हाल ही में भारत के 13वें राष्ट्रपति रह चुके प्रणब मुख़र्जी का कार्यकाल समाप्त हुआ है. 24 जुलाई, 2017 को जहाँ एक तरफ प्रणब मुख़र्जी का राष्ट्रपति कार्यकाल ख़त्म हुआ तो वहीँ दूसरी तरफ अब देश के अगले राष्ट्रपति पद पर अब रामनाथ कोविंद आ चुके हैं.  ऐसे में हाल ही में प्रणब  मुखर्जी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी गई एक चिट्ठी साझा की है, जिसके बारे में उन्‍होंने लिखा है कि, “राष्ट्रपति के तौर पर कार्यालय में मेरे आखिरी दिन पर मुझे देश के पीएम नरेंद्र मोदी की चिट्ठी मिली जिसने मेरा दिल छू लिया.”

source

प्रधानमंत्री मोदी की इस चिट्ठी को देश की जनता के साथ शेयर करते हुए प्रणब मुखर्जी ने लिखा कि, “पीएम के इस खत ने मेरे दिल को छू लिया है इसलिए मैं इस खत को आप सबसे साझा कर रहा हूं.” बता दें कि 24 जुलाई, 2017 की तारीख वाले अपने पत्र में मोदी ने प्रणब को ‘विशिष्‍ट जीवन यात्रा के नये चरण’ के लिए शुभकामनाएं दी हैं.

source

पीएम मोदी ने प्रणब मुख़र्जी को लिखे इस खत में कहा है कि, “तीन साल पहले मैं एक बाहरी इंसान की तरह दिल्ली में आया था. उस वक़्त  मेरे सामने काफी बड़ी चुनौतियां खड़ी थी.  ऐसे समय में, आप (प्रणब मुख़र्जी) हमेशा ही मेरे पिता-तुल्‍य और मार्गदर्शक बने रहे हैं.

source

ये आपकी मेधा, ज्ञान, दिशा-निर्देश और निजी प्यार ही है जिससे मुझे हमेशा ही आत्मविश्वास और शक्ति मिलती है. पीएम मोदी ने इस खत में आगे लिखा है कि, “आपके अथाह ज्ञान के बारे में सबको पता है. फिर बात करें चाहे राजनीति की  या अर्थशास्त्र की या फिर विदेश नीतियों की  या राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दे पर, मैं विभिन्न विषयों से जुड़ी आपकी अंतरदृष्टि से हमेशा ही हैरान होता रहा हूं और आगे भी रहूँगा.”

source

ऐसे में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पूर्व राष्‍ट्रपति को लिखी गई इस चिट्ठी पर प्रणब मुखर्जी की बेटी, शर्मिष्‍ठा ने हैरान करने वाली प्रतिक्रिया दी है. शर्मिष्‍ठा पीएम मोदी के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा कि, ” श्रीमान नरेंद्र मोदी जी एक बेटी की ओर से पहले तो आपको बहुत-बहुत  धन्‍यवाद. आपने बाबा के बारे में जो लिखा वो बेहद ही खुबसूरत है मगर भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस की कार्यकत्री के तौर पर, मैं आपकी सरकार की जन-विरोधी नीतियों की हमेशा ही आलोचना करती रहूंगी. मैं मानती हूँ कि शायद यही लोकतंत्र की खूबसूरती है.”

source

बता दें कि प्रणब मुख़र्जी एक खांटी कांग्रेसी नेता रहे हैं और उनकी बेटी का यह ट्वीट राजनैतिक दूरियों को कम करने की दिशा में एक बेहद ही सार्थक कदम के रूप में देखा जा सकता है.

source

पूर्व राष्‍ट्रपति के लिए पत्र में पीएम मोदी ने लिखा था कि, “प्रणब दा, हमारी राजनीतिक यात्रा बेशक ही अगल-अलग राजनीतिक दलों के माध्यम से हुई है, साथ ही कई मौकों पर ऐसा भी देखने को मिला है कि  हमारी विचारधाराएं अलग रही हैं. यहाँ ये भी कहना गलत नहीं होगा कि हमारे जीवन अनुभव भी काफी अलग रहे हैं. जहाँ एक तरफ मेरे पास सिर्फ मेरे राज्य का प्रशासनिक अनुभव था जबकि दूसरी तरफ आप थे जिनके पास कई दशकों का राष्ट्रीय राजनीति और नीति का अनुभव था. इतनी असमानताओं के बावजूद भी हम आपसी सामंजस्य के साथ काम कर पाए.”