बिहार की राजनीति पिछले कुछ दिनों से गरमाई हुई है. इसी कड़ी में बिहार के गन्ना और अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने एक मुफ़्ती की आलोचना के बाद रविवार को क्षमा मांग ली. शुक्रवार को राजग सरकार ने विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया था जिसके बाद फ़िरोज़ अहमद ने जय श्रीराम का नारा लगाया था. खुर्शीद ने ये भी कहा था कि अगर जय श्री राम कहने से देश का भला होता है तो मैं सुबह शाम जय श्री राम बोलने के लिए तैयार हूँ.

source

फिरोज़ के इस बयान के बाद मुफ़्ती ने उनकी आलोचना की जिसके बाद रविवार को फ़िरोज़ अहमद ने माफ़ी मांग ली. फ़िरोज़ ने अपने बयान में कहा था कि मैं हिंदुस्तान के हर तीर्थ स्थल पर माथा टेकने जाता हूँ अगर राम का नाम लेने से देश का भला होता है तो मैं सुबह शाम जय श्रीराम बोलने को तैयार हूं. उन्होंने कहा कि इस्लाम प्यार व मोहब्बत की बुनियाद पर टिका हुआ है. फिरोज़ ने लालू पर भी तंज कसा था उन्होंने कहा था कि, मैंने लालू से पीछा छुड़ाने के लिए मनोकामना मंदिर में पूजा की थी. जिसके अगले ही दिन गंठबंधन टूट गया.

source

खुर्शीद ने मुफ़्ती की आलोचना के बाद कहा कि, उनके किसी भी बयान से किसी को कोई भी तकलीफ पहुंची है तो उसके लिए वो माफ़ी मांगते हैं. उन्होंने अपनी कही गई बात को तोड़मरोड़ कर पेश करने की बात भी कही और उनके खिलाफ साजिश का आरोप भी लगाया. फ़िरोज़ ने ये भी कहा कि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनसे माफ़ी मांगने के लिए कहा था. मुख्यमंत्री चाहते थे कि खुर्शीद की बात से किसी को भी ठेस न पहुंचे. शुक्रवार को खुर्शीद ने कहा था कि उनके जय श्रीराम कहने से प्रदेश का भला होता है तो वो बार-बार जय श्रीराम का जाप करेंगे.

source

खुर्शीद के बयान पर मुफ़्ती सुहैल अहमद कासिम ने कहा था कि, जो मुस्लिम ये कहे कि वो रसूल और राम दोनों के ही सामने सिर झुकाता है और भारत के सब मजहबी मकामात पर माथा टेकता है और जय श्री राम के नारे लगाता है तो वो इंसान इस्लाम से खारिज हो जाता है. उन्होंने ये बयान देने के बाद यह भी कहा कि यह उनकी निजी राय है किसी भी प्रकार का फतवा नहीं है. प्रदेश के प्रवक्ता नीरज कुमार ने खुर्शीद का बचाव करते हुए कहा कि यह वो देश है जहां महापुरुषों और राम, रहीम का नाम साथ में लिया जाता है.

source

उन्होंने ये बात भी कही कि, हमारे मंत्री खुर्शीद ने जो नारा लगाया था वो किसी की भी धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने के लिए नहीं था बल्कि वो देश को एक करने के लिए लागाया गया था. वहीँ दूसरी ओर राजद के बड़े नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने खुर्शीद पर निशाना साधते हुए कहा है कि, खुर्शीद कुछ ज्यादा ही उत्साहित हो गए हैं उन्हें देखकर ऐसा लगता है कि उन्हें कहीं की बादशाहत मिल गई हो l

राकांपा के राष्ट्रीय महासचिव और कटिहार से सांसद तारिक अनवर ने कहा कि इससे यही लगता है कि सत्ता पाने के लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं। उन्हें जनता सबक सिखा देगी।