रेलवे के होटल को निजी कम्पनी को देने के आरोप में हुई छापेमारी

केन्द्रीय जाँच एजेंसी (सीबीआई) ने शुक्रवार को बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राजद पार्टी के अध्यक्ष लालू यादव.पत्नी राबड़ी देवी व बेटे तेजस्वी यादव के यहाँ छापेमारी हुई. लालू के रेल मंत्री रहते हुए रेलवे के दो होटल को एक निजी कम्पनी को देने का आरोप है तथा बदले में 32 करोड़ की जमीन 65 लाख रूपये में लेने के आरोप में सीबीआई ने उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है. वही लालू यादव ने सीबीआई के छापे के बाद अपने बचाव में पक्ष रख कहा है कि उनके घर एफआईआर दर्ज और सीबीआई के छापे बदले की भावना है. इसी के साथ लालू ने गुस्सा करते हुए कहा कि हम प्रधानमंत्री मोदी को हटाकर ही दम लेंगे.

Source

 लालू ने कहा मेरे खिलाफ छापेमारी बीजेपी और आरएसएस की साजिश

इसी के साथ लालू ने अपने पक्ष में कहा कि मैंने कोई गलती नहीं की है. मेरे खिलाफ बीजेपी और आरएसएस साजिश कर रहे हैं. लालू ने कहा है जिस रेलवे के होटल को लेकर मुझ पर केस दर्ज किया है उसमे मेरी कोई गलती नहीं है उसकी फाइल तो मेरे पास आयी भी नहीं थी. अगर में इस मामले में दोषी हूँ तो सीबीआई साबित करे तथा उन्हें सजा दे. एडिशनल डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने बताया है कि इस मामले में लालू व उनकी पत्नी राबड़ी देवी एवं तेजस्वी यादव के खिलाफ धारा 420 व 120बी के तहत मामला दर्ज कर जाँच चल रही है. साथ ही उन्होंने बताया है मामले की छानबीन सुबह 7 बजे से ही चल रही है.

Source

पीएमओ द्वारा नीतीश को फोन करके पहले ही दी गयी थी जानकारी

लेकिन इस मामले में एक नया मोड़ आया है सीबीआई द्वारा छापेमारी को लेकर नया खुलासा हुआ है. रिपोर्ट्स के अनुसार मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय ने गुरुवार देर रात बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को फ़ोन करके बताया गया कि सीबीआई उनके सहयोगी दल राजद पार्टी के अध्यक्ष लालू यादव व उनके बेटे तेजस्वी के यहाँ छापेमारी करने वाली है. इस मामले में बिहार के वरिष्ठ अधिकारियों ने पीएमओ से खबर मिलने की पुष्टि की है.

Source

हिंसा होने के डर से अफसरों को तैयार कर दिया गया था

अधिकारियों ने इस मामले को लेकर बताया है कि उन्हें हिंसक प्रदर्शन को लेकर तैयार रहने के लिए कहा गया था. राज्य के एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा है कि गुरुवार रात मुझे हिंसक प्रदर्शन को लेकर तैयार रहने के लिये कहा गया था. तैयार रहने के लिए कोई कारण नहीं बताया था.लेकिन सुरक्षा प्रबंधन की समीक्षा करने और भीड़ को काबू करने के लिए कहा गया था.

Source

जेडीयू के राष्ट्रिय प्रवक्ता के.सी त्यागी ने इस मामले को गलत बताया

वहीं जेडीयू के राष्ट्रिय प्रवक्ता के.सी त्यागी ने इस मामले को गलत बताया है. उन्होने कहा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस तरह की खबर का कुछ पता नहीं था. उन्होंने इस मामले को अफवाह बताते हुए कहा है कि यह नीतीश कुमार को बदनाम करने की साजिश है फिलाहल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का स्वास्थ्य ठीक नहीं कहते हुआ कहा है कि इसी वजह से वह इस मामले पर कोई टिप्पणी करना नहीं चाहते हैं.

Source

सीबीआई को छापेमारी को लेकर कानून व्यवस्था बिगड़ने का डर था

दैनिक अख़बार हिंदुस्तान के अनुसार प्रकाशित एक खबर में यह लिखा गया है कि सीबीआई को बिहार में छापेमारी के दौरान कानून व्यवस्था को लेकर डर था जिसकी वजह से पीएमओ कार्यालय से गुजारिश करते हुए कहा कि लालू और उनके बेटे के यहाँ होने वाली छापेमारी के बारे में बिहार सरकार को इसके बारे में सूचित कर दे.