बीते 15 अगस्त को देश ने अपनी आज़ादी के 70 साल पूरे कर लिए और 71वां स्वतंत्रता दिवस मनाया. इस मौके पर देश के कई भागों से तमाम तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. ऐसे में असम के ढुबरी जिले के एक स्कूल से एक ऐसी तस्वीर वायरल हो रही जिसमें बाढ़ से ग्रस्त होने के बाद भी ध्वजारोहण किया गया. इस तस्वीर में साफ़ दिखाई दे रहा है कि स्कूल के शिक्षक और उनके साथ दो छोटे-छोटे स्कूली बच्चे पानी में खड़े होकर ध्वजारोहण कर रहे हैं. उनकी इस देशभक्ति को देखकर पूरा देश उन्हें सलाम कर रहा है.

Source

सोशल मीडिया पर जहां इसको लेकर तारीफ हो रही है वहीं कुछ लोग इस तस्वीर पर सवाल उठा रहे हैं कि आखिर छोटे बच्चों को इस तरीके से पानी में खड़ा क्यों किया गया. यहां तक कि उनके गले तक पानी है और ये पूरी तरीके से जोखिम से भरा हुआ है.

Source

इस तस्वीर को असम के जिस शिक्षक ने सोशल मीडिया पर अपलोड किया है उन्होंने इन बच्चों के बारे में ऐसी बात बताई जिसे जानकर आप राहत की सांस लेंगे.

Source

दरअसल जिस सरकारी स्कूल की तस्वीर वायरल हो रही है उसके एक टीचर मिज़ानुर रहमान ने ये तस्वीर फेसबुक पर अपलोड की थी लेकिन उन्हें भी उम्मीद नही थी कि ये तस्वीर इतनी वायरल हो जाएगी. वो बताते हैं कि “इस फोटो को 98 हजार से भी ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है और इसकी मुझे उम्मीद भी नही थी.”

Source

आपको बता दें कि मिज़ानुर रहमान ढुबरी ज़िले के फकीरगंज थाने के अंतरगत आने वाले नसकारा एलपी स्कूल के शिक्षक हैं और ये तस्वीर उसी स्कूल की है.

मिज़ानपुर रहमान

जब मिज़ानुर रहमान से पूछा गया कि आखिर इन छोटे-छोटे बच्चों को इस तरह पानी में खड़ा करके कहीं जानबूझकर तो नही फोटो खिंचाई ?, तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि, “नही, ऐसा नही है, हमें विभाग को स्वतंत्रता दिवस की तस्वीरें भेजनी होती है, इसलिए हमने ऐसा किया और वैसे भी जिन बच्चों को आप पानी में देख रहे हैं वे बच्चे अच्छे से तैरना जानते हैं, नही तो हम किसी भी बच्चे की जान इस तरीके से जोखिम में नही डालते.”

Source

मिज़ानुर रहमान इस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के बारे बताते हुए कहते हैं कि “यहां पढ़ने वाले बच्चे काफी गरीब परिवार से हैं और वो स्कूल आने से पहले काम करके आते हैं जिससे वे थक जाते हैं और शायद यही वजह रही कि स्वतंत्रता दिवस के दिन भी वो इसलिए लेट हो गये.”