है वैसी शायद ही किसी और देश के साथ देखी गयी हो. आज अखबार की सुर्ख़ियों में पीएम मोदी और इज़राइल के पीएम बेंजामिन नेतान्याहू की दोस्ती और नज़दीकी है लेकिन हम यहाँ आपको बता दें कि ऐसा नहीं है. असल में भारत और इज़राइल के रिश्तों की शुरुआत सदियों पुरानी है. यूँ तो भारत और इज़राइल के बीच के संबंध को दर्शाने के लिए कई कहानियां किस्से हैं लेकिन इनमे से एक किस्सा ऐसा भी है जिसके बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं.

source

यहूदी थी पहली मिस इंडिया

जी हाँ, स्वतंत्र भारत की पहली मिस इंडिया बनने वाली महिला यहूदी थीं जिनका नाम ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम. भारत की आज़ादी के बाद ये पहला मौका था जब मिस इंडिया जैसी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था. कोलकाता में रखे गए इस आयोजन को उस साल ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम ने जीता था. विक्टोरिया अब्राहम एक बगदादी यहूदी बिजनेसमैन पिता रुबेन अब्राहम की बेटी थीं. उनकी मां कराची की थीं, प्रमिला ने सैयद हसन अली जैदी से शादी की थी.

source

भारत में 1964 से हो रहा है मिस इंडिया का आयोजन  

यहाँ ये बात भी जानना ज़रूरी है कि भारत में फेमिना मिस इंडिया जैसी प्रतियोगिताओं का आयोजन वर्ष 1964 से ही किया जा रहा है लेकिन देश आजाद होने के बाद से ही ये प्रतियोगिता देश में होना शुरू हो गई थी. अभी उन्हें अलग-अलग संस्थाएं आयोजित किया करती थीं. यहाँ ये बात भी गौर करने वाली है कि पहली बार मिस यूनीवर्स कांटेस्ट में भाग लेने कोई मिस इंडिया 1952 में ही गई और वो थी इंद्राणी रहमान.

source

ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम 

मिस इंडिया प्रतियोगिता को जीतने के बाद अब ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम ने रुपहले पर्दे पर अपनी किस्मत चमकाने का ख्वाब देखना शुरू कर दिया.  जब ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम रूपहले पर्दे पर अभिनेत्री बनीं तो वो प्रमिला नाम से चर्चित हुईं. आज भी ऐसे कई लोग हैं जिन्हें शायद ही पता हो कि वो जिसे प्रमिला नाम से जानते हैं उनका असली नाम ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम है.

source

रूढ़िवादी सोच को तोड़ कर प्रमिला बनी थी मिस इंडिया

जिस वक़्त ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम ने अपनी खूबसूरती से दुनिया को दीवाना बनाया था उस वक़्त उनकी उम्र महज़ 31 साल की थी. आज के समय के हिसाब से आप सोचेंगें तो शायद आपको ये उम्र ज्यादा लगे लेकिन उस दौर में इस तरह की प्रतियोगिताओं को कतई भी अच्छा नहीं माना जाता था लेकिन पैसे वाले घर की विक्टोरिया ने समाज की इन सारी रूढिवादी परंपराओं को तोड़ा था.

source

हिंदी सिनेमा की पहली महिला प्रोड्यूसर बनी थीं ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम

रूढ़िवादी सोच को ताक पर रख कर मिस इंडिया बनी ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम ने लगभग 30 हिंदी फिल्मों में काम किया था| साथ ही उन्हें हिंदी सिनेमा की पहली महिला प्रोडयूसर होने का भी गौरव प्राप्त है. आगे जाकर ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम ने खुद का एक प्रोडक्शन हाउस भी खोला था जिसका नाम उन्होंने सिल्वर प्रोडक्शंस रखा था.  इस बैनर के तले प्रमिला ने 16 फिल्में बनाईं.

source

पाकिस्तान की जासूसी का लगा था आरोप 

ईस्थर विक्टोरिया अब्राहम की ज़िन्दगी में शायद सबकुछ ठीक ही चल रहा था कि उनपर पाकिस्तान की जासूसी का आरोप लगा दिया गया था. दरअसल बताया जाता है कि प्रमिला का ननिहाल पाकिस्तान में था और वो फिल्मों से जुड़ी हुई थीं, जिसके चलते वो अक्सर देश के कोने-कोने में घूमती हुई पाई जाती थीं इसलिए बॉम्बे के चीफ मिनिस्टर मोरारजी देसाई को शक हुआ कि प्रमिला पाकिस्तान के लिए जासूसी करती हैं, इसलिए उन्होंने उन्हें गिरफ्तार भी करवा लिया था लेकिन बाद में उनका शक गलत साबित हुआ था।