भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में लगातार तनातनी बनी हुई है . पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है . पाक सीमा पर लगातार सीजफायर उल्लंघन के साथ साथ आतंकी हमले भी करवा रहा है . भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान के सीजफायर उल्लंघन के जवाब में  पाक के 4 सैनिकों को मार गिराया है . भारतीय सैनिकों की इस कार्यवाही से पाकिस्तान बुरी तरह से बौखला गया है . पाक ने भारतीय सेना को जवाब देने के लिए इंसानियत की सारी हदें पार कर दी . इससे पहले भी पाक ने इस तरह का दुस्साहस किया है . पाक ने पहले भी भारतीय सेना के जवानों के शवों के साथ अभद्रता की थी .

Source

पाक ने अपनी इस हरकत से की इंसानियत की सारी  हदें पार

भारतीय सेना की कार्यवाही के बाद पाक सेना ने एलओसी  पर जम्मू कश्मीर के मेढ़र के बालाकोट में और राजौरी के सीमांत क्षेत्रों में स्थित स्कूलों पर जमकर मोर्टार दागे . पाक सेना ने तीन स्कूलों पर निशाना साधा . पाक की इस करतूत ने दुस्साहस की सारी हदें पार कर दी .पाक की इस फायरिंग का भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया है . मंगलवार को पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर नौशेरा सेक्टर में मोर्टार दागे थे . जिसकी वजह से इस इलाके के पास स्कूलों में लगभग 200 से ज्यादा बच्चे और टीचर  फंस गए थे . सेना ने इन सभी बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया . स्कूली बच्चे करीब 8 घंटे तक उस इलाके में फंसे रहे .

Source

भारतीय सेना ने दिया पाक को मुंहतोड़ जवाब

सेना और पुलिस ने राजौरी इलाके में रेस्क्यू ओपरेशन किया और स्कूली बच्चों को बुलेट प्रूफ वाहन से सुरक्षित निकला .पाक ने इस इलाके के साथ ही नौगाम सेक्टर में भी गोलीबारी की इस गोलीबारी में भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया . कश्मीर के नौशेरा सेक्टर के भिवानी में सरकारी हाई स्कूल में करीब 160 बच्चे फंसे थे . पाकिस्तान ने जब इस इलाके में मोर्टार दागे तब बच्चे स्कूल में ही मौजूद थे . सेना और जम्मू कश्मीर पुलिस ने इन बच्चों को स्कूल में रोक रखा था . इसके बाद सेना ने एक बुलेट प्रूफ वाहन के प्रयोग से सभी बच्चों और स्कूल के स्टाफ मेंबर्स को उस जगह से निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया .

Source

सेना ने की सात साल में अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही

भारतीय सेना ने इस साल पाक पर कड़ी कार्यवाही की है . सेना ने पिछले सात साल के रिकॉर्ड को भी इस बार तोड़ दिया है . भारत के  सुरक्षाबलों ने इस साल अभी तक 7 महीनों में 100 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया है . कश्मीर में सेना की इस तरह की कार्यवाही पिछले सात साल में पहली बार देखने को मिली है . सेना ने इस साल जनवरी से 12 जुलाई तक सबसे ज्यादा आतंकियों का खात्मा किया है . मारे गये आतंकी लश्कर-ए-तैयबा, हिज्बुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठन से जुड़े हुए थे . सेना ने इन आतंकियों की एक लिस्ट तैयार करके बड़ी कार्यवाही की है . सेना द्वारा मारे गये आतंकियों की इस लिस्ट में लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर बशीर लश्करी और हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी सब्जार भट भी शामिल है .

Source

भारतीय सेना द्वारा मारे गये आतंकी लश्करी ने दक्षिण कश्मीर में 6 पुलिसकर्मियों की हत्या की थी . इस घटना के बाद से ही लश्करी सेना के निशाने पर था . सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सुरक्षाबलों की इस कार्यवाही में 12 जुलाई तक 102 आतंकियों का खात्मा हो चुका है . सेना की इस तरह की कार्यवाही में पिछले सात साल में यह सर्वोच्च आंकड़ा है . सेना ने इससे पहले वर्ष 2010 में जनवरी से जुलाई के बीच सबसे ज्यादा 156 आतंकी मारे थे . सेना ने कार्यवाही में पिछले वर्ष 77 आतंकी मार गिराए थे . इसी के साथ अधिकारी ने बताया कि एक विशेष अभियान के तहत सेना द्वारा विभिन्न संगठनों के आतंकियों की तलाश को और तेज कर दिया गया है .