बीते तीन सालों से कश्मीर से सुरक्षाबलों के लिए नासूर बन चुके अबु दुजाना को आखिरकार मंगलवार को उसके एक और स्थानीय साथी आरिफ ललहारी के साथ हकरीपोरा पुलवामा में मार गिराया गया है. हालाँकि आतंकी दुजाना की मौत के बाद पुलवामा में भीड़ और सुरक्षाबलों के बीच हिंसक झड़प की भी खबर आई है. अबतक मिली जानकारी के अनुसार सुरक्षाकर्मियों और भीड़ के बीच हुई इस मुठभेड़ में एक प्रदर्शनकारी फिरदौस अहमद की मौत हो गई है और एक दर्जन से ज्यादा लोग भी इसमें जख्मी हुए हैं.

SOURCE

पुलवामा में हुई इस मुठभेड़ के बाद सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के द्वारा एक प्रेस कॉंफ्रेंस की गई थी जहाँ पत्रकारों से बात करते हुए सेना की ओर से जीओसी जेएस संधू और कश्मीर रेंज के आईजी मुनीर खान ने पत्रकारों को ऑपरेशन की पूरी जानकारी दी है.

मीडिया से बात करते हुए आईजी ने बताया कि आतंकी की मौत के बाद मुठभेड़ की गयी जिसके दौरान एक बार फिर हिंसक प्रदर्शनों के जरिए लोगों ने सेना के इस काम में भी बाधा पहुंचाने की कोशिश भी की. पुलिस के अनुसार एनकाउंटर के दौरान हिंसा की गयी जिसमे हवाई फायरिंग के दौरान लोग घायल भी हुए हैं लेकिन उन्होंने इस बात को साफ़ कर दिया है कि पथराव हो या न हो, बाधा आए या न आए, हमारे ऑपरेशंस तो अब जारी ही रहेंगे.

source

 

आतंकी अबू दुजाना की मौत पर शहीद की मां बोली कुछ ऐसा, सभी के आंसू निकल आये 

भारतीय सेना ने आतंकी अबू दुजाना को मार गिराया और इस खबर की जानकारी मिलते ही एक शहीद की माँ ने कुछ ऐसा बोल दिया जिसे सुनकर आप भी भावुक हो जायेंगें. ऐसे में अपने शहीद बेटे के बारे में बोलते हुए शहीद मंदीप  की मां ने ऐसी बात कह दी है जिसे सुनकर वहां मौजूद सभी के आंसू निकल आए.

source

जानिए क्या कहा शहीद की माँ ने

अबू दुजाना को मौत के घाट उतार कर भारतीय सेना ने शहीद मनदीप सिंह की शहादत का नौ महीने बाद बदला ले लिया है लेकिन साथ ही शहीद जवान मंदीप को खोने का गम भी शायद ताज़ा कर  दिया है. अबू दुजाना को मारने के बाद सेना के जवानों ने मनदीप सिंह को श्रद्धांजलि दी, तो इस मौके पर शहीद मनदीप की मां ने भी सेना को बधाई दी. शहीद की माता निर्मला देवी ने पहले दिन यह कहा था कि उनके शहीद बेटे की आत्मा को तभी शांति मिलेगी, जब आतंकी का खात्मा होगा.

source

बताया जा रहा है कि मंगलवार को जैसे ही सेना के आपरेशन के दौरान आतंकी अबू दुजाना के सेना के हाथों मारे जाने  की खबर सामने आई तो शहीद मंदीप सिंह के परिवार ने सेना के इस आपरेशन की जमकर सराहना की. शहीद मनदीप सिंह के भाई ने बताया कि जिस प्रकार से मनदीप के शरीर के साथ बर्बरता हुई थी, उसी प्रकार से आतंकी के साथ भी किया जाए. उसके शरीर को जानवरों के आगे डाला जाए, तभी उनको सुकून मिलेगा.

source

शहीद मनदीप सिंह की मां से बात की गई तो उन्होंने सरकार और सेना की आतंकियों के खात्मे के लिए उठाये गए क़दमों की जमकर सराहना की. इसके अलावा निर्मला देवी ने बताया कि अभी तक सरकार ने उनकी एक ही मांग को पूरा किया है और बाकि बची दो मांगे जिनमे से एक गांव में शहीद स्मारक बनाया जाना और दूसरी स्कूल का नाम शहीद के नाम पर रखना अभी भी बाकी है. बता दें कि अक्तूबर 2016 में एलओसी पर कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर में मुठभेड़ के दौरान मनदीप शहीद हो गए थे.

source

27 साल के मनदीप सिंह उस वक़्त जम्मू-कश्मीर के माच्छिल सेक्टर में 17 सिख रेजिमेंट में तैनात थे जब आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में वो शहीद हो गए थे. शहीद जवान से साथ आतंकवादियों ने बर्बरता करते हुए उनके शरीर को क्षत-विक्षत कर छोड़ दिया था. बेटे की ऐसी हालत देखकर  इससे दुखी शहीद जवान मनदीप की पत्नी ने मोदी सरकार से निवेदन करते हुए कहा था कि वो पाक को समझा दें, समझे तो ठीक वर्ना उसे खत्म कर दें.

