भारत-चीन गतिरोध के बीच चीनी मीडिया में भारत को लेकर लिखा जा रहा है कुछ ऐसा

भारत और चीन के बीच कुछ समय से गतिरोध बना हुआ है. दोनों देश सीमा विवाद को लेकर आपस में उलझे हुए हैं. चीन अपने अड़ियल रवैये को बरकरार रखते हुए भारत की सीमाओं में घुसने की कोशिश करना चाहता है, उसके सैनिकों द्वारा भारत की सीमाओं पर अवैध निर्माण कार्य करने की कोशिश की जाती है लेकिन भारत उनके नापाक इरादों को पूरा नहीं होने देता. इसके बाद चीन का मीडिया भारत के खिलाफ ख़बरें छापने लगता है. सीमा पर हुई घटना के बाद चीन के मीडिया ने भारत को लेकर लिखा था कि चीन द्वारा भारत को सबक सिखाया जाना चाहिए. जिसके बाद भारत के मीडिया में उसकी इस गीदड़भभकी को लेकर कई सामाचार छापे गए जिनमें साफ़ लिखा गया कि चीन भारत का कुछ नहीं बिगाड़ सकता. चीन ने अगर भारत के खिलाफ कोई भी गलत कदम उठाया तो इससे चीन को ही सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ेगा.

source

इस बार चीनी मीडिया ने लिखी भारत के पक्ष में बात

आए दिन चीन के मीडिया में भारत को लेकर कोई न कोई खबर छपती ही रहती है. एक बार फिर चीन की मीडिया में भारत को लेकर बातें छपी हैं लेकिन इस बार जो कुछ चीन के मीडिया में लिखा गया है वो सब भारत की बढ़ती ताकत को बयां करता है. चीन सरकार द्वारा छापे जाने वाले अखबार में चीन को शांत रहने की सलाह दी गई है.

source

अखबार में आगे लिखा गया है कि, भारत बड़ी मात्रा में विदेशों से निवेश पा रहा है जिससे विनिर्माण क्षेत्र को विकसित करने की इसकी क्षमता बढ़ेगी. हालांकि, चीन को शांत रहने की आवश्यकता है और नए दौर के लिए अधिक प्रभावी वृद्धि की रणनीति पर काम शुरू कर देने की आवश्यकता है.

source

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स की एक खबर में लिखा गया है, ‘विदेशी विनिर्माताओं के निवेश का भारी प्रवाह भारत की अर्थव्यवस्था, औद्योगिक विकास और रोजगार के लिए काफी मायने रखता है.’ अखबार में आगे लिखा गया है कि, चीन को भारत की वृद्धि को देखते हुए शांत रहने की आवश्यकता है.

source

भारत से मुकाबला करने के लिए चीन को अब एक नये युग के लिए कहीं अच्छी रणनीति पर काम शुरू कर देना चाहिए. विदेशी विनिर्माताओं के आने से हिन्दुस्तान की कमजोरियां दूर होंगी और उनकी क्षमता में वृद्धि होगी. चीन के अखबार में छपी ये ख़बरें साफ़ तौर पर इशारा करती हैं कि भारत के बढ़ते कद को देखकर चीन में चिंताएं हैं इसीलिए उसका मीडिया अब सलाह दे रहा है कि आने वाले टाइम में चीन को अच्छी रणनीति बनानी चाहिए.

source

चीनी मीडिया में भारत-चीन-म्यांमार के त्रिपक्षीय संवाद को लेकर भी लिखा गया है. चीन के सरकारी मीडिया ने लिखा है कि इस संवाद का क्षेत्र के लिए ‘व्यापक भूराजनीतिक एवं आर्थिक महत्व होगा’. चीन के सरकारी मीडिया के अखबार ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है कि, ‘ म्यांमार के लिए  ‘कोई शत्रु नहीं’ की रणनीति सबसे अच्छी रणनीतिक पहल होगी. हाल में ही उसे भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद का फायदा हुआ है.’ चीन के अखबार में ये भी छापा गया है कि चीन से अपनी निर्भरता कम करने के लिए म्यांमार भारत की ओर बढ़ रहा है.