गोरखपुर बीते कुछ दिनों से सुर्ख़ियों में हैं, और यकीन मानिये सुर्ख़ियों में होने का एक भी कर्ण ऐसा नहीं है जिससे आपकी छाती चौड़ी हो, हाँ लेकिन शर्म से नज़रे झुकना, वो तय हैं. पहले बाबा राघव दास हॉस्पिटल में हुई गैस सिलेंडर की कमी के चलते गयी निर्दोषों की मौत और अब इसी घटना को और दुखद बनाता एक और ऐसा वाकया सामने निकल कर आया है जिसे देखकर आपका भी शायद योगी सरकार से भरोसा उठ जाये.

source

ये बात तो सभी जानते हैं कि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में पांच दिनों के भीतर 60 से ज्यादा बच्चों की मौत के बाद उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ और उनकी सरकार को कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में इन सब के बीच सीएम आदित्यनाथ ने रविवार दोपहर 1:30 बजे के करीब दोबारा बीआरडी अस्पताल का दौरा किया था.

27867

सीएम आदित्यनाथ के इसी दौरे के बीच एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जिसे देखकर राज्य सरकार की और ज्यादा लानत-मलानत होना तय समझिये. बताया जा रहा है कि रविवार को सीएम के दौरे के चलते जब अस्पताल के आस-पास सड़कों पर हटाकर, सुरक्षा को चाक-चौबंद किया जा रहा था कि तभी सुनील पांडे अपनी 70 वर्षीय मां लीलावती को अपने हाथ में लेकर इमरजेंसी ट्रॉमा सेंटर की ओर भागे चले जा रहे थे.

source

सुनील की अपनी बीमार मां को इस तरह गोद में लेकर भागते हुए यह तस्वीर सामने आई है. मिली जानकारी के अनुसार सीएम आदित्यनाथ के दौरे के चलते अस्पताल की ओर बढ़ने वाले ट्रैफिक को पूरी तरह से रोक दिया गया था. इस दौरान पुलिस ने सड़क पर अपनी मां को लेकर भाग रहे सुनील से भी रास्ता खाली करने को कहा.

source

लेकिन सुनील रुके नहीं और उसी तरह अपनी माँ को गोद में लेकर सुनील ट्रॉमा सेंटर की तरफ भागे. वहां मौजूद लोगों की माने तो सुनील ने ट्रॉमा सेंटर में दाखिल होने के बाद ही थोड़ी चैन की सांस ली. जब सुनील से इस मामले पर बात की गयी तो उन्होंने बताया कि, “मेरी माँ रीढ़ की हड्डी में परेशानी से जूझ रही हैं. खड़ा होना तो दूर उनसे खुद बैठा भी नहीं जाता.”

source

सुनील ने आगे बताया कि, “मुझे माँ को अस्पताल ले जाने के लिए कोई गाड़ी मिल ही नहीं रही थी, इसलिए मैं उन्हें गोद में ही लाकर एक्स-रे विभाग गया. वापिस लौटते समय मुझसे कहा गया कि सीएम साब आ रहे हैं इसलिए मुझे जल्दी करनी चाहिए. ऐसे में मेरे पास कोई और विकल्प नहीं था, मैंने अपनी मां से कहा कि वह मेरी गर्दन के पास मुझे कसकर पकड़ले और फिर में भागने लगा.”

source

सुनील के मुताबिक, जब उन्होंने अपनी मां को अस्पताल में भर्ती कराया तो उनसे एक्स-रे कराने को कहा गया था, जिसके लिए वह उन्हें पैदल ही अपने हाथों में उठाकर लेकर गए.