बॉलीवुड में अपनी फिल्म “गैंग्स ऑफ़ वासेपुर” से अपनी धाकड़ पहचान बनाने वाली एक्ट्रेस को भला आज कौन नहीं जानता होगा. अपनी पहली ही फिल्म में बॉलीवुड दिग्गजों के साथ पर्दे पर उतरीं हुमा ने अपनी पहली ही फिल्म से साबित कर दिया कि वो आने वाले समय में बॉलीवुड में अपने नाम के झंडे गाड़ेंगीं. आज लोग यकीनन हुमा कुरैशी को अच्छे से जानते हैं लेकिन शायद बहुत कम ही लोग हैं जिन्हें ये पता होगा कि भारत की इस जबरदस्त अदाकारा का पाकिस्तान से एक गहरा नाता भी है.

source

हुमा कुरैशी जल्द ही भारत-पाक विभाजन पर बनी एक फिल्म ‘पार्टीशन 1947’ में नजर आने वाली हैं. इसी फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में हुमा कुरैशी शनिवार को अमृतसर पहुंची थीं. गुरिंदर चढ्डा के निर्देशन में बनी फिल्म ‘पार्टिशन 1947’ में हुमा मुख्य भूमिका निभा रही हैं.

source

हुमा फिल्म के प्रोमोशन के लिए अमृतसर पहुंची थीं तो वो इस फिल्म से जुड़े अन्य लोगों के साथ गोल्डन टेम्पल भी पहुंची थी जहाँ उन्होंने भारत-पाक विभाजन को लेकर चौंकाने वाला बयान दिया है.

source

आप की जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि हुमा कुरैशी का पाकिस्तान से गहरा नाता है और यह रिश्‍ता दर्द का है. दरअसल हुमा के परिवार ने भी भारत विभाजन का दर्द झेला है. और ये कहना गलत नहीं होगा कि इस बात का दुःख हुमा को आज भी होती है.

source

हुमा बताती हैं कि इस विभाजन में उनका आधा परिवार पाकिस्‍तान में ही रह गया था. हुमा कुरैशी ने आगे बताया कि उनके दादा फरूखद्दीन कुरैशी का जन्म अविभाजित भारत में हुआ था. सन् 1947 में विभाजन के बाद दादाजी की दो बहनें पाकिस्तान में रह गईं और दादाजी दिल्ली आ गए. हुमा के परिवार ने भी विभाजन की पीड़ा झेली है.

source

हम बताती हैं कि उनके दादा के तीन भाई और दो बहनें थी. जैसे ही बहनों की शादी हुई वैसे ही बंटवारे का समय आ गया. ऐसे में दोनों ही बहनों का परिवार पाकिस्तान में रह गया. इसके बाद हुमा ने बताया कि बंटवारे के एक साल बीत गए तो उनके पिता सलीम कुरैशी स्पेशल वीजा पर अपनी बुआ का हाल चाल पूछने पाकिस्तान गए थे.

source

इसके बाद उनका पूरा परिवार कभी साथ में नहीं मिल पाया. इस बात का अफ़सोस हुमा को है. हुमा मानती हैं कि भारत और पाकिस्तान की सरकारों को विजा में कुछ ढील देनी चाहिए, जिससे कि दोनों देशों के बिछड़े हुए परिवार आपस में मिल सके.

source

हुमा ने यहाँ भारत के विभाजन की बात करते हुए कहा कि दोनों मुल्कों के बीच खिंची लकीर ही अवाम की तकदीर बन गई. उनका मानना है कि विभाजन का दर्द आज भी दोनों मुल्कों में बसे लोगों को टीस देता है.

source

एक थी डायन, गैंग्स ऑफ वासेपुर, गैंग्स ऑफ वासेपुर 2, डी-डे , बदलापुर, डेढ़ इश्किया जैसी फिल्मों में काम कर चुकीं हुमा कुरैशी ने अपनी आने वाली फिल्म के बारे में कहा कि ‘पार्टिशन-1947’ एक इमोश्नल कहानी है. दोनों मुल्कों की अवाम का दुःख आप इस फिल्म के जरिये देख सकेंगें. निश्चित ही खून से सने इतिहास के पन्नों पर संवेदना का मर्म उकेरने वाली यह फिल्म दर्शकों को उस दौर की सच्चाई दिखाएगी.

source

वहीँ हाल ही में हामिद अंसारी के बयान के बारे में जब हुमा से उनकी राय पूछी गयी तो उन्होंने कहा कि मैं खुद एक लड़की हूं, हिंदुस्तानी हूं और यहां खुद को पूरी तरह महफूज महसूस करती हूं.

source

हुमा ने आगे कहा कि भारत को आजाद हुए 70 वर्ष पूरे हो चुके हैं और इतने अच्छे माहौल में हमे सकारात्म बातें ही अच्छी लगती हैं. हुमा ने आगे कहा कि भारत में काफी सुधार हुआ है. बेसिक सुरक्षा तो सरकार लड़कियों को दे जा रही है मगर लड़कियों को खुद भी इतना मजबूत होना पड़ेगा कि उन्‍हें इसकी जरूरत न पड़े.