चंडीगढ़ से हाल ही में एक किस्सा सामने आया जिसने पूरे देश को सुन्न कर दिया.  मामला था आधी रात में एक महिला के साथ छेड़छाड़ का. इस मामले में पीड़ित लड़की का नाम है वर्णिका कुंडू और अभी तक इस मामले आरोपी साबित हुए लड़के का नाम है विकास बराला. विकास बरला बीजेपी लीडर के बेटे बताये जा रहे हैं. खैर ये मामला जबसे सोशल मीडिया पर आया है तबसे इसने तूल पकड़ लिया है. विकास बीजेपी लीडर के बेटे हैं तो वर्णिका आईएएस की बेटी हैं. ऐसे में ख़ुद के साथ हुआ गलत वर्णिका भला कैसे ही बर्दाश्त करतीं.

source

क्या हुआ था उस रात?

“अपने साथ घटी आपबीती बताते हुए वर्णिका बताती हैं कि उस रात उनके साथ कुछ भी हो सकता था.”

वर्णिका उस रात चंडीगढ़ सेक्टर 8 से पंचकुला की तरफ जा रही थी कि तभी सेक्टर 7 की तरफ से एक गाड़ी बेवजह ही उनका पीछा करने लगी. उस गाड़ी में बैठे लड़के, जिनमे से एक विकास बराला भी थे वो वर्णिका को अकेला देख उसे डराने और रोकने की कोशिश करने लगे.

source

वर्णिका ने उस खौफनाक रात का ज़िक्र करते हुए आगे बताया कि रात काफी हो चुकी थी और अब विकास और उसके साथी वर्णिका को और ज्यादा डराने लगे थे. उनकी हिम्मत अब इस कदर बढ़ गयी थी कि सेक्टर 26 के अंदर के उन्होंने वर्णिका की गाड़ी अपनी गाड़ी से ब्लॉक कर दी और फिर वो उतरकर वर्णिका की तरफ बढ़ने लगे. इसी दौरान वर्णिका ने पुलिस को फोन किया था.

source

वर्णिका ने बताया कि इस पूरे मामले के दौरान पुलिस काफी सहायक रही. पुलिस ने बिना वक़्त गवाए वर्णिका की मदद की और शायद इसी के चलते वर्णिका आज सही-सलामत हैं. जब वर्णिका ने पुलिस को फोन पर इस मामले की जानकारी दी थी तब पुलिस ने ही उनसे कहा था कि वो चलती रहे और रास्ते में उन्हें जल्द-से-जल्द मदद मिल जाएगी.

source

वर्णिका ने ऐसा किया भी. वो रुकी नहीं और गाड़ी चलती रहीं थी लेकिन उन लड़कों ने वर्णिका को सारे रास्ते तंग किया और हाउसिंग बोर्ड चौक के पास वे उतरकर वर्णिका की गाड़ी का दरवाजा खोलने की कोशिश भी की लेकिन इसके पहले की वो वर्णिका के साथ कुछ भी गलत कर पते तभी पुलिस वहां पहुंच गई और उन्हें पकड़ने में कामयाब रही.

source

“मैं या तो चुप रहती या अपनी इज्ज़त बचा पाती”

ये वाकया वाकई दिल दहलाने वाला है. इस मामले को जिसने भी सुना उसके रोंगटे खड़े हो गए. वर्णिका ने अपने साथ हुए इस काण्ड का ज़िक्र करते हुए बताया था कि उस रात उनके सामने केवल दो ही रास्ते थे. एक या तो वो चुपचाप गाड़ी चलाते जाती, जो कि सुनने में ही अजीब लगता है, क्योंकि विकास बराला और उनके साथी सिर्फ वर्णिका का पीछा ही नहीं कर रहे थे बल्कि उन्होने कई बार वर्णिका को गाड़ी से बाहर निकालने की भी कोशिश की थी.

source

या वर्णिका के पास दूसरा रास्ता ये बचा था कि वो कैसे भी कर के पुलिस को इस मामले की जानकारी दें. वर्णिका ने ऐसा किया भी. और पुलिस ने भी समय रहते ही वर्णिका की हर संभव और उचित मदद की जिसके चलते आज वर्णिका को बचाया जा सका.  हालाँकि बहादुर वर्णिका ने ख़ुद माना कि उस वक़्त स्थिति ऐसी बन गयी थी कि उनके हाथ कांप रहे थे, सांस फूल रही थी, लेकिन बावजूद इसके उन्होंने संयम रखते हुए पूरे मामले में समझदारी दिखाई. पुलिस को मामले की जानकारी दी और बड़ी ही मुश्किल से उन लड़कों की गाड़ी का नंबर नोट किया.

