कश्मीर के मशहूर आतंकवादी बुरहान वानी को मरे हुए आज 7/8/2017 को एक साल हो गया है, भारतीय सेना ने बड़ी ही बहादूरी के साथ खुन्कार आतंकी को पिछले साल मार गिराया था.  बुरहान की मौत के बाद मानों कश्मीर में आतंक की कमर टूट गई थी. वो बात अलग है भारत में रहने वाले देशद्रोही गद्दारों ने बुरहान की मौत के बाद शोक मनाया था और दंगे भड़काने की भी कोशिश की थी. आखिर एक आतंकवादी के मौत पर भी राजनीति करना कहां का नियम है ?  खैर भारत में राजनितिक रोटियों के लिए लोग पिता-पुत्र का रिश्ता भूल जाते हैं लेकिन कुछ नेता हैं जिन्होंने अपना घर छोड़ भारत के लिए अपना पूरा जीवन न्योछावर किया है. अब सवाल ये है आखिर इतना खतरनाक आतंकवादी कैसे सेना के हाथ आया था ? जैनिये कैसे सेना ने बुरहान वानी को मार गिराया.. kjgfekj

 

source

जब बुरहान की हुई थी मौत…

8 मई 2016 को जब वीर भारतीय सेना ने बुरहान वानी को मार गिराया था तो घाटी में दंगे भड़क उठे थे और कई दिनों तक वहां दंगे चलते रहे थे. आपको बता दें बुरहान की मौत को लेकर कई बातें हैं, जैसे उसके चाचा ने उसे जहर दिया था या उसकी गर्लफ्रेंड ने उसे मिलने बुलाया था…

source

 

 एक महिला ने दिया था सन्देश…

एक थ्योरी के हिसाब से बुरहान वानी जिस घर में रुका हुआ था वहां लाल धागा बांधकर एक महिला ने भारतीय सेना को इशारा किया था.  महिला वहीं की रहने वाली बताई जाती है.

 

source

एक अखबार के मुताबिक़ बुरहान वानी की गर्लफ्रेंड को बुलाया गया था…

आपको बता दें एक खबर ये भी आई थी कि सेना को सूचना मिली है बुरहान वानी अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए  कोकरनाग के पास बमडूरा गांव के एक मकान में पहुंच चुका है. उसके पास ज्यादा हथियार नहीं हैं. इसी सूचना के बाद सेना ने आगे की कार्यवाही की थी.

 

source

जब सेना पहुंची उस घर के बाहर जहां छुपा था बुरहान…

जब सेना को यह साफ़ हो गयी कि बुरहान किस घर में है सेना के 100 जवान और SOG के कुछ जवानों ने उस घर को पूरी तरह से घेर लिया. इसके बाद जो हुआ वो किसी फिल्म की कहानी से कम नहीं है. जिस घर में बुरहान अपने साथियों के साथ था सेना ने उस घर में पीछे से आग लगा दी थी.

 

source

क्यों लगाई पीछे से आग ? 

दरअसल इस्लाम के मुताबिक़ यदि कोई आग में जलकर मरता है तो उसे नरक नसीब होता है और आतंकियों को बचपन से ही जन्नत के सपने दिखाए जाते हैं तो ऐसे में  बुरहान कभी पीछे के दरवाज़े से नहीं आता.  सेना ने अब पूरी तरह से बुरहान वानी को घेर लिया था.

 

जब घर से बाहर आया बुरहान…

अपने आप को घिरा हुआ देखकर बुरहान वानी सामने वाले गेट से आगे निकला और तुरंत लड़खड़ाने लगा.  यहीं से यह अंदाज़ा लगाया गया था कि बुरहान के चाचा ने उसके नशे की दवाई दी थी.  सेना ने बुरहान को अब चारों तरफ से घेर लिया था और उसके कुछ भी करने से पहले सेना के एक जवान ने उसे 4 फीट दूर से ही गोली मार दी.

 

 

source

मरने के बाद क्या हुआ ? 

कहा जाता है कि एनकाउंटर 15 मिनट में ही खत्म हो गया था लेकिन सेना को जब तक कन्फर्म नहीं हो गया वो मर गया है जवान बॉडी लेकर नहीं गये. एक अन्य थ्योरी के अनुसार बुरहान को अधमरा ही सेना साथ ले गयी थी और उसकी मौत कस्टडी में हुई थी.  आपको बता दें जिस घर में बुरहान वानी मिला था उस घर को बाद में भीड़ ने पूरी तरह से जला दिया था. आज बुरहान वानी की मौत के एक साल बाद भी कुछ लोगों को वो आतंकवादी नहीं बल्कि एक हीरो दीखता है, ज्ञात हो पाकिस्तान ने तो बुरहान वानी स्पेशल एक ट्रेन भी चलाई थी.