source

अय्याश था अबु दुजाना 

आईजी ने इस मुठभेड़ के बादलोगों से अपील करते हुए कहा था कि अब कोई स्थानीय लोग मुठभेड़ वाली जगह पर ना ही जाये. 15 कॉर्प्स के जीओसी जे संधु और कश्मीर आईजी मुनीर खान ने इस मुठभेड़ के बाद बताया कि कैसे दुजाना इलाके में आतंक की जड़ बन चुका था. स्थानीय लोगों में उसकी दहशत रहने लगी थी. जीओसी जे संधु के अनुसार अबु दुजाना लश्कर का A++ कैटेगरी वाला आतंकी था. अबु दुजाना का रिकॉर्ड ज्यादा आतंकी गतिविधियों का नहीं रहा बल्कि वो अपनी अय्याशी के लिए जाना जाता था.

source

एक फोन के चलते गयी अबु दुजाना की जान?

एक ख़बर के मुताबिक आतंकी अबु दुजाना के मरे जाने के पीछे सबसे बड़ा कारण उसका फोन है. मिली जानकारी के अनुसार हाल में पुलिस ने अबु के आतंक से परेशान होकर उसको पकड़ने के लिए एक ऑपरेशन चलाया था. हालाँकि उस वक्त वो भागने में सफल हो गया था लेकिन गाड़ी में उसका मोबाइल फोन छूट गया था.

source

बस फिर क्या था, सुरक्षाबलों को अब एक बड़ा सुराग हाथ लग चुका था. उन्होंने अबु के मोबाइल से उसके कॉन्टैक्ट और उनकी ट्रैकिंग से आतंकियों का मूवमेंट का पता लगाना शुरू कर दिया. फोन मिलने के बाद सुरक्षाबल लगातार दुजाना की गतिविधियों को ट्रैक कर रहे थे और मंगलवार को सुबह ही पुलवामा के बाकरीपोरा में उसे घेर लिया और फिर जो हुआ वो आपके सामने है.

source

बताया जा रहा है कि फोन ट्रैकिंग से पता चला है कि दुजाना लगातार पाकिस्तान से संपर्क में था. ऐसे में अभी तक कुल 106 आतंकी मारे जा चुके हैं. ये सभी एजेंसियों की मदद ही है कि अबतक चलाये गए सभी आतंकियों के खिलाफ ये ऑपरेशन सफल ही रहे हैं. बता दें कि इस एनकाउंटर के बाद घाटी में इंटरनेट की सेवा बंद कर दी गई है, साथ ही वहां के सभी स्कूल-कॉलेजों को भी बंद किया गया है.

source

कश्मीर के आईजी मुनीर खान ने इस मुठभेड़ का ज़िक्र करते हुए बताया कि हमनें शुरू में अबु को  सरेंडर करने को कहा, लेकिन ख़ुद को चौतरफा घिरा देख अबु के दो अन्य साथीयों ने हमपर फायरिंग शुरू कर दी. इस ऑपरेशन में एक नागरिक मारा गया है, वहीं 5 नागरिक घायल हुए हैं. उन्होंने कहा कि हमें नहीं पता कि ऑपरेशन के दौरान वहां पर लोग कैसे आ गए जिसकी वजह से आम नागरिकों के साथ ये हादसा हो गया.

source

घाटी में सेना का ‘ऑपरेशन ऑलआउट’ जारी है 

बता दें कि सेना कश्मीर से आतंकियों का सफाया करने के लिए ‘ऑपरेशन ऑलआउट’ अभियान चला रही है जिसके अंतर्गत पहले भी कई और अब अबु दुजाना सेना के हाथ मारे जा चुके हैं. बता दें इस ऑपरेशन के तहत आतंकियों की एक लिस्ट तैयार की गई है और अब उसी के आधार पर अलग-अलग इलाकों में आतंकियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन उन्हें ढेर किया जा रहा है. बता दें कि अब तक इस ऑपरेशन के तहत करीब 100 आतंकियों को घाटी में ढेर किया जा चुका है.
source

फारूक अब्दुल्ला बोले- ये एक अच्छी कामयाबी

अबु दुजाना के मारे जाने पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने बड़ा बयान जारी करते हुए कहा है कि अबु दुजाना के मारे जाने से घाटी में काफी फर्क पड़ेगा. अबु जैसे आतंकी का मारा जाना अच्छी बात है. ये सेना की एक अच्छी कामयाबी है. मैं मानता हूँ कि ऐसे लोगों को मारे जाने से ही देश में अमन आएगा. आतंक जैसी चीज़ अब खत्म होनी चाहिए ताकि लोग आजादी से सांस ले सकें.