सीसीटीवी फुटेज में नज़र आई विकास की कार वर्णिका की कार का पीछा करते हुए

वर्णिका जिस वक़्त ख़ुद को विकास बराला और उसके दरिन्दे दोस्तों से बचाने की जद्दोजहद कर रही थीं उस समय का ज़िक्र करते हुए आज भी दहशत है, वो बताती हैं कि, “उस वक़्त मेरी कमर में पैरालिसिस जैसा दर्द होने लगा था. वह वक्त मेरे लिए जीवन या मृत्यु का था. मैंने सोच लिया था कि अगर इस वक्त कुछ ना कर सकी तो मै खत्म हो जाउंगी.”

source

मुझे पता था कि अगर मैंने गाड़ी रोकी तो शायद बच न पाऊं.

वर्णिका गाड़ी चलाते हुए ज़ोर-ज़ोर से हॉर्न बजा रही थी. वो चाहती थीं कि सुनसान सड़क पर आधी रात को इस तरह लोग उन्हें हॉर्न बजाते देखें तो शायद समझ जायें कि गाड़ी में किसी को मदद की ज़रूरत है, लेकिन कहीं-ना-कहीं उन्हें ये भी पता था कि इस तरह कोई अपनी गाड़ी रोककर उनकी मदद नहीं करेगा.

source

इतनी रात में बाहर क्या कर रही थीं वर्णिका?

जाहिर सी बात है मामले में आरोपी साबित होने वाला नेता का बेटा है ऐसे में लोगों ने सबसे आसान यही समझा कि वर्णिका के ही चरित्र पर ऊँगली उठा कर शायद वो इस मामले को दबा दें. ऐसे में इस मामले के सामने आने के बाद वर्णिका पर भी तरह-तरह के इलज़ाम लगे, कि वर्णिका इतनी रात में बाहर क्या कर रही थीं? वो शायद विकास को पहले से ही जानती थीं. वगेरह वगेरह.

source

वर्णिका ने सभी आरोपों का दिया जवाब 

ख़ुद के चरित्र पर सवाल उठा तो वर्णिका ने बताया कि वो बेशक एक आईएएस की बेटी हैं लेकिन उनके लिए यही तमगा काफी नहीं है. वो अपना भी नाम करना चाहती हैं. वर्णिका बताती हैं कि वो एक कैफे में डीजे हैं और घटना वाली रात को भी वो काम से ही लौट रही थी. वर्णिका ने आगे बताया कि उनके काम के बारे में उनके घर वालों को पता है, उनके घर वालों को पता था कि वो कहां हैं.

source

पुलिस पूछताछ में विकास के दोस्तों ने किया चौंकाने वाला खुलासा

इस मामले के सामने आने के बाद से ही एक बात जो सबसे प्रत्यक्ष रूप से सामने आई थी वो ये कि उस रात विकास बराला और उनके साथ नशे की हालत में थे. हालाँकि पुलिस पूछताछ में जब उनसे इस बात को साबित करने के लिए उनसे सैंपल की मांग की गयी तो उन्होंने साफ़ मना कर दिया. ऐसे में उनके दोस्तों का ये खुलासा वाकई चौंकाने वाला है.

source

वर्णिका से छेड़छाड़ के मामले में फंसे विकास बराला के रूममेट, उसके दोस्त और कॉलेज के सीनियर छात्र उस पर लगे आरोपों से हैरान हैं. उनका कहना है कि विकास ऐसा लड़का है ही नहीं. विकास के दोस्तों ने बताया कि हमारे फ्रेंड सर्किल के बहुत से छात्र दारु पीते हैं, लेकिन विकास ने कभी भी दारु नहीं पी है. विकास को जानने वाले बताते हैं कि इतने रसूख वाले परिवार का होकर भी विकास सहज और सरल स्वभाव का है.

