इस्लाम के ठेकेदार इस समय अपने धार्मिक स्थल से ज्यादा ट्विटर पर पाए जाते हैं और जैसे ही उनके धर्म की किसी भी गलती को लेकर कोई ट्वीट की जाती है तो मौलवी तुरंत फ़तवा जरी कर देते हैं. हाल ही में कई ऐसी घटना हुई हैं जब मौलवियों ने बेवजह फतवे जारी किये हैं. सबसे पहले फ़तवा चर्चा में तब आया था जब सोनू निगम ने लाउडस्पीकर को लेकर एक ट्वीट किया था और फिर धीरे-धरी फतवों की बाड़ सी आ गयी. आपको  बता दें क्रिकेटर कैफ भी ट्विटर पर काफी एक्टिव रहते हैं और देश से जुड़े कई मुद्दों पर अपनी राय रखते रहते हैं लेकिन इस्लाम धर्म के ठेकेदारों   ने उन्हें भी नहीं छोड़ा.

 

source

 

कुछ दिनों पहले कैफ ने अपनी बीवी के साथ एक फोटो डाली थी जिसे लोगों ने हराम बताया था और फिर उसके कुछ ही दिन बार कैफ ने अपने बेटे के साथ चैस खेलते हुए की एक तस्वीर अपलोड की जिसके लिए भी ये कहा गया कि इस्लाम धर्म में चैस हराम है. आपको बता दें  8 अगस्त को कैफ ने एक ट्वीट किया है जिसको लेकर फिर विवाद शुरू हो गया है.

दरअसल कैफ ने एक ट्वीट किया कि मैं शाहरुक खान को उनकी मूवी के लिए बधाई देता हूँ लेकिन लोगों ने रिप्लाई में कहा कि ऐसे ट्वीट रात में किया करो भाई नहीं तो फ़तवा जारी हो जाएगा.

 

 

अवि तिवारी नाम के यूजर ने कहा कि इस्लाम के ठेकेदारों से भी पूछ लेना भाई हो सकता है उनका भी मन हो देखने का…

इन सब बातों से ये साफ़ है कि देश में इस्लाम के ठेकेदार अपने ही धर्म का मजाक बना रहे हैं और बिना बात के फतवे जारी करते हुए फतवे का महत्व भी खत्म कर रहे हैं.  आपको बता दें कुछ दिनों पहले ही नीतीश के मुस्लिम विधायक ने  जय श्री राम बोल दिया था तो उन्हें इस्लाम धर्म से ही बर्खास्त कर दिया गया था.

जब बेटे के साथ शतरंज खेलती तस्वीर के चलते लोगों के निशाने पर आये मोहम्मद कैफ़ ने अपने पिता के साथ शेयर की एक तस्वीर जिसमे वो… 

पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ़ मानो हमेशा से ही लोगों के निशाने पर बने रहते हैं. कभी अपनी किसी तस्वीर तो कभी अपनी बात खुलकर रखने की वजह से मोहम्मद कैफ़ आये दिन विवादों से घिरे रहते हैं. अभी हाल का ही उदाहरण ले लीजिये जब अपने बेटे के साथ शतरंज खेलने की वजह से इस्लाम धर्म के लोगों ने मोहम्मद कैफ़ को निशाने पर ले लिया था और उन्हें कहा था कि, “उन्हें शतरंज खेलने में शर्म आनी चाहिए, इस्लाम धर्म में शतरंज का खेल हराम है.” ऐसे में अब मोहम्मद कैफ़ एक बार फिर निशाने पर हैं. इस बार मोहम्मद कैफ़ ने अपने पिता के साथ तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है जिसमे वो…

source

ऐसा क्या है उस तस्वीर में?  

