मशहूर और जानी पहचानी टीवी पत्रकार सागरिका घोष ने इंदिरा गाँधी के जीवन पर आधारित एक किताब लिखी है. इस किताब में सागरिका घोष ने इंदिरा गांधी के जीवन से जुड़े कुछ रहस्यों का खुलासा किया है. किताब का नाम Indira: India’s Most Powerful Prime Minister है. इस किताब में सागरिका घोष ने इंदिरा गाँधी और उनके पति फिरोज गाँधी के रिश्तों पर प्रकाश डाला है. सागरिका घोष ने इस किताब में फिरोज गाँधी के उस समय के बारे में लिखा है जब वर्ष 1955 में फिरोज गाँधी ने जीवन बीमा का राष्ट्रीयकरण किया और मीडिया को संसद कार्यवाही की रिपोर्टिंग की आज़ादी दिलाई. फिरोज गाँधी के इस क़ानून को इंदिरा गाँधी ने खुद इमरजेंसी के समय कुचल दिया था.

फिरोज गाँधी के साथ रहने में इंदिरा गाँधी का दम घुटता था ?

Source

सागरिका घोष ने लिखा है कि इंदिरा गाँधी को दिल्ली में फिरोज गाँधी की मौजूदगी से घुटन होती थी इसके साथ ही इंदिरा को अपने तीन मूर्ति भवन में भी रहना अब पीड़ादायक लगने लगा था. इंदिरा गाँधी को फिरोज के आशिक मिजाजी के किस्से अब दिल्ली के गलियारों में सुनाई देने लगे थे. फिरोज गाँधी अक्सर तारकेश्वरी सिन्हा, सुभद्रा जोशी और महमूना सुल्तान जैसी सांसदों के साथ अपनी दोस्ती का प्रदर्शन करते थे.

Source

फिरोज और इंदिरा गाँधी के रिश्तों में कढ़वाहत की सच्चाई क्या थी ?

वह यह दिखाना चाहते थे कि वह अपने ससुराल वालों को शर्मिंदा कर रहे हों. वैसे तो तारकेश्वरी सिन्हा ने इस बात का खंडन भी किया कि “अगर एक मर्द और औरत साथ में लंच कर लें तो उन दोनों के अफेयर की अफवाह उड़ने लगती है. मैंने एक बार इंदिरा से पूछा था कि क्‍या वह अफवाहों में यकीन करती है, चूंकि मैं खुद भी शादीशुदा थी और मेरा एक परिवार तथा सम्‍मान था, उन्‍होंने कहा कि वह अफवाहों में यकीन नहीं रखती।”

Source

फिरोज गाँधी के किस्सों की हकीकत कुछ भी उनको लेकर खूब बातें होती थी. लोगों को लगता था कि फिरोज के इस तरह के बर्ताव के चलते इंदिरा और फिरोज के बीच तलाक हो जाएगा. इंदिरा गाँधी को लेकर लोगों का कहना है कि उनका अफेयर नेहरू के सेक्रेटरी एमओ मथाई से था. एमओ मथाई सन 1946 से लेकर 1959 तक नेहरू के सेक्रेटरी रहे थे.

Source

मथाई बेबाक थे नेहरू पूरी तरह से विशवास करते थे. एमओ मथाई ने अपनी आत्मकथा नेहरू के समय का जिक्र किया है. इस आत्मकथा में मथाई ने शी नाम का खंड भी लिखा है , इस खंड में मथाई में इंदिरा गाँधी के बारे में भी लिखा है. कई दक्षिणपंथी वेबसाइट्स पर उस खंड की कई लाइनें ऐसी भी है जिनमे लिखा है कि इंदिरा गाँधी की नाक क्लियोपेट्रो जैसी थी ,उनकी आँखे बोनापर्ट जैसी थी  और उनके स्तन वीनस जैसे थे.

Source

इसी खंड में आगे लिखा है कि इंदिरा गाँधी ‘बिस्तर में बेहद अच्छी थीं ‘ ,वह फ्रेंच महिलाओं और  नायर महिलाओं का मिश्रण थीं . इसी के साथ इस खंड में लिखा है कि वह लेखक मथाई से गर्भवती भी हो गई थीं इसके बाद उन्हें गर्भपात कराना पड़ा. इसी के साथ कई ऐसी ऑनलाइन वर्जन है जिनकी पुष्टि नहीं है उनमे लिखा है कि इंदिरा किसी हिन्दू से शादी करना बर्दाश्त नहीं कर सकती थीं.