चीन और भारत के बीच गतिरोध बना हुआ है. दोनों देशों के सैनिक सीमाओं पर खड़े हैं, जहाँ एक ओर चीनी सैनिक जबरन भारत की सीमाओं में घुसना चाहते हैं तो दूसरी ओर भारत के सैनिक चीन की नापाक हरकतों के खिलाफ मोर्चा खोलकर खड़े हैं. आपको बता दें कि सीमा विवाद भारत और चीन के बीच बहुत लम्बे समय से बना हुआ है और इसका कोई स्थायी हल नहीं निकल पा रहा है. जिस सिक्किम को चीन ने भारत का राज्य होने का दर्जा दिया था आज उसी सिक्किम को लेकर वो भारत को धमकियाँ दे रहा है.

source

लगातार बनी इस तनातनी के मुद्दे के बीच शायद लोग उन लोगों की सुध लेना ही भूल गए हैं जो भारत चीन के इस बॉर्डर पर हैं. ऐसे में हाल ही में जब चाइना बॉर्डर पर रह रहे कुछ नागरिकों से इस युद्ध की स्थिति जैसे माहौल के बारे में बात की गयी तो उनके जवाब सुनकर उसपर यकीन कर पाना मुश्किल सा लगा.

source

सीमा पर सिर्फ सुरक्षाकर्मी ही नहीं, बल्कि सीमांत गांवों के लोग भी चीन से सतर्क हैं

बताया जा रहा है कि लगातार सीमा पर युद्ध के हालात बनते देख ना सिर्फ सैनिक बल्कि आम जनता भी सतर्क हो गयी है. हालाँकि अच्छी बात ये है कि युद्ध सी स्थिति होने के बावजूद अब यहाँ के लोगों को कोई डर नहीं है. पूछने पर लोगों ने इसका कारण बताया कि सीमा पर भारतीय जवान हमारी सुरक्षा के लिए तैनात हैं तो हमे किस बात का डर?

source

बॉर्डर पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच चल रही तनातनी की वजह से बेशक वहां का माहौल सामान्य नहीं है, वहां के लोग रोजमर्रा की चीज़ों के आभाव में जी रहे है, लेकिन उनके हौसले में रंच भर कमी नहीं है. मिली खबर के अनुसार सीमावर्ती लोगों के पास इस समय ना ही पर्याप्त बिजली,पानी है ना ही कोई और सुख सुविधा लेकिन भारतीय जवानों पर इनका भरोसा इस कदर है कि उन्हें और किसी बात के अभाव का कोई मलाल ही नहीं है. इनका मानना है कि सीमा पर भारतीय सैन्यकर्मियों की मौजूदगी है, जिसके चलते उन्हें चीन से डरने की कोई जरूरत नहीं है.

source

बता दें कि एक बड़ी समस्या ये भी है कि चीन अपने क्षेत्र में हमेशा ही निर्माण में लगा रहता है लेकिन जब बात भारत की आती है तो वो अपना आपा खो बैठता है. चीन चाहता ही नहीं है कि भारत अपनी तरफ से कोई निर्माण करे. ऐसे में अब जब भारत अपनी सीमा पर काम करना चाह रहा है तो ये चीन को हज़म नहीं हो रहा है.

source

1962 के युद्ध की खुमारी अभी चीन के सिर से उतर नहीं पाई है शायद इसी वजह से वो आयेदिन भारत को आँख दिखाता रहता है  लेकिन इस बार हमारी भारतीय सेना की तैयारी बताती है कि अब अगर चीन ने आंखें दिखाई तो उसके लिए अंजाम अच्छा नहीं होगा.

source

यहां रहने वाले लोगों को आज चीन से कोई डर नहीं लगता क्योंकि इन्हें अपने भारतीय जवानों पर पूरा यकीन है. लद्दाख भारत के लिए निर्णायक है. लेकिन वहां सीमा पर आखिरी गांव तक बिजली नहीं पहुंच पाई है, उन बुनियादी जरूरतों के लिए काम करने की जरूरत है.

source

डोकलाम में चीन की दादागिरी बढ़ती ही जा रही है. सीमा विवाद शुरू हुए 36 दिन हो गए लेकिन चीन अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है. रोज़ भारत को नयी धमकी, रोज़ कुछ उठा-पाठक चीन की बौखलाहट को साफ़ ज़ाहिर करती है.