भारत और चीन के बीच में इस समय काफी गहरा विवाद चल रहा है और दोनों ही देश युद्ध के लिए तैयार हैं.  आपको बता दें इस समय चीन और भारत दोनों ही देश काफी ताकतवर हैं और एक दुसरे को विश्वस्तर पर कड़ी टक्कर दे रहे हैं. आपको बता दें हाल ही में एक ऐसी खबर आई है जिसे सुनकर चीन के हेकड़ी निकल जायेगी. दरअसल अमेरिका ने दावा किया है कि भारत एक ऐसी मिसाइल बना रहा है जो एक ही बार में पूरे चीन को तबाह कर देगी.

 

 

भारत कर रहा है अपना सिस्टम मजबूत…

एक खबर के अनुसार अमेरिका के न्यूक्लियर विशेषज्ञों ने कहा है कि भारत अपने न्यूक्लियर सिस्टम को मजबूत करने पर लगा हुआ है जिससे वो चीन को एक ही बार में निशाना बना लेगा.

 

आर्टिकल में लिखा है कि…

एक आर्टिकल में लिखा गया है कि भारत के पास करीब 600 किलो प्लूटोनियम है. इसी के इस्तेमाल से न्यूक्लियर हथियार बनाये जाते हैं. आर्टिकल में आगे लिखा है कि सिर्फ 150 या 200 किलो प्लूटोनियम  का ही इस्तमाल भारत करेगा.  भारतीय अख़बार में लिखी इस खबर में साफ़ लिखा है कि ऐसी मिसाइल बनाई जा रही है जो एक बार में ही चीन का सफाया कर देगी.

 

source

 

एक्स्पेर्क्ट की क्या है राय…

इस बात को लेकर एक्सपर्ट का कहना है कि भारत जिस स्पीड से हथियार खरीद रहा है और बना रहा है जल्द ही मार्किट में भारत के पास सबसे ज्यादा हथियार होंगे.  भारत के पास मौजूदा समय में सात न्यूक्लियर- सक्षम सिस्टम हैं, जिसमें दो प्लेन, चार जमीनी बैलिस्टिक मिसाइलें और एक समुद्री बैलिस्टिक मिसाइल शामिल हैं. अगर उनकी मानें तो भारत चार और ऐसे सिस्टम बना रहा है जो जमीन और समुद्र से लंबी दूरी तक हमला करने की क्षमता रख सकेगा.

 

source

 

 

चीन की निकाली भारत ने हेकड़ी पहले तो भारतीय जवान घुसे चीनी सीमा के 3 किलोमीटर अंदर और फिर दिया ये कड़ा सन्देश, उड़ गयी है बौखलाए चीन की नींद… 

भारत और चीन के बीच का युद्ध काफी पुराना है, चीन शुरू से ही भारत से बौखलाया रहता है और आये दिन भारतीय सीमा पर हमला करता है l ये बात भी सभी जानते हैं भारत के दुश्मन पाकिस्तान का चीन बहुत अच्छा दोस्त है और उसकी बेहतरीन ढंग से रक्षा करता है l हाल ही में एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें भारतीय सेना मानव श्रंखला बनाते हुए चीनी सैनिकों को भारत में आने से रोक रहे थे, बता दें दोनों देशों की तरफ से कम से कम 1000 सैनिक आमने सामने थे l कुछ दिन पहले की ही घटना है जब चीन की आर्मी ने सिक्किम में घुसकर चीनी सेना ने भारतियों के 2 बंकर उड़ा दिए थे l इसके बाद से दोनों देशो के बीच बवाल हो गया था l

बता दें चीन की बौखलाहट की वजह पीएम मोदी का अमेरिका दौरा भी बताया जा रहा है  l बता दें भारत की अमेरिका से बढ़ती करीबी को देख चीन बौखलाया हुआ है l आपको बता दें बौखलाए चीन ने सिक्किम से होकर जाने वाली मानसरोवर यात्रा पर रोक लगा दी है l भारतीय लोगों को इसके चलते काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और चीन इसका कारण सुरक्षा बता रहा है l ये पहली बार नहीं है जब चीन ने इस तरह की घटिया हरकत की है इससे पहले भी २००९ में चीन ने भारत से होनी वाली मानसरोवर यात्रा रोकी थी और भारतीय बंकर उड़ाए थे l

इस बार चीन ने जो किया है उसके बाद भारत ने बदला लेने की ठान ली है और चीन की हेकड़ी निकाल दी है l बतादें भारतीय आर्मी में चीनी सेना को 6 ब्लाक पीछे खदेड़ दिया है और 3 किलोमीटर चीनी सीमा के अंदर कब्जा किया है l चाइना की नींद उड़ाने के लिए भारत ने अब जवाबी कार्यवाही शुरू कर दी है l

भारतीय सैनिकों को चीन के सैनिकों को भारतीय सीमा में और अंदर घुसने से रोकने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी. उन्होंने पीएलए सैनिकों को रोकने के लिए वास्तविक सीमा रेखा (एलएसी) पर मानव दीवार बनाई. कुछ सैनिकों ने इस घटना का वीडियो बनाया तथा तस्वीरें लीं. डोका ला क्षेत्र के लाल्तन इलाके में बंकर भी नष्ट किए गए l  20 जून को दोनों पक्षों के वरिष्ठ सेना अधिकारियों के बीच एक फ्लैग बैठक भी हुई, लेकिन तनाव अब भी जारी है l  यह पहली बार नहीं है जब सिक्किम-भूटान-तिब्बत के मिलने वाले इलाके डोका ला में ऐसा अतिक्रमण हुआ है. चीन के बलों ने नवंबर, 2008 में इसी जगह भारतीय सेना के कुछ अस्थायी बंकर नष्ट कर दिए थे l

बता दें चीनी सेना को भारतीय सैनिकों ने भारत की सीमा के अंदर निर्माण करने से रोका था जिसके बाद चीन ने बौखलाहट से भारतीय बंकर उड़ा दिए थे l अब चीन के अंदर जब भारतीय सेना ने तांडव शुरू कर दिया है तो चीन की हवा खराब हो गयी है और चीन ने धमकी भरे लहजे में  कहा है कि इंडियन आर्मी पीछे हते वरना कोई बातचीत नहीं होगी l चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने बयान जारी करते हुए कहा कि चुंबा घाटी को लेकर भारत सरकार से अभी कोई बातचीत नहीं चल रही है। भारत से बातचीत करने के लिए चीन की एकमात्र शर्त है कि भारतीय सेना अपनी जगह से पीछे जाए, तभी कोई बातचीत होगी। चीनी विदेश मंत्रालय का ये बयान चीन के अड़ियल रवैय्ये की बानगी भर है।