वक़्त-बेवक्त अपनी तस्वीरों पर विवाद झेल चुके मोहम्मद कैफ़ ने एक बार फिर एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है.  मोहम्मद कैफ ने अपने पिता के साथ एक तस्वीर शेयर की है जिसमे कैफ अपने घर से बाहर अपने पिता के साथ किसी चाय की दुकान पर हैं. तस्वीर में उनके पिता चाय-मट्ठी का लुत्फ उठा रहे हैं.  मोहम्मद कैफ ने इस तस्वीर को  “Early morning Matthi Chai with father #MagicalMornings” कैप्शन के साथ ट्विटर पर साझा किया है.

source

वहीं इस तस्वीर पर जिस तरह के कमेंट्स आए उन्हें जानकर आपको थोड़ा अच्छा महसूस होगा, क्योंकि इस बार कैफ की इस तस्वीर पर सिर्फ उनके फैन्स ने तारीफ की है जबकि कट्टरपंथी तो इस तस्वीर से दूर-दूर तक नज़र नही आ रहे हैं.  ऐसे में कैफ़ के फैन्स ने कट्टरपंथियों पर जमकर तंज भी कसे हैं.  ऐसे में एक यूजर ने ने तंज कसते हुए लिखा कि चाय-मट्ठी खाना तो इस्लाम में हराम नहीं है न?

पिछली बार जब मोहम्मद कैफ़ सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए थे उस वक़्त उस तस्वीर में वो अपने बेटे के साथ शतरंज खेल रहे थे.  जी हाँ ये वो ही शतरंज का खेल है जिसे पूरी दुनिया में ‘दिमाग का खेल’ कहते हैं. इस बात को हर इंसान मानेगा कि शतरंज का खेल खेलने के लिए आपको भरपूर दिमाग की ज़रूरत होती है. यहाँ तक कि कई बार तो आपने ये तक बड़े-बुजुर्गों को कहते सुना होगा कि दिमाग बढ़ाना है तो उसे शतरंज खेलने को कहो.

मोहम्मद कैफ़ और उनके बेटे की वो तस्वीर जिसपर मचा है बवाल

क्यों शुरू हुआ विवाद?

यूँ तो ये कोई पहला मामला नहीं है जब मोहम्मद कैफ़ इस तरह से लोगों के निशाने पर हों, लेकिन इस बार की वजह कुछ ज्यादा ही अटपटी सी लगती है. दरअसल मामला शुरू हुआ 27 जुलाई, 2017 को जब  मोहम्मद कैफ ने सोशल मीडिया पर अपने बेटे के साथ चेस खेलती हुई तस्वीर शेयर की . जैसे ही ये तस्वीर धर्म के ठेकेदारों की नज़र में आई उन्होंने इसपर तरह-तरह के कमेंट करने शुरू कर दिए. किसी ने चेस के खेल को इस्लाम धर्म के खिलाफ बताया तो कोई चेस खेलना हराम बता रहा है.

source

लोगों ने कैफ़ की तस्वीर पर क्या-क्या किया कमेंट

इस्लाम और शतरंज आज मोहम्मद कैफ़ की इस तस्वीर की वजह से चर्चा में हैं. इस तस्वीर को देखते ही जहाँ धर्म के ठेकेदारों ने तरह-तरह के कमेंट कर अपनी सोच का परिचय दे डाला तो वहीँ दूसरी तरफ कुछ लोगों ने इस बेबुनियाद बात के पीछे भी अपना तर्क दे डाला है.

मोहम्मद कैफ़ की इस तस्वीर पर कमेंट करते हुए एक जनाब, अनवर शेख लिखते हैं कि, “भाई ये शतरंज का खेल तो हराम है.” इनका मतलब शतरंज के इस्लाम में हराम होने से है.

तो वहीँ एक और यूजर उमर शरीफ़ मोहम्मद कैफ़ की इस तस्वीर पर बखेड़ा खड़ा करते हुए लिखते हैं कि, “कृपया करके कोई इन्हें (मोहम्मद कैफ़ को) दीन और क़ुरान सीखाओ, क्योंकि इन्हें शायद ऐसा लगता है कि अगर किसी मुस्लमान ने शतरंज खेल लिया तो उसे दीन और क़ुरान की समझ नही है.

