इतने दिनों से राष्ट्रपति चुनाव यानि देश का सबसे बड़े पद का चुनाव होने की सुगबुगाहट देश में ज़ोरोशोरो से चल रही थी. ऐसे में 17 जुलाई को सोमवार सुबह से ही संसद भवन में 31 राज्यों के विधानसभा परिसरों में बनाए गए मतदान केंद्रों में 10 बजे से वोटिंग शुरू कर दी गई थी. इस राष्ट्रपति चुनाव पर पूरे देश की नजरे टिकी हुई है, क्योंकि वह भी ये जानने के लिए उत्सुक है कि भारत का अगला राष्ट्रपति आखिर कौन होगा? राष्ट्रपति पद के लिए राजग के रामनाथ कोविंद और यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच सीधा मुकाबला है, जिनमें हालांकि मतों के आंकड़ों के गणित में मीरा के मुकाबले कोविंद का पलड़ा भारी माना जा रहा है.

source

काफी सख्त राखी गयी थी इस बार की चुनाव प्रक्रिया ताकि ना डाल सके कोई फ़र्ज़ी वोट

इस राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद को सत्तारूढ़ राजग के साथ-साथ जनता दल यू, बीजू जनता दल(बीजद), अन्नाद्रमुक, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के साथ सभी छोटे बड़े दलों का समर्थन प्राप्त है, लेकिन दूसरी तरफ़ विपक्ष की मीरा कुमार के पक्ष में कांग्रेस सहित 17 दलों का समर्थन मिला हुआ हुआ है लेकिन इस बार राष्ट्रपति चुनाव में कोई भी जाली मतदान ने कर सके, उसके लिए चुनाव आयोग ने एक बहुत बड़ा फैसला लिया है जिसके बाद कोई भी फर्जी तरीके से वोट नहीं डाल सकेगा .

source

फर्जीवाड़ा रोकने के लिए ख़ास पेन के ज़रिये दिया गया वोट

चुनाव आयोग के अनुसार राष्ट्रपति चुनाव एक सीक्रेट बेलेट पेपर के जरिए किया जायेगा जिसके लिए एक ख़ास तरीके के पेन सभी को दिया गया है जिसकी स्याही का रंग बैंगनी होगा और किसी और पेन से डाला गया मत  अवैध माना जायेगा, राष्ट्रपति चुनाव एक खास तरीके की प्रक्रिया के अधीन किया जायेगा, ताकि कोई भी मतदाता फर्जी मत न डाल सके और उसको रोका जा सके, पिछली बार से इस बार चुनाव में लोगों को ज्यादा रूचि देखने को मिल रही है क्योंकि इस बार एक खास पेन को चुनाव आयोग ने रिलीज़ किया है.

source

…लेकिन क्या आप जानते हैं राष्ट्रपति ना होने के बावजूद प्रणब मुख़र्जी को क्या-क्या सुविधाएं मिलेंगी?

इधर चुनाव की चहल-पहल तेज़ है तो उधर ये बात भी साफ़ है कि आने वाले 24 जुलाई को राष्ट्रपति प्रणब मुख़र्जी का कार्यकाल भी समाप्त हो जायेगा, लेकिन यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि राष्ट्रपति पद से हटने के बावजूद उन्हें देश की तरफ से क्या-क्या सुविधाएं मिलने वाली हैं.

source

अलॉट किया जायेगा सरकारी आवास 

मिली ख़बर के अनुसार कार्यकाल समाप्त होने के बाद राष्ट्रपति प्रणब मुख़र्जी को 10 राजाजी मार्ग पर एक सरकारी आवास अलॉट किया जायेगा. सिर्फ सरकारी आवास ही नहीं इसके साथ कई अन्य ऐसी सुविधाएं भी “पूर्व” राष्ट्रपति बनते ही प्रणब मुख़र्जी को मिलेंगी जिसकी जानकारी शायद ही लोगों को हो.

source

और भी मिलेंगी सुविधाएं

प्रणब मुख़र्जी को उनके राष्ट्रपति कार्यकाल पूरा होने के बाद मिलने वाले सरकारी आवास के बारे में तो हमने आपको बता दिया. यहाँ पर हम आपको बता दें प्रणब दा को 10 राजाजी मार्ग का सरकारी आवास में जो घर मिलेगा वो 11,776 sq ft में बना हुआ है. बताते चले कि  इससे पहले यह सरकारी आवास देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को भी दिया जा चुका है.

source

राष्ट्रपति की तनख्वाह होगी कुछ इतनी…

प्रणब मुख़र्जी को राष्ट्रपति पद से हटने के बाद मिलने वाली सुविधाओं की बात करें तो उन्हें सरकारी आवास के अलावा हर महीने 75 हज़ार रुपये तनख्वाह के रूप में मिलेगी. बताते चलें कि भारत के राष्ट्रपति की तनख्वाह डेढ़ रुपये मिलते हैं. इसके साथ ही हम आपको बता दें कि  राष्ट्रपति भवन में लगभग 200 लोगों बतौर स्टाफ राष्ट्रपति की सुरक्षा में तैनात रहते हैं. ऐसे में प्रणब मुर्खजी के पूर्व राष्ट्रपति होने पर भी उनके स्टाफ जिसमे उनके एक निजी सचिव, एक पर्सनल असिस्टेंट, एक अतिरिक्त निजी स्टाफ, और दो प्यून तैनात होंगे. इन सब सुख-सुविधाओं के अलावा “पूर्व” राष्ट्रपति को अलग से  60 हजार रुपये तक के ऑफिस एक्सपेंसिस भी मिलेंगें.

source

अब तक मिली ख़बरों के अनुसार 10 राजाजी मार्ग पर “पूर्व” राष्ट्रपति के आवास के नवीनीकरण का काम ज़ोरोशोरो से चल रहा है. साथ ही एक ख़बर के मुताबिक  प्रणब मुख़र्जी के पास किताबों का एक बड़ा संग्रह भी है जिसके लिए अब उनके नए घर में ख़ास जगह बनायीं जाने की बात चल रही है.