चीन हमेशा से यही चाहता रहा है कि, एशिया में और दुनिया में भी उसका ही डंका बजे, लेकिन एशिया में अकेले हिंदुस्तान ही उसके मंसूबों पर पानी फेरता रहा है l इन सब के बाद पाकिस्तान चीन की तरफ झुकने लगा और खुद को भारत के बराबर समझने लगा, जो कि वो है नही l चीन और पाकिस्तान के संबंध अच्छे दिख रहे हैं, जबकि ऐसा है नही, और ये सब इसलिए भी कि भारत को परेशानी में डाला जा सके l इसके जवाब में भारत ने अमेरिका से रिश्ते और बेहतर बना लिए, जिससे पाकिस्तान और चीन दोनों देश घबराए हुए हैं l

foto_1

इस परेशानी को आप G20 समिट में ओबामा के साथ हुए अमर्यादित व्यवहार से समझ सकते हैं l चीन में अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ ऐसा व्यवहार हुआ जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नही की थी l ओबामा को भी पता है, चीन में उनके साथ जो व्यवहार हुआ, उसकी बड़ी वजह उनकी और मोदी के बीच गहरी दोस्ती है l चीन कतई नही चाहता कि उसके खिलाफ कोई भी देश खड़ा हो और उसे जवाब दे l

ओबामा के सामने ही चीख पड़े चीनी अधिकारी

दरअसल G20 समिट के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति चीन के एअरपोर्ट पहुंचे, राष्ट्रपति के उतरने से पहले अमेरिकी प्रेस के लोग और अधिकारी उतरकर वे सभी विमान के पास खड़े हो गये l तभी उन पर एक चीनी अधिकारी चिल्लाकर बोला, ‘यह हमारा देश है और हमारा एयरपोर्ट हैl’ सुरक्षा में लगे चीनी अधिकारी ने अमेरिकी प्रेस और वहां के अधिकारियों को ओबामा के पास नहीं जाने दिया। चीनी अधिकारी का इस प्रकार गुस्सा होना, साफ बताता है, कि अमेरिका-भारत की बढ़ती दोस्ती से चीन में क्या माहौल है ?

foto_2

हवाई अड्डे पर चीनी अधिकारी के चिल्लाने की घटना को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चीन की काफी आलोचना की । चीनी अधिकारी ने ओबामा के विमान के पास अमेरिकी अधिकारियों और प्रेस को खड़ा होने नहीं दिया, उन पर चिल्लाने का मतलब साफ था कि, ये हमारा देश है और यहाँ जैसा हम चाहेंगे वैसा होगा l  इस घटना के बाद ओबामा ने भी चीन की क्लास ले ली और उसे खरी खरी सुना दी l

ओबामा ने सुनाई खरी-खरी, चीन की बोलती बंद

एअरपोर्ट पर ओबामा के उतरने से पहले उनकी टीम में शामिल कुछ अधिकारी और प्रेस के लोग उतरने लगे और विमान के पास रुककर अपने राष्ट्रपति का इंतजार कर रहे थे, जैसे ही ओबामा विमान से बाहर आ रहे थे, तभी वहां सुरक्षा के लिए खड़े अधिकारी ने विमान के पास खड़े ओबामा टीम पर चिल्लाना शुरू कर दिया और वहाँ से चले जाने को कहा, जिस पर ओबामा को बहुत बुरा लगा l  इस घटना पर ओबामा ने G20 समिट के दौरान चीन को खूब खरी-खरी सुनाई l

foto_3

इस घटना से ओबामा नाराज हुए और उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा, ‘हम जब यात्राओं पर निकलते हैं तो अपने मूल्यों और आदर्शों को ताक पर रखकर नहीं निकलते।’ ओबामा ने यह भी कहा कि ‘एयरपोर्ट पर हुई घटना से पता चलता है कि प्रेस की स्वतंत्रता के मसले पर अमेरिका और चीन के विचारों में कितना अंतर है।’ इतना ही नही दक्षिणी सागर चीन पर ओबामा ने चीन को नसीहत देते हुए कहा कि, ‘चीन का खुद पर कंट्रोल रखना जरूरी, साउथ चाइना सी में अग्रेशन दिखाया तो गंभीर नतीजे भुगतने होंगे l’ इन दिनों वैसे भी दक्षिणी चीन सागर के मुद्दे पर चीन सभी देशों के निशाने पर है और अमेरिका से उसके रिश्ते कुछ खास नही है l

G20 समिट में हुई मोदी की तारीफ

अमेरिकी राष्ट्रपति ने G20 समिट में मोदी से मुलाकात कर जीएसटी बिल पारित कराने की सराहना की। उन्होंने कहा कि आज दुनिया में अर्थव्यवस्था की जो स्थिति है उसके हिसाब से यह साहसपूर्ण नीति है। भारत जिस तरीके से प्रगति कर रहा है, उसके बारे में ओबामा ने कहा कि ” मैं उनकी विकास की राजनीति का कायल हूँ, और भारत के लिए ये सुखद है कि मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं l इतना ही नही ओबामा के अलावा जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने भी भारत की तरफदारी करते हुए मोदी की तारीफ की l

foto_4

जापानी प्रधानमंत्री ने मोदी की तारीफ करते हुए कहा ‘मोदी भारत जैसे विशाल जनसंख्या वाले देश को अच्छी दिशा में ले जा रहे हैं l’ इतना ही नही जापान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि,  ‘हम एनएसजी में सदस्यता को संभव बनाने के लिए भारत के साथ लगातार काम कर रहे हैं l हम इस मुद्दे पर भारत के साथ काम करते रहना चाहते हैं, क्योंकि हमें लगता है कि भारत की सदस्यता से परमाणु अप्रसार व्यवस्था को ताकत मिलेगी l जापान एनएसजी के दूसरे सदस्य देशों के साथ इस मुद्दे पर लगातार बातचीत करता रहेगा l हर तरफ़ से हिंदुस्तान की तारीफ होने से चीन और पाकिस्तान जैसे देशों की चिंता बढ़ना कोई बड़ी बात नही l