कांग्रेस ने गुजरात में राज्यसभा चुनाव हारने के डर से अपने सभी विधायकों को बेंगलुरु में एक रिसॉर्ट में रखा है. गुजरात में कांग्रेस के 6 विधायकों के टूटने और 10 विधायक और टूटने की खबर से डरी कांग्रेस ने अपने सभी सभी विधायकों को हाइजैक कर लिया है. विधायक लगभग 10 दिंन से रिसॉर्ट  में कर रखा गया  है. इसी बीच कर्नाटक के  मंत्री और सोनिया गांधी के करीबी शिवकुमार पर ED के छापे के बाद सभी विधायक घबरा गये है. और वो अपने गृहराज्य लौटने की मांग पर अड़ गये है. अब अगर ऐसे में सभी विधायक अलाकमान से नाराज हो गये तो इसका नतीजा कांग्रेस को भुगतना पड़ सकता है.

Source

कर्नाटक के जिस मंत्री के रिसॉर्ट में विधायक रह रहे है शिव कुमार के ठिकानों पर ED का छापा पड़ने से सभी विधायक घबरा गये है. और वो वापस अपने गृहराज्य लौटने की माँग रहे है हालाँकि शिवकुमार के भाई उन्हें लगातार समझाने की कोशिश कर रहे है लेकिन विधायक अपनी मांगों पर अड़े हुए है. खबर है कि अगर विधायक नही मानते तो दिल्ली से कोई बड़ा नेता इन विधायको से मुलाकात करने पहुँच सकता है. कुछ विधायक तो कांग्रेस से नाराज भी बताए जा रहे है.

Source

.

कांग्रेस चाहती है कि सभी विधायक राज्यसभा चुनाव के दिन ही वापस आये जिससे विधायकों से कोई अन्य दल का नेता सम्पर्क न कर पाए और कांग्रेस के उम्मीद्वार अहमद पटेल को जिताया जा सके. लेकिन खबर तो यह भी है कि कांग्रेस छोड़ने वाले शंकर सिंह वाघेला के के साथ भी कई विधायक है जो एक बार कहने पर बाज़ी पलट सकते है. आपकी  जानकारी के लिए बता दें कि आरोप है कि अहमद पटेल ने ही दिल्ली में आलाकमान से कहकर वाघेला को नजरअंदाज करवाने से वो नाराज़ हो गये और पार्टी के सभी पदों से इस्तीफ़ा दे दिया.

Source

फिलहाल कांग्रेस के पास 51 विधायक है जिसमें शंकर सिंह वाघेला और उनके पुत्र महेंद्र सिंह के साथ वो विधायक भी शामिल है जो वाघेला के करीबी माने जाते है. अहमद पटेल को जीतने के लिए 47 विधायको का समर्थन की जरुरत है. ऐसे में अगर 10 विधायकों के टूटने की खबर थी अगर कुछ विधायक अहमद पटेल के पक्ष में वोट नहीं डाला तो कांग्रेस का खेल गड़बड़ हो सकता है और बीजेपी को और भी फायदा हो जाएगा. दरअसल बीजेपी गुजरात के राज्यसभा चुनाव में एक भी सीट हारना नही चाहती.

Source

आपकी जानकरी के लिए बता दे कि गुजरात में 3 राज्यसभा सीट के लिए 4 लोगों ने नामांकन किया है. इसमें अमित शाह, स्मृति इरानी, अहमद पतेल और कांग्रेस से ही आये विधायक बलवंत सिंह ने भी नामांकन किया है. 3 सीट पर 4 लोगों के नामांकन से मुकाबला दिलचस्प हो गया है. दरअसल गुजरात राज्यसभा का चुनाव की चर्चा तब से ही गरमाई हुई है जबसे अमित शाह अपना नामांकन करने के लिए गुजरात पहुंचे थे और कांग्रेस पार्टी के 6 विधायक परतु छोड़ कर बीजेपी में शामिल हो गये थे. इसके बाद 10 और विधायकों के शामिल होने की ख़बरों के बीच कांग्रेस ने अपने सभी विधायको बेंगलुरु के एक रिसॉर्ट में पंहुचा दिया. जिसके बाद से ही यह चुनाव चर्चा का विषय बना हुआ है.