यूँ तो अमित शाह और नरेंद्र मोदी की दोस्ती दुनिया से छुपी नहीं है. जहाँ पीएम मोदी होते हैं वहां उनका साया बनकर अमित शाह का होना उतना ही लाज़मी है जितने किसी इंसान और धूप में उसके साए का.  सिर्फ एक दो नहीं ढूँढने जाइये तो ऐसे आपको सौ कारण मिलेंगें जिसके चलते अमित शाह को बीजेपी का दायाँ हाथ माना जाने लगा है. यहाँ ये कहना बिलकुल भी गलत नहीं होगा कि शाह की रणनीति और नेतृत्व के बदौलत ही 2014 चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगी दल को यूपी में 73 सीटें मिली थी. जिसमें अकेले बीजेपी मे 80 सीटों में 72 सीटें अपने नाम की थी,  लेकिन बीते कुछ समय से अमित शाह के हाव-भाव बदले नज़र आ रहे थे. खबर थी कि पीएम मोदी से अपनी दोस्ती के ताक पर रखकर अमित शाह कहीं और खोये हुयें हैं.

source

पीएम मोदी से अमित शाह हैं बेहद करीब 

देश की सत्ताधारी पार्टी में मौजूदा समय में पीएम मोदी और अमित शाह को एक ऐसा स्तंभ माना जाता है जो आपस में भी काफी करीब हैं. ऐसा माना जाता है कि बीजेपी के सत्ता में आने के बाद शायद ही कोई ऐसा दिन गया हो जब पीएम मोदी और अमित शाह ने फोन पर बात ना की हो. देश का कोई भी मुद्दा हो अमित शाह और पीएम मोदी उसपर मशविरा ज़रूर करते हैं, लेकिन अब ऐसी खबरे आ रही हैं कि अमित शाह से बात करने के लिए पीएम मोदी को भी काफी समय तक इंतज़ार करना पड़ता है.

source

अमित शाह का पार्टी से यूँ किनारा करने का कारण है एक 3 महीने की बच्ची? 

जी हाँ आपने बिलकुल सही पढ़ा है. दरअसल जिस वजह के चलते अमित शाह अब पार्टी के कामों में ढंग से ध्यान नहीं दे पा रहे हैं वो है एक 3 महीने की बच्ची और ये बच्ची कोई और नहीं बल्कि अमित शाह की पोती है. बता दें अभी बीते अप्रैल में ही अमित शाह दादा बने थे और उनकी पोती का नाम रुद्री बताया जा रहा है.

source

रुद्री से रोज़ बात करते हैं अमित शाह

बताया जा रहा है रुद्री के पैदा होने से पहले अमित शाह का सारा समय बीजेपी के लिए हुआ करता था लेकिन घर में नन्हे मेहमान के आने के बाद से ही कहा जा रहा है कि अमित शाह कुछ भी करके दिन में लगभग तीन से चार बार अपनी पोती के लिए समय निकालते हैं. अमित शाह पोती के आने से इतने खुश और उत्साहित हैं कि अब रुद्री की आवाज़ सुने बिना अमित शाह का दिन ही नहीं बीतता. फिर वो चाहे रुद्री से बात करने के लिए वीडियो कॉल करते हैं या फिर स्काइप चैट.

source

अमित शाह अपनी पोती को सिखा रहे हैं “थ्री मैजिकल वर्ड्स” 

एक रिपोर्ट के मुताबिक अमित शाह और उनकी पोती की मासूम बातचीत का गवाह है एक चैनल के संवाददाता, जिन्होंने इस न्यूज़ को कवर करते वक़्त खुद देखा था कि कैसे अमित शाह जतन करके अपनी पोती को “थ्री मैजिकल वर्ड्स” सीखाने पर तुले हुए हैं. बता दें कि वो थ्री मैजिकल वर्ड्स हैं “जय श्री राम”.

source

अमित शाह को माना जाता है पीएम मोदी का सारथी 

वाकई में अमित शाह के बीजेपी के लिए किये गए असंख्य कामों की ही वजह से शायद उन्हें सारथि की ख्याति मिली हैं. राजनीति में जब भी कभी दो नेताओं की जोड़ी की मिसाल दी जाती है तो उसमे अमित शाह और पीएम मोदी की जोड़ी हमेशा ही शीर्ष पर होती है. माना जाता है कि जब पीएम मोदी गुजरात के सीएम हुआ करते थे तो भी नरेंद्र मोदी के चुनाव की कमान हमेशा ही अमित  शाह के हाथों में रहती थी.

source

ऐसी कई वजह हैं जिनके चलते अमित शाह को पीएम मोदी का बेहद ही करीबी माना जाता रहा है. ये कहना कतई भी गलत नहीं होगा कि ये अमित शाह की ही रणनीति का नतीजा था है जिसके चलते हाल में बीजेपी ने 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड तोड़ जीत दर्ज की थी. पार्टी सूत्रों की माने तो इन दिनों अमित शाह के ऊपर उन राज्यों की जिम्मेदारी है, जहां 2014 आम चुनावों में पार्टी कमजोर साबित हुई थी. जैसे पश्चिम बंगाल, ओडिशा, केरल आदि.