बिहार के उप मुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने एक बार फिर से एक विवादित ट्वीट किया है जिसमें सोशल मीडिया पर उनकी खूब खिंचाई हो रही है. तेजस्वी की इस ट्वीट के बाद लोग उन्हें तरह-तरह की सलाह भी दे रहे हैं. आपकी जानकारी के लिए हम यहाँ आपको बता दें कि दरअसल इस बार तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया कि वो तड़के सुबह पांच बजे डिनर (रात का खाना) खा रहे हैं, जिसके बाद लोगों ने उनका और उनके सीमित ज्ञान का जमकर मज़ाक उड़ाया.

 

source

मिली जानकारी के अनुसार बिहार के पूर्व उप-मुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन तोड़कर भाजपा के साथ मिलकर अब जो सरकार बनाने निकल गए हैं उसके विरोध में ही तेजस्वी ‘जनादेश अपमान यात्रा’ पर निकले हैं. बता दें कि गुरुवार 17 अगस्‍त को भागलपुर में होने वाली अपनी सभा रद्द किए जाने पर तेजस्वी ने नाराजगी जताई थी.

source

बुधवार आधी रात को तेजस्वी यादव ने अपने समर्थकों के साथ भागलपुर रेलवे स्टेशन पर धरना दिया और इसी धरने में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना भी साधा. जिसके बाद 19 अगस्‍त को तेजस्‍वी ने सुबह साढ़े पांच बजे ट्वीट किया कि, “मैं अभी-अभी औरंगाबाद पहुंचा हूँ और अब जाकर मैंने ‘डिनर’ किया है. सुबह मेरी मीटिंग है. भगवान आप सभी का दिन मंगलमय करें.”

तेजस्वी के इस ट्वीट पर देखिये कैसे लोगों ने जमकर लिए उनके मज़े. बता दें कि तेजस्वी ने लगातार ही नीतीश कुमार पर ज़ुबानी हमला किया हैं. तेजस्वी ने कहा कि, “बिहार मे इतना बड़ा घोटाला हुआ है, इतनी बड़ी बाढ़ की त्रासदी है, लेकिन नीतीश जी 28 साल के युवा की सभा रद्द करवाने जैसे अलोकतांत्रिक कामों मे व्यस्त हैं.”

तेजस्वी ने नीतीश को साफ़ तौर पर चेतावनी देते हुए एक अन्य ट्वीट में लिखा कि, “सृजन घोटाले के दुर्जनों का विसर्जन करने मैं एक बार फिर भागलपुर आऊंगा. नीतीश जी, मैं भी देखता हूँ आप कितनी सभाएं रद्द करेंगे. आपके दमन में कितना दम है देखा है, आगे भी देखेंगे.”

तेजस्वी के इस ट्वीट पर एक यूजर राहुल उपाध्याय ने कहा कि, “राहुलजी की समझदारी, अरविन्द जी की ईमानदारी, हामिद जी का डर, और तेजस्वी जी की अंग्रेजी का वाकई में कोई तोड़ नहीं है.”

तो वहीँ अंगूरी भाभी ने ट्वीट करके कहा, “बेजुबान पशुओं का चारा खा जाने से ऐसे ही गधे जैसे बच्चे पैदा होते हैं. सुबह 5:30 बजे कौन डिनर खाता है? लालू अगर एक नंबरी हैं तो उनके लाल दस नंबरी.”

एक यूजर अनूप राठोड़ ने कहा कि,”काश राजनीति में भी थोड़ी बहुत पढ़ाई जरुरी होती तो ऐसे अनपढ़ गधे उपमुख्यमंत्री नहीं होते.”