बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कल शाम लालू और कांग्रेस के सहयोग से बनी सरकार से इस्तीफ़ा दे दिया| अचानक से उठाये गये इस कदम से बिहार के साथ साथ देश भर की राजनीति में भूचाल आ गया| कई सालों बाद सत्ता में वापसी करने वाले लालू यादव की पार्टी और परिवार फिर सत्ता से दूर हो गये| नीतीश सरकार में लालू के दो बेटे शीर्ष पदों पर थे| ऐसा कहा जा रहा था कि तेजस्वी यादव के इस्तीफे को लेकर शुरु हुए विवाद का अंत नीतीश के इस्तीफ़ा देने के बाद ख़त्म हो गया| इसी के साथ बीजेपी को रोकने के लिए बनाया गया महागठबंधन भी टूट गया| बीजेपी और जेडीयू  नीतीश के इस कदम की सराहना कर रहे है| वही दूसरी तरफ  कांग्रेस और रजद के नेता नीतीश और मोदी को कोसते नही थक रहे है| लेकिन इसी लिस्ट में एक ऐसे नेता का नाम शामिल हो गया है नीतीश कुमार को दे सकता बड़ा झटका.

Source

मुस्लिम सांसद दे सकता है बड़ा झटका

नीतीश कुमार के इस कदम का विरोध महागठबंधन में शामिल सभी पार्टियाँ तो कर ही रही है लेकिन इसी कड़ी में एक ऐसे नेता का नाम सामने आया है जो नीतीश को बड़ा झटका दे सकता है| दरअसल नीतीश पार्टी के नेता अली अनवर ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि बीजेपी के साथ जाना मेरे जमीर के खिलाफ है| अली अनवर ने आगे कहा कि नीतीश कुमार अपनी अंतरात्मा की आवाज़ सुनकर बीजेपी के साथ सरकार बना रहे है, लेकिन मेरी अंतरात्मा इस बात को नही मानती. अगर मुझे मौका मिला तो पार्टी के सामने मै अपने बात जरुर रखूँगा|

 

पूर्व अध्यक्ष ने भी बताया फैसले को गलत

अली अनवर के साथ जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष शरद कुमार ने भी नीतीश के फैसले को गलत बताया है| सूत्रों के अनुसार शरद यादव का कहना है कि गठबंधन तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बनाने का फैसला जल्दीबाज़ी में लिया गया फैसला है| आपको बता दें कि इस तरह के बगावती सुर सामने आने से जेडीयू से नाराज़ कुछ और लोग भी बगावत कर सकते है| आपको बता दें कि जेडीयू में 5 मुस्लिम विधायक और 11 यादव विधायक है जो नीतीश कुमार से बगावत कर सकते है|

नीतीश कुमार पर गंभीर आरोप

लालू यादव ने प्रेस कांफ्रेस कर नीतीश कुमार पर धोखा देने का अरोप लगाया गया है| लालू ने कहा कि नीतीश कुमार बीजेपी और आरएसएस से मिल गये है| ये पूरा कार्यक्रम पहले से ही फिक्स था| लालू ने बताया कि नीतीश कुमार पर मर्डर का आरोप है 2009 में नीतीश कुमार पर हत्या का केस है और उस केस का संज्ञान भी लिया जा चूका है| प्रेस कांफ्रेस के दौरान लालू काफी हमलावर नजर  आ रहे थे| लालू यादव ने कहा कि नीतीश कुमार ने किसी का इस्तीफ़ा नही माँगा था और न ही किसी तरह का विवाद था| हमसे हमारा पक्ष माँगा गया था जो हमने उन्हें दे दिया था.

नीतीश को फासी या उम्र कैद होगी

लालू यादव ने बताया कि नीतीश कुमार पर जो आरोप लगा है उस केस में नीतीश कुमार फ़ासी या फिर उम्रकैद की ही सजा होगी| इसी से बचने के लिए नीतीश कुमार बीजेपी के साथ मिल गये|  आपकी जानकरी के बता दें कि नीतीश कुमार एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके है| बीजेपी के सहयोग से  महज 15  घंटे के भीतर नीतीश कुमार दुबारा मुख्यमंत्री बन गये| बीजेपी की तरफ से उपमुख्यमंत्री के तौर पर सुशील मोदी को शपथ दिलाई गयी| इसी के साथ बिहार में एक बार फिर बीजेपी और जेडीयू के गठबंधन वाली सरकार बन गयी| नीतीश कुमार 4 साल बाद फिर बीजेपी के पास वापस लौट आये है|