जावीद अहमद जो कि अब उत्तर प्रदेश के पूर्व DGP हो चुकें हैं, उनकी जगह पर 1980 कैडर के यूपी के सबसे वरिष्ठ आईपीएस अफसर सुलखान सिंह को उत्तर प्रदेश का नया पुलिस महानिदेशक बनाया गया है l आपको बता दें कि सुलखान सिंह काफी तेज-तर्रार अधिकारियों में से एक हैं और इसके पहले वो पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण मुख्यालय) पद पर तैनात थे l

Source

वैसे तबादले तो हो गये और उत्तर प्रदेश को नया पुलिस महानिदेशक भी मिल गया है, उम्मीद की जा रही है कि प्रदेश की कानून व्यवस्था अब पिछली सरकार से बेहतर होगी लेकिन आज हम आपको आईपीएस सुलखान सिंह के बारे में कुछ ऐसी बाते बताने जा रहे हैं जिसे जानकर आप दांतों तले उंगलियाँ दबा लेंगेl

उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था एकदम दुरुस्त रहे इसलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आईपीएस सुलखान सिंह को DGP पदभार सौंपा है। वैसे IPS सुलखान सिंह की जिस तरीके की छवि है उसे देखते हुए कहा जाता है कि सुलखान सिंह आगरा की सांसों में बसते हैं। अरे भई चौंकिए मत! दरअसल बात ऐसी है कि आईपीएस सुलखान सिंह 1987 के अंत में आगरा के एसपी सिटी बनकर आए थे। आईपीएस सिंह एकदम जमीन से जुड़े हुए आदमी हैं और सादगी भरा जीवन जीने में यकीन रखते हैं l उनके बारे में कहा जाता है कि वे दो जोड़ी कपड़ों में चलने वाले बहुत ही साधारण तरीके से रहते थे l वैसे जैसी उनकी छवि है और आगरा से जैसा उनका लगाव है, उसको देखते हुए जब से उन्हें DGP बनाया गया है तब से आगरा का माहौल ही बदल गया।

आपको बता दें कि सुलखान सिंह आगरा के पहले ऐसे एसपी सिटी में रहे, जिन्होंने जनता के दिल में जगह बनाई। सुलखान सिंह की कार्यशैली से जनता इतनी प्रभावित थी, कि जब 1989 के अंत में उनका तबादला मेरठ हुआ, तो लोगों को दुख हुआ। लोग चाहते थे, कि वे आगरा में रुकें। वो पहले ऐसे अधिकारी थे, जिनकी विदाई के लिए जनता ने चौराहों पर रोक-रोक कर उन्हें विदाई दी।

एक वरिष्ठ पत्रकार बताते हैं कि जब कांग्रेस सत्ता में थी। उस समय एक युवती स्वीटी थी और वो कमला नगर की थी, उसका पूरे आगरा में हल्ला था। जुगाड़ के मामले में स्वीटी काफी तेज थी, उसकी पहुंच पुलिस प्रशासन से लेकर राजनीतिक लोगों तक थी। इतना ही नही उसके संबंध राजधानी तक थे। लेकिन मुश्किल तो तब हो गई जब सबको अपने इशारों पर नचाने वाली स्वीटी सुलखान सिंह के चंगुल में ऐसी फंसी कि फिर निकल नहीं पाई। सुलखान सिंह ने बिना एसएसपी और डीआईजी को बताए स्वीटी की गिरफ्तारी की। हालांकि इस मामले में राजनीतिक दबाव बहुत अधिक था, लेकिन तेज-तर्रार एसपी सिटी सुलखान सिंह के आगे किसी की नहीं चलीl

Source

सुलखान सिंह के बारे में फेमस है कि वो अपराधियों के लिए काल समान हैं, लेकिन साथ ही उनकी एक खासियत ये भी है, कि वे पारिवारिक मामलों के एक्सपर्ट भी हैं। आगरा में परिवार से जुड़़े कई मामले उनके द्वारा इतनी आसानी से सुलझाए गए, कि लोग उनके कायल हो गए। कई मामलों में तो वे सामाजिक दृष्टि से निर्णय लेते हैं।