विधानसभा में मिले विस्फोटक पदार्थ से मची अफरा-तफरी

12 जुलाई को उत्तर-प्रदेश की विधानसभा में मिले एक पाउडर को लेकर अफरा-तफरी मच गयी. पाउडर को फोरेंसिक टीम के लिए दे दिया गया था. फोरेंसिक टीम ने मिले पाउडर की पुष्टि की है जो एक विस्फोटक पदार्थ है. विधानसभा में सुरक्षा को लेकर विधानसभा में बड़ी चूक हुई है जिसका परिणाम बहुत घातक हो सकता था. विस्फोटक मिलने के बाद उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री ने योगी आदित्यनाथ ने वर्तमान में चल रहे सत्र की सुरक्षा की व्यवस्था को बेहद गंभीरता से लिया है. योगी ने विधानसभा सत्र के दौरान कहा कि यह बेहद गंभीर मामला है इससे बहुत बड़ा नुकसान हो सकता था. yogi

Source

सुरक्षा की जिम्मेदारी सामूहिक

इसी के साथ योगी ने कहा सुरक्षा की जिम्मेदारी हम सब लोगों की है सरकार अपना काम अच्छे ढंग से कर रही है. सुरक्षा को लेकर सरकार की ही जिम्मेदारी नहीं है हम सभी को सामूहिक तरीके से सुरक्षा की जिम्मेदारी लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि बजट सत्र के दौरान विधायकों के आलावा कोई और विधानसभा में नहीं आ सकता है. उन्होंने कहा किसी एक व्यक्ति को खुश करने के लिए ये खतरा मोल लिया जा सकता है यह बेहद गंभीर प्रकरण है.

Source

जिसने भी यह हरकत की है उसे बख्सा नहीं जायेगा

योगी ने कहा सदन की सुरक्षा को लेकर हम सबकी एक सहमति होनी चाहिए. लेकिन विपक्ष की सीट के पास विस्फोटक मिलना चिंता का विषय है.यह हरकत सीधे विधानसभा की सुरक्षा में सेंध जैसा है.आपको बता दें कि 11 जुलाई को बजट सत्र प्रारंभ हुआ तथा 12 जुलाई को भी चल ही रहा था. विधानसभा में विधायकों, विधानभवन के कर्मचारी एवं मार्शलों को छोड़कर किसी को आने की अनुमति नहीं है. सत्र के दौरान ही 150 ग्राम विस्फोटक पदार्थ मिला जो विधानसभा को उड़ाने के लिए काफी था.जिसने भी यह हरकत की है उसे कतई बख्सा नहीं जायेगा.

Source

विधायकों को फोन ना लाने के दिए निर्देश

योगी ने विधानसभा में सभी विधायकों से फोन ना लाने की गुजारिश की है तथा इसी के साथ कहा कि सत्र के दौरान चल रहे भाषण को लेकर फोन की घंटी बजने से विवरोध उत्पन्न होता है. कोई भी विधायक अगर भाषण देना चाहता है तो वह फोन न लाने की बजाय नोटबुक लेकर आये. साथ ही योगी ने बताया की पूरी विधान सभा को उड़ाने के लिए 500 ग्राम विस्फोटक काफी है. इस विस्फोटक का पता तब तक नहीं लग सकता जबतक इसकी फिजिकल जाँच न हो. यह गंभीर साजिश है जिसकी जाच पर्दाफाश होना आवश्यक है.

Source

पुरानी गाड़ियों के पास होंगे रद्द

विधानसभा में प्रवेश करने के लिए जितनी भी पुरानी गाड़ियों के पास है उन्हें रद्द किया जायेगा. सभी विधायकों के लिए नयी गाड़ी से प्रवेश करने के लिए नये पास जारी किये जायेंगे. विधायकों की एक गाड़ी के आलावा बाकी सभी गाड़ियों के पास हो निरस्त किया जायेगा. वाहनों के साथ उन्ही लोगों को प्रवेश दिया जायेगा जिनके पास विधानसभा पास होगा.

Source

विधानसभा की सभी 6 गेटों पर लगेगा फुल बॉडी स्कैनर.

विधानसभा में प्रवेश करने वाले लोगों की फुल जाँच होगी.साथ ही योगी ने कहा है कि नेता कोई भी हो सभी की जाँच हो.विधानसभा स्टाफ की भी फुल जाँच होगी. उन्होंने कहा है स्थिति को गंभीरता को लेते हुए सुरक्षा को लेकर कोई चूक नहीं की जायेगी. चाहे कोई विशेष व्यक्ति क्यों न हो. साथ ही उन्होंने कहा विस्फोटक का आसानी से पता नहीं लग पा रहा है.डॉग स्कवॉयड भी इसे सूंघने में सफल नहीं हो पा रहा था, ये एक साजिश है. मैं चाहता हूं कि जो भी यहां पर कर्मचारी काम करते हैं, उनका पुलिस वेरिफिकेशन होना चाहिए. सुरक्षा को लेकर दिए गये सभी प्रस्तावों को विपक्ष ने भी मंजूरी दे दी है.