जहां एक तरफ गुजरात में चुनाव की तारीख का एलान भी नहीं हुआ है वहीं दूसरी तरफ इंडिया टुडे के ओपिनियन पोल में बीजेपी की बड़ी जीत का दावा किया जा रहा है. गुजरात में 182 सीटों में से कम से कम 115 सीट बीजेपी के जीतने के आसार हैं और लोगों का भरोसा अब भी पीएम मोदी पर टिका हुआ है. वैसे तो गुजरात में नोटबंदी और GST  को लेकर काफी विरोध हुआ था लेकिन फिर भी ओपिनियन पोल के हिसाब से लोग अब भी बीजेपी पर ही भरोसा करते हैं.

source

 

विपक्ष के लिए क्या है लोगों की राय ?

राहुल गाँधी ने इस बार बहुत बहतरीन ढंग से प्रचार किया है और लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया है लेकिन इसका उनकी पार्टी को ज्यादा फायदा मिलता नहीं दिख रहा है और उनके खाते में मात्र 57 से लेकर 65 सीट तक आती दिख रही हैं.  भले ही तीन युवा नेता लगातार बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं लेकिन लोगों का रुझान अब भी बीजेपी की ओर है.

source

 

हार्दिक पटेल ने दिया कांग्रेस का साथ तो ? 

पोल की मानते हुए अगर हार्दिक पटेल कांग्रेस का साथ देते हैं तो कांग्रेस को 40 प्रतिशत तक सीट मिल सकती हैं और बीजेपी को कुछ और सीटों से हाथ धोना पड़ सकता है.

source

पीएम मोदी को कौन हरा सकता है गुजरात में ? 

पीएम मोदी को हराने वाला शख्स कोई और नहीं बल्कि खुद पीएम मोदी ही होंगे,  दरअसल आज तक के सर्वे में देखा गया है कि लोग पीएम मोदी के कुछ फैसलों से ना खुश हैं. पीएम मोदी का नोटबंदी का फैसला और GST  को सही ढंग से ना लाना उनको महंगा पड़ सकता है क्योंकि जनता को मूड कभी भी बदल जाता है. शुरू में जहां आधी से ज्यादा जनता मोदी समर्थक थी वहीं अब जनता का कुछ भाग इस फैसलों के चलते विपक्ष की ओर जा रहा है.

source

लोगों का GST को लेकर क्या है कहना ? 

आजतक के सर्वे के अनुसार GST को लेकर 51 प्रतिशत लोग नाखुश हैं और 38 प्रतिशत लोगों को GST समझ आया है. इसका असर आने वाले चुनाव में देखने को मिल सकता है. बता दें 11 प्रतिशत लोगों ने GST को लेकर कोई ख़ास राय नहीं दी है.

गुजरात में किसानों का क्या है मूड ?  

गुजरात में पीएम मोदी के हर भाषण में गुजरात के किसानों की बात की गयी है लेकिन फिर भी 49 प्रतिशत किसान पीएम मोदी से नाखुश है और 7 प्रतिशत किसान बेहद गुस्से में है, यूं तो सर्वे में सबसे ज्यादा लोग बीजेपी की तरफ हैं लेकिन पीएम मोदी के ये फैसले उनकी जीत का रोड़ा बन सकते हैं.

source

इस बार के चुनाव काफी मजेदार होने वाल है क्योंकि कांग्रेस ने भी पूरा दम लगा दिया है, हालाकिं वो अभी तक राहुल मोह नहीं छोड़ पाए हैं. दूसरी तरफ बीजेपी के प्रचार में हमेशा की तरह गर्मजोशी है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here