सोशल मीडिया पर आजकल हर कोई है चाहे वो राज्य के मुख्यमंत्री हों या फिर देश के प्रधानमंत्री लेकिन लोगों से रूबरू होने चक्कर में कुछ न कुछ ऐसी गलतियाँ हो ही जाती हैं कि उनका जमकर मजाक उड़ जाता है. एक ऐसा  ही मामला उत्तर प्रदेश नये मुख्यमंत्री योगी के ट्विटर हैंडल से देखने को मिला है. दरअसल योगी के ट्विटर पर योगी सरकार द्वारा उनकी योजनाओं और विकास कार्यों के बारे में जानकारी दी जाती है लेकिन 8 जुलाई को CMO ऑफिस की तरफ से एक ट्वीट किया गया जिसमें केंद्र सरकार की नीतियों का गुणगान किया जा रहा था लेकिन इस  ट्वीट में हो गयी ऐसी गलती कि इसका मजाक उड़ने लगा.

क्या था ट्वीट:

दरअसल CMO UP की तरफ से किये गये इस ट्वीट में योगी की बात लिखी गयी थी कि “केंद्र सरकार अपनी नीतियों के चलते जन विश्वास की कटौती पर खरी उतरी है और उसने भारत का खोया हुआ गौरव स्थापित किया हैः ” 

Source

लोगों ने उड़ाया मजाक:

आपको बता दें कि इस ट्वीट में कसौटी की जगह कटौती लिखा गया था. कटौती लिखने से इस ट्वीट का मतलब ही कुछ और निकल रहा था.  योगी इस ट्वीट में भारत के खोया हुआ गौरव वापस पाने की बात कर रहे थे लेकिन ट्वीट में गलती के कारण मजाक का पात्र बन गये. इस ट्वीट के रिप्लाई में कुछ लोगों ने अपनी नाराजगी जताई तो कुछ ने ट्वीट की गलती को बताते हुए सही करने की सलाह दी.

Source

योगी से पूछा कानून व्यवस्था पर सवाल:

मोहम्मद आरिफ नाम के एक यूजर ने इस ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा कि “कटौती नहीं कसौटी पर उतरी” वैसे अमूमन ये कम ही देखा जाता है कि किसी आधिकारिक हैंडल से ऐसी गलती हो लेकिन सबसे तेज होने और लोगों तक पहुंचने की स्पर्धा में ऐसी गलती होना आम बात है. वैसे इस गलती के अलावा कुछ लोगों ने योगी से शिकायत करते हुए कानून व्यवस्था पर सवाल उठा दिया और योगी से इस पर प्रतिक्रिया मांगने लगे.

source

हेमंत पंडित नाम के एक यूजर ने लिखा कि “रायबरेली हत्याकांड में कुछ होगा कि नही..या फैसला सड़कों पर ही चाहते हो माननीय मुख्यमंत्री जी” आपको बता दें कि कुछ दिन पहले रायबरेली में कुछ लोगों की हत्या कर दी गयी थी. जिसमें कहा जा रहा है कि आरोपियों की सरकार में कुछ माननीयों से अच्छे सम्बन्ध हैं और इसके चलते पुलिस ठीक से कार्रवाई भी नही कर पा रही है.

Source

क्या था मामला:

मालूम हो कि बीते 26 जून को रायबरेली जिले के उंचाहार थाना क्षेत्र के अंतर्गत अपटा गांव में जमीन के विवाद को लेकर भीड़ ने पांच लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। उनमें से कई को जला भी दिया गया था। भाजपा प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी की सरकार संवेदनशील है और रायबरेली की टना में शामिल किसी भी दोषी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री ने इस मामले में मृतक परिवारों को पांच-पांच लाख रुपए देने के आदेश दिए हैं.