source

विकास के दोस्त ने बताया कि मेरी बारात में गया था विकास लेकिन दारु को हाथ नहीं लगाया

विकास के दोस्त संदीप झाझरिया ने बताया कि वो यूँ तो विकास से एक साल सीनियर है, लेकिन वो काफी अच्छे दोस्त बन चुके हैं. विकास हर किसी की रिस्पेक्ट करता है.  इसलिए उन सब के लिए ये मानना काफी कठिन है कि विकास जैसा सरल लड़का भी ऐसा कुछ कर सकता है. संदीप ने बताया कि पिछले साल 13 नवंबर को मेरी शादी थी तो विकास सुबह ही उनके पास आ गया था। जिसके बाद विकास रात को बरात में भी गया, लेकिन उसने शराब को छुआ तक नहीं था.

source

संदीप ने आगे बताया कि एक बार जब विकास के पिता विधायक बन गए थे और वह पीजी में रहता था, तब उसके दोस्त उसके पास शराब पीने के लिए आए थे, लेकिन विकास ने उन्हें अपने कमरे में शराब नहीं पीने दी थी. ऐसे में संदीप का कहना है कि वो लोग कैसे मान लें कि वह शराब पीकर ऐसी हरकत कर सकता है?

source

 हालाँकि विकास ने कुबूला कि उन्होंने पी थी शराब

दोस्तों ने तो विकास के बेगुनाही के सबूत में कसीदे पढ़ डाले हैं लेकिन सूत्रों ने दावा किया कि विकास ने पूछताछ के दौरान ख़ुद ही बियर पीने की बात कबूल ली है. हाँ लेकिन वर्णिका का पीछा करने के आरोपों को विकास ने झूठा बताया है. मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि विकास और उनके दोस्तों के जवाबों से लग रहा था कि वह पूरी तैयारी से आए हैं.

source

आइये आपको बताते हैं विकास और उनके दोस्तों से पूछे गए कुछ सवाल और उनके जवाब के बारे में.

पुलिस का पहला सवाल: आप लोग देर रात शहर में किस काम से निकले थे?

विकास का जवाब: मैं और मेरा दोस्त आशीष मेरे जूते बदलने बाहर गए थे. हमे एलांते मॉल से अपने जूते बदलवाने थे.

 

पुलिस का बराला से दूसरा सवाल : क्या तुम लोगों ने रात में शराब पी थी?
विकास बराला : हां हमने रात में एक-एक बियर पी थी.

source

पुलिस का तीसरा सवाल : तुम लोग बियर की बोतल कहां से लाए थे?
विकास बराला का जवाब : हमने बियर की बोतल सेक्टर 8 की मार्केट की शॉप से  खरीदी थी.

source

चौथा सवाल : क्या तुम वर्णिका कुंडू को पहले से जानते हो?
विकास बराला : नहीं न तो मैं जानता हूं और न ही मेरा कोई दोस्त वर्णिका को पहले से जानते थे.

source

पुलिस का पांचवा सवाल: आपलोगों ने वर्णिका को कहां से पीछा किया? क्या आपने उसका रास्ता रोका था?
विकास बराला : न तो वर्णिका का पीछा किया और न ही रोकने की कोशिश की.  मुझे नहीं मालूम कि उसने हम पर ऐसा आरोप क्यों लगाया.

source

छठा सवाल : वर्णिका को कार में कहां से देखा?
विकास बराला : हमने वर्णिका को सेक्टर सात में देखा था कि वह कार से जा रही थी.

source

सातवां सवाल : सीसीटीवी में साफ दिख रहा है कि आपकी कार वर्णिका के पीछे जा रही है।
विकास बराला : हाँ हमारी गाड़ी भी हाउसिंग बोर्ड की तरफ गई थी, लेकिन, इसका मतलब यह नहीं कि मैं उसका पीछा कर रहा था और और न ही कोई वरदात को अंजाम दिया है.

source

आठवा सवाल : पुलिस कंट्रोल रूम में कॉल मिलने के बाद तुम दोनों मौके पर कैसे मिले?
विकास बराला: हमारी गाड़ी तेज थी. हाउसिंग बोर्ड के करीब बीच रास्ते में ही पुलिस ने गाड़ी रुकवा ली.