धर्म के एक और ठेकेदार कमरुल हक़ भी इस तस्वीर पर अपनी राय जताने आते हैं और वो लिखते हैं कि, “लगे रहिये भाईजान. नयी दुनिया में नए शौक पालना अच्छी बात है, लेकिन ये शौक इस्लाम में कुबूल नहीं किया जायेगा. कमरूल को शायद ऐसा लग रहा है कि इस्लाम धर्म में की गयीं साड़ी गतिविधियां इनसे पूछ कर ही तय की जाती हैं.

मोहम्मद इमरान नाम के एक और यूजर इस फोटो पर कमेंट करते हुए लिखते हैं कि, “शतरंज इस्लाम में प्रतिबंधित है.”

यूं तो आप देखने जायेंगे तो इस एक तस्वीर पर आपको कई हजारों कमेंट मिल जायेंगें जिनमे से कुछ हम आपको यहाँ दिखा रहे हैं.  इसी तस्वीर पर एक यूजर इमरान खान लिखते हैं कि, “चेस खेलना इस्लाम में पाप हैं.”

आप भी जान लीजिये क्यों इस्लाम में हराम में शतरंज 

अब इतना कुछ देखने के बाद कहीं-ना-कहीं आपके दिमाग में ये सवाल तो ज़रूर उठा होगा कि आखिर इस्लाम में शतरंज हराम है तो क्यों है. तो चलिए ये भी हम आपको बता देते हैं. दरअसल इस सवाल का जवाब लेने के लिए आपको कहीं दूर नहीं बल्कि मोहम्मद कैफ़ की ही तस्वीर पर आये कॉमेंट्स को गौर से पढ़ना होगा. आपको ख़ुद-ब-ख़ुद पता चल जायेगा कि इस्लाम में शतरंज क्यों हराम है.

source

वैसे तो शतरंज या कोई भी खेल इस्लाम में क्यों हराम है, या हराम है भी या नहीं ये बता पाना बिलकुल भी उचित नहीं है लेकिन मोहम्मद कैफ़ की इस तस्वीर पर कुछ यूजर्स ने बताया है कि, “शतरंज का खेल इस्लाम में इसलिए हराम है क्योंकि इसमें अक्ल की ज़रूरत होती है, जो इस्लाम के कुछ ठेकेदारों के पास नहीं है.”

एक और यूजर ने इस बात पर अपनी टिप्पणी करते हुए कहा कि, “हाँ ये हराम है. क्योंकि इसमें दिमाग लगता है जो आप लोगों के पास है नहीं. ये यूजर आगे लिखते हैं कि कभी मुझे भी इस्लाम के बारे में सिखाओ, इस्लाम बहुत बड़ा है इसे बजारू मत बनाइये.”

जानिए इस पूरे मामले पर क्या कहते हैं मोहम्मद कैफ़?

इस पूरे मामले की जानकारी जब मोहम्मद कैफ़ को लगती है तो वो भी ट्विटर पर इस बात पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखते हैं कि, “क्या? ठेकेदारों से पूछिए क्या सांस लेना भी इस्लाम में हराम है या हम सांस अपनी मर्ज़ी से ले सकते हैं? कमाल करते हैं यार.”

याद दिला दें कि ये कोई पहला मौका नहीं है जब मोहम्मद कैफ़ इस तरह से सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए हो. इससे पहले भी एक मौका आया था जब वो सूर्य नमस्कार करते हुए अपनी तस्वीर शेयर करके आलचकों के निशाने पर आ गये थे, और एक बार तो अंतर्राष्ट्रीय अदालत में कुलभूषण मामले में मिली राहत के बारे में भी ट्वीट करने पर कैफ़ को ये सुनना पड़ा था कि उन्हें अपने नाम के आगे से मोहम्मद हटा लेना चाहिए.