भारत के झंडे का नाम तिरंगा है और इस तिरंगे को बनाने का श्रेय जाता है पिंगली वैंकेया को उन्होंने ही तिरंगे का डिजाइन तैयार किया था. उन्होंने लगभग 5 सालों तक 30 देशों के झंडों पर रिसर्च किया और इस रिसर्च के नतीजे के तौर पर भारत को राष्ट्रध्वज के रूप में तिरंगा मिला. देश का झंडा देश के नागरिकों के लिए एक महत्वपूर्ण प्रतीक होता है और इस प्रतीक की सबको इज्जत करनी चाहिए.

source

आज जिस तिरंगे को हम देख रहे हैं उसको 22 जुलाई 1947 को आयोजित भारतीय संविधान सभा की बैठक के दौरान अपनाया गया था. आज जो तिरंगा हमारा राष्ट्रीय ध्वज उसका यह छठवां रूप है. इससे पहले तिरंगा थोड़ा अलग था.

source

आपको बतादें कि पार्थिव देहों से उतरे झंडों का पूरा सम्मान होना चाहिए. अगर चाहें तो इन्हें सम्मान के साथ घर पर रखें या फिर सम्मान पूर्वक एकांत में जला दें. भारत को मृत शरीर के साथ जलाना गैर कानूनी है.

source

आपको बतादें कि पार्थिव देहों से उतरे झंडों का पूरा सम्मान होना चाहिए. अगर चाहें तो इन्हें सम्मान के साथ घर पर रखें या फिर सम्मान पूर्वक एकांत में जला दें. भारत के झंडे को मृत शरीर के साथ जलाना गैरकानूनी है. शहीदों के शवों पर तिरंगे को रखने का भी तरीका है इसमें केसरिया रंग सिर की ओर होना चाहिए और हरा वाला पैरों की ओर. तिरंगे को शव के साथ सम्मान के रूप में रखा जाता है न कि कफ़न के रूप में.

source

झंडे का उपयोग अगर आप परिधान के रूप में करना चाहते हैं तो आप इसे कमर से ऊपर तक ही पहन सकते हैं कमर से नीचे नहीं. आपको ये भी पता होना चाहिए कि प्लास्टिक या नायलोन के झंडे विधि सम्मत नहीं हैं इनका उपयोग नहीं होना चाहिए.

source

फटे पुराने ध्वज नहीं फहराने चाहिए फटे पुराने ध्वजों को उतारकर इनके बदले नए ध्वज फहराने चाहिए और फटे पुराने ध्वजों को सम्मान के साथ जला देना चाहिए. अगर आपको सही झंडा खरीदना है तो वो आपको खादी की दुकानों से खरीदना चाहिए.

source

कानूनन कारों पर भी झंडा लगाना गलत है. झंडे को घरों या इमारतों पर फहराया जा सकता है. आप अपने चेहरे पर भी झंडा अंकित कर सकते हैं लेकिन उसमें कोई त्रुटि नहीं होनी चाहिए.