भारत और चीन के बीच सीमा विवाद शांत होने का नाम नही ले रहा है. चीनी मीडिया और चीनी सैनिक दोनों मिलकर भारत को लगातार धमकी देते रहते है. भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के चीन की यात्रा के दौरान भी इस विवाद का कोई हल नही निकल पाया. चीन कभी बातचीत के लिए तैयार रहता है तो कभी वो युद्ध की धमकी देता है. कभी अपनी मीडिया में भारत के खिलाफ छपवाता है तो कभी सैनिकों के मदद से धमकी देता है. इसी सिलसिले में डोकलाम में चल रहे विवाद के बाद एक और घुसपैठ की बात सामने आ रही है. लेकिन इस बार चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने उलटे पाँव खदेड़ दिया.

Source

आपकी जानकरी के लिए बता दें कि खबर है कि भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के चीनी दौरे से काफी उम्मीदें लगायी जा रही थी कि हो सकता है बातचीत के जरिये तनाव का समाधान निकला जा सके. लेकिन अजीत डोभाल के चीन के दौरे से ठीक एक दिन पहले ही चीन की सेना ने उत्तराखंड में घुसपैठ करती नजर आई. ख़बरों कि मुताबिक चीनी सेना भारतीय सीमा में 800 मीटर से 1 किलोमीटर तक अंदर आ गयी थी. लेकिन जब भारतीय सेना ने  उन्हें देखा तो उन्हें वापस भेजा.

Source

चीनी सैनिक यहाँ भी कह रहे थे कि यह इलाका उनका है लेकिन भारतीय सैनिकों ने समझाकर उन्हें वापस भेज दिया.  इस घुसपैठ से तो ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि भारतीय और चीनी सेना का विवाद इतना जल्दी शांत होते नजर नही आ रहा है. उत्तराखंड के बाराहोती में चीनी सैनिको के घुसपैठ को रोककर आईटीबीपी के जवानों उन्हें वापस किया. यह बात तो साफ़ हो चुकी है  कि चीनी सेना भारतीय सीमा में कई बार घुसपैठ करती रहती है और भारतीय सैनिको और चीनी सैनिको के बीच लगातार झड़प की खबरे भी आती रहती है.

Source

आपकी जानकरी के लिए बता दे कि बराहोती सीमा पर भारतीय और चीनी सेना का कोई विवाद नही है. भारतीय सेना ने कहा कि इस तरह की घुसपैठ को बिलकुल बर्दास्त नही किया जाएगा. लद्दाख और सिक्किम सीमा पर लगातार चीनी सैनिको की घुसपैठ तो होती रहती है लेकिन उत्तराखंड में चीनी सैनिकों की घुसपैठ नई है. घुसपैठ कर चीनी सैनिक उस इलाके को अपना क्षेत्र बता रहे थे हालाँकि भारतीय सेना ने साफ किया कि यह उनका इलाका नही है इसके बाद चीनी सैनिक वापस चले गये.

Source

उल्लेखनीय है कि सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद को लगभग महीना हो गया लेकिन इस तनाव का कोई हल नही निकल रहा है डोकलाम में चीनी सैनिकों द्वारा बनाये जा रहे सड़क का भारत विरोध कर रहा है. भारत इस सडक को अपने लिए खतरा बताते आया है. डोकलाम में विवाद को लेकर चीनी सैनिक और चीनी मीडिया ने कई बार भारत को युद्ध की धमकी तक दे चुके है. ऐसे में भारत और चीन के तनाव का हल इतना जल्दी निकलते दिखाई नही दे रहा है. लेकिन भारत ने अपनी बात रखते हुए यह साफ़ कर दिया है कि डोकलाम विवाद का हल बातचीत के जरिये ही निकल सकता है.