भारत देश की शान की बात आती है तो यकीनन हर हिन्दुस्तानी के दिल-ओ-दिमाग में सबसे पहले हमारे राष्ट्रिय ध्वज की तस्वीर दिमाग में आती है. ऐसे में इसी देश की आन,बान, शान को लेकर बीच में एक ख़बर आई थी जिसके मुताबिक देश का सबसे ऊँचा माने जाने वाले तिरंगे पर नीचता दिखाते हुए पाकिस्तान ने उसे अटारी बॉर्डर से हटाने की मांग उठाई थी. बता दें कि अटारी बॉर्डर पर हवा में लहराता हमारा राष्ट्रिय ध्वज भारत का सबसे ऊँचे तिरंगा माना जाता है. ऐसे में उस पर भी नीचता दिखाते हुए पाकिस्तान ने हाल ही में कहा था कि, “कि ये तिरंगा इतना ऊंचा है कि इससे पाकिस्तान के लाहौर को भी आराम से देखा जा सकता है. ऐसे में या तो इसे हटाया जाये या फिर इसकी लम्बाई छोटी की जाये.”

source

देश के इसी सबसे लम्बे तिरंगे से जुड़ी आई सबसे बड़ी ख़बर

 

बता दें कि देश के मान-सम्मान का प्रतीक हमारा भारत-पाकिस्तान सीमा पर स्थित अटारी चेकपोस्ट पर लगाया गया ये देश का सबसे ऊंचा तिरंगा पिछले तीन महीनों से लापता है. जब भारत ने 360 फीट की ऊंचाई पर अपना ये तिरंगा फहराया था तो पाकिस्तान की तरफ से दावा किया गया कि ये लाहौर से भी दिखता है. पाकिस्तानी मीडिया को बेवजह ही संदेह हुआ कि भारत इसका इस्तेमाल जासूसी के लिए कर सकता है.

source

पाकिस्तानियों ने जवाब में अपनी सरहद में अपना झंडा ऐसी ही ऊंचाई पर लगवा दिया, लेकिन आज खुद भारतीय तिरंगा वहां नहीं है.  एक वेबसाइट में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार ज्यादा ऊंचाई पर होने के कारण ये झंडा तेज हवाओं के चपेट में आकर बार-बार फट जा रहा था और इसी बात के चलते अमृतसर जिला प्रशासन ने इस साल अप्रैल में इस तिरंगे को वहां से उतरवा दिया और उसके बाद से ये दोबारा नहीं लगाया गया है.

source

अबतक मिली रिपोर्ट के अनुसार अमृतसर के डिप्टी कमीश्नर (डीसी) कमलदीप सिंह संघा ने राज्य के गृह विभाग और नगर निकाय मंत्रालय को इस विषय पर एक पत्र लिखकर कहा था कि देश की शान वो तिरंगा जो पाकिस्तान से भी नज़र आता है ऐसे में अगर वो इस कटी-फटी हालत में होगा तो यकीनन ये देश की ही किरकिरी होगी.

source

इस खत के बाद पंजाब सरकार इतनी ऊंचाई पर झंडे को नुकसान होने से बचाने के तरीकों पर विचार-विमर्श कर रही है. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि अटारी सीमा पर लहराता ये तिरंगा मार्च 2017 में लगाया गया था.

source

इस मुद्दे पर अबतक मिली रिपोर्ट के अनुसार अटारी के अलावा अमृतसर के रंजीत एवेन्यू पर भी 170 फीट ऊंचाई पर तिरंगा लगाया गया था जो अबतक लगभग 12-13 बार हवा के चलते फट चुका है.  देश की आजादी की वर्षगांठ (15 अगस्त) अब पास है और ऐसे में प्रशासन दोनों ध्वजों को लेकर चिंतित नजर आ रही है.

source

इस मुद्दे पर जनता को आश्वासित करते हुए अमृतसर के सांसद गुरजीत सिंह ने एचटी से कहा कि आने वाले 15 अगस्त को झंडा जरूर फहराया जाएगा. हाँ भले ही वो एक दिन के लिए ही हो.

source

बताते चलें कि इन झंडों की देखरेख की जिम्मेदारी अमृतसर इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट की है. साथ ही मिली जानकारी के अनुसार अटारी सीमा पर 360 फीट की ऊंचाई पर लगा ये झंडा अब तक तेज़ हवा के चलते तीन बार फट चुका है. अधिकारियों ने एचटी को बताया कि रंजीत एवन्ये के ध्वज पर अब तक नौ लाख और अटारी के ध्वज पर अब तक छह लाख रुपये खर्च हो चुके हैं l