आज के समय में जींस कौन नही पहनता है? अच्छा, अगर नही भी पहनते हो तो घर में किसी ना किसी के पास तो जरुर होगा. उसे आप कभी उठाकर ध्यान से ऊपर से लेकर नीचे तक नजर गड़ा कर देखने की कोशिश किए, देखें भी होंगे  पर कभी इस बात पर सोचा नही होगा कि जींस की  पैंट की जेब के उपर एक छोटी जेब होती वो किस लिए होती है? किस लिए होती है इतना सोचने का समय किसके पास है लेकिन आपने उसमें सिक्का और चोरी से बचाने के लिए नोट को सिगरेट बनाकर जरुर रखा होगा. अगर यह भी नही किया होगा तो उसमें कुछ न कुछ छुपाकर रखने की कोशिश तो जरुर की होगी  लेकिन आइये हम आपको बताते हैं इस पॉकेट का आविष्कार क्यों किया गया, क्यों एक ऐसी जेब बनाई गयी जिसमें 2 उंगली तक नही घुस सकती.

इस सवाल को जवाब 1873 में पहली डेनिम जींस बनाने वाली कंपनी लिवाइ स्ट्रास एंड कंपनी ने खुद दिया है. जींस बनाने वाली अमेरिकी कंपनी ने ब्लॉग के जरिये इस सवाल का जवाब दिया है.उसने बताया कि इस पॉकेट को इसलिए बनाया है ताकि अमेरिकी  काऊबॉय अपनी घड़ियों को सुरक्षित रख सकें. अब आप सोच रहें होंगे  कि जिस पॉकेट के बारे में हम जानते तक नही थे वो पॉकेट किसी के शौक के चलते ही हमारे पैंट में लगी होती है.

Source

काऊबॉय अपनी हर शौक को अपने हिसाब से पूरा करते थे. उन्हें हाथ वाली घड़ी के बजाय जेब में रखने वाली घड़ी ज्यादा पसंद थी  जिसके लिए अलग से जेब तक बनवा ली थी और  हम आज तक वैसे ही पहनते आ रहे हैं. हमारे पहनने को तो छोड़ ही दीजिये कई सारी जींस बनाने वाली कंपनियो को भी नही पता होगा कि छोटी सी जेब क्यों होती हैं? लेकिन हमने आज आपको बता दिया है.

Source

आजकल तो किसी भी कंपनी की जींस ले लो. पांच पॉकेट तो रहना ही रहना है. दो पीछे, दो आगे और एक वाच पॉकेट लेकिन लिवाइस कम्पनी के अनुसार पहली जींस में चार ही  पॉकेट थे एक पीछे, दो आगे और एक वाच वाला (जिसके बारे में बता रहे हैं). जब यह पॉकेट सबको भाने लगी तो इसे अलग-अलग नाम भी देने लगे.  फ्रंटियर पॉकेट, कॉन्डोम पॉकेट, क्वाइन पॉकेट, मैच पॉकेट और टिकट पॉकेट जैसे जिसके काम में आया वैसे उसका नाम भी रख दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here