इन दिनों चीन और भारत के बीच विवाद चल रहा है और दोनों ही अपनी-अपनी ताकत सिद्ध करने में लगे हैं. आपको बता दें भारत ने इस मुद्दे पर बात करने के लिए अजीत डोभाल को चीन भेजा था और उन्होंने वहां चीन के राष्ट्रपति से मुलाक़ात की है. आपको बता दें जब अजीत डोभाल चीन जाने वाले थे तो चाइना ने साफ़ कहा था कि अजीत डोभाल चीन में ब्रिक्स सम्मेलन के लिए आ रहे हैं और हम उनसे डोकलाम के मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं करेंगे लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं है, कहने का मतलब है अजीद डोभाल चीन गये और वहां उन्होंने चीन के पीएम से डोकलम के मुद्दे पर बात की है. अजीत डोभाल भारत के सबसे काबिल अफसरों में से एक हैं और उन्होंने चीन में भी भारत का मां बढ़ाया है, आपको बता दें भारत इस समय चीन के मुकाबले काफी मजबूत है.

 

source

तो इसलिए डर रहा है चीन ! 

आपको बता दें खबर आई थी कि चीन भारत से डर रहा है जो बिलकुल सच है और हम अब आपको इसकी वजह भी बताएंगे. सबसे पहले बता दें चीन में अजीत डोभाल और चीन के पीएम के बीच हुई मीटिंग में जो निष्कर्ष निकला है इसको लेकर अभी कोई बात सामने नहीं आई हैं लेकिन यह साफ़ है कि चीन अब डर गया है.

 

source

 झूठ बोल रहा है चीन ? 

चीनी सरकारी अखबार में यह कहा गया था कि चीन ने सैन्य सामन तिब्बत भेजा है और वहीं से वो चीन की सेना को तैयार कर रहा है जबकि इस इलाके में नज़र रखने वाले लोगों के अनुसार यह सब झूठ है. चीन भारी दबाव बनाने के लिए ऐसा बोल रहा है. आपको बता दें चीन ने कुछ समय पहले एक वीडियो भी जारी किया था जिसमें उसने अपनी सेना का अभ्यास सत्र दिखाया था लेकिन बाद में पता चला कि वो वीडियो फेक है.

 

source

चीन का नहीं देगा कोई साथ ! 

सूत्रों का मानना है कि युद्ध हुआ तो चीन का कोई साथ नहीं देगा, अमेरिका से लेकर इजराइल तक सभी देश भारत के साथ हैं और चीन ऐसे में अकेला हो जायेगा  और उसके खामियाजा भुगतना पड़ेगा.

 

source

दक्षिण चीनी महासागर में भी है तनाव !  

जिन द्वीपों को लेकर चीन और जापान में विवाद है उन्हीं पर अब चीन ने एयर फ्लाइट कण्ट्रोल लागू कर दिया है.   इस बात को लेकर जापान भी चीन के खिलाफ है और उधर अमेरिका भी चीन के खिलाफ है तो ऐसे में भारत की जीत पक्की सी ही है.

 

 

source

चीन के की है बहुत बड़ी भूल ! 

भूटान के पास कुल मिलाकर 8000 लोगों की ताकत है और ऐसे में वो चीन से लड़ने की कभी नहीं सोच सकता है. ऐसे में जब चीन ने भूटान को हड़पना चाहा तो भारत को लगा कि अगला नंबर हमारा हो सकता है और उसने भूटान की सहायता की जो चीन को नागुज़रा हुआ. चीन ने सोचता होगा कि भूटान विरोध नहीं करेगा और वो आसानी से डोकलाम में पकड़ बना लेगा लेकिन भारतीय सेना ने चीन के उरादों पर पानी फेर दिया.  साफ़ है चीन इस समय घिरा हुआ है और उधर चीन का दोस्त पाकिस्तान भी मुसीबत में है ऐसे में चीन  के लिए यही बेहतर है कि वो पीछे हट जाए.