लालू यादव पर चारा घोटाले के बाद एक और बड़ा आरोप

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजद पार्टी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले लालू यादव पर बिहार राज्य का सबसे बड़ा चारा घोटाला उनके नाम दर्ज है जिसमें लालू यादव पर पशुओं को खिलाये जाने वाले चारे के नाम पर 950 करोड़ रूपये का सरकारी खजाने से फर्जीवाड़ा करके निकाला गया था. लालू यादव को इस घोटाले के आरोप में मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ गया था. राजनीति में माहिर लालू ने अपनी जगह अपनी पत्नी राबड़ी देवी को कुर्सी सौंप दी थी. लोकसभा में विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी द्वारा इस मुद्दे को जोर-शोर के साथ उठाकर सीबीआई जाँच की मांग की गयी थी.

Source

सीबीआई ने लालू के कई ठिकानों पर की छापेमारी

शुक्रवार सुबह सीबीआई द्वार लालू यादव के कई ठिकानों पर छापेमारी की गयी. सीबीआई ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान जानकारी दी.सीबीआई के डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने बताया कि रेलवे टेंडर्स घोटाले को लेकर छापेमारी की गयी उन्होंने बताया लालू यादव के रेलमंत्री रहते हुए घोटाला हुआ है. टेंडर के बदले में लालू यादव पर सस्ती जमीन लेने का आरोप है. सीबीआई ने लालू यादव और सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ-साथ अन्य लोगों के ठिकानों पर छापेमारी के बाद सीबीआई ने बताया कि प्राथमिक जानकारी में टेंडर अलॉट करने में गड़बड़ियाँ पायी गयी हैं.

Source

2006 में बतौर रेल मंत्री के समय किया था घोटाला

इस मामले में सीबीआई ने दिल्ली व गुरुग्राम जैसे 12 ठिकानों पर छापे-मारी की गयी. राकेश अस्थाना ने बताया है कि 32 करोड़ की जमीन को 65 लाख रूपये में दे दिया गया था. इस मामले में लालू व अन्य लोगों के खिलाफ साजिश व धोखा-धड़ी के तहत धारा 420, 120बी के तहत लालू यादव और राबड़ी देवी समेत 8 लोगों पर के खिलाफ सीबीआई ने केस दर्ज कर लिया है. साल 2006 में रेलवे के होटल को निजी कम्पनी के मालिक को देने में लालू यादव बुरे फसने वाले हैं. लालू एवं उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेज प्रताप के अलावा दो कपंनियों के डायरेक्टरों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है.

Source

इससे पहले भी इनकम टैक्स ने की थी छापेमारी

आपको बता दिया जाये कि 16 मई को इनकम टैक्स ने लालू के 22 ठिकानों पर छापेमारी की थी. 16 मई को यह छापेमारी बेनामी संपत्ति के मामले में दिल्ली गुडगाँव के इलाकों में छापेमारी की थी. इस कार्यवाई के दौरान कोचर फैमली,कटियार फैमली और सांसद प्रेमचन्द्र गुप्ता के लड़कों के यहां छापेमारी की गयी थी. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस दौरान लगभग 1000 करोड़ की संपत्ति पर छापेमारी की गयी थी.

Source

लालू के बेटी और दामाद के ठिकानों पर भी हुई थी छापेमारी

लालू यादव की बेनामी संपत्ति के मामले को लेकर इनकम टैक्स विभाग ने जो छापेमारी की थी उसमे लालू यादव के बेटी-दामाद के ठिकानों पर भी छापेमारी हुई थी. इस दौरान लालू के सहयोगी पीसी गुप्ता के संबंधियों के यहां भी छापेमारी हुई है. लालू की बेटी ने जिस पैसे से फार्म हाऊस खरीदा वो पैसा दिल्ली के दो एंट्री ऑपरेटरों की कंपनी से आया था एस.के जैन और वीके जैन नाम के एंट्री आपरेटर दोनों को ईडी गिरफ्तार कर